Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाज'कॉन्ग्रेस ने किसानों की हत्या करवाई, देश विरोधी ताकतों से फंडिंग, राकेश टिकैत दुर्योधन':...

‘कॉन्ग्रेस ने किसानों की हत्या करवाई, देश विरोधी ताकतों से फंडिंग, राकेश टिकैत दुर्योधन’: बाबा टिकैत के दोस्त

"कॉन्ग्रेस सरकार ने ट्रैक्टर से भोजन ले कर आ रहे किसानों की हत्या करा दी थी। कई घायल भी हुए थे। प्रियंका गाँधी मुजफ्फरनगर जा रही हैं तो राजेंद्र नामक दिवंगत किसान के परिजनों से भी मिलें। माफी माँग कर..."

दिवंगत किसान नेता महेंद्र टिकैत के सहयोगी रहे चौधरी वीरेंद्र सिंह ने आजकल चल रहे ‘किसान आंदोलन’ को खरी-खरी सुनाई है। बुजुर्ग किसान नेता ने महेंद्र टिकैत के बेटे राकेश टिकैत की भी आलोचना की। चौधरी ने ‘आज तक’ पर रोहित सरदाना के शो में कहा कि महेंद्र टिकैत उनके पिता तुल्य थे और जब वो उनके साथ आंदोलन करते थे, तब राकेश टिकैत पुलिसकर्मी हुआ करते थे। उन्होंने बताया कि 1988 में जब बिजली और पानी बिल के खिलाफ किसान सड़क पर उतरे थे, वो अब तक का सबसे बड़ा किसान आंदोलन था।

बता दें कि तत्कालीन राजीव गाँधी सरकार को किसानों की 35 सूत्री माँग के आगे झुकना पड़ा था। चौधरी वीरेंद्र सिंह ने बताया कि उस वक़्त की कॉन्ग्रेस सरकार ने आंदोलन की भोजन-पानी की सप्लाई-लाइन तोड़ दी थीं और ट्रैक्टर से भोजन ले कर आ रहे किसानों की हत्या करा दी गई थी। उन्होंने कहा कि तब कई घायल भी हुए थे। उन्होंने इसे याददाश्त में रखने की नसीहत देते हुए कहा कि प्रियंका गाँधी मुजफ्फरनगर जा रही हैं तो राजेंद्र नामक दिवंगत किसान के परिजनों से भी मिलें, जिसकी तब ‘पुलिस ने हत्या कर दी’ थी।

महेंद्र टिकैत के सलाहकार रहे चौधरी वीरेंद्र सिंह ने प्रियंका गाँधी से माफी माँगने की माँग की। उन्होंने बताया कि अब जब रोज महापंचायत हो रही है, हरियाणा का दर्द कुछ और है। उन्होंने कहा कि उनके यहाँ रिवाज है कि अगर बहू को कुछ कहना होता है तो लड़कियों के द्वारा कहवाया जाता है। उन्होंने कहा कि ये कहीं पंचायत कर लें और राजनीति कर लें लेकिन हमें ये याद रखना चाहिए कि राकेश टिकैत अपने पिता की मौजूदगी में 2 चुनाव लड़ चुके हैं। उनके अनुसार,

“दिल्ली में धरना देकर बैठ जाओ या कहीं बैठ जाओ, किसान अन्नदाता तो है लेकिन वो अन्न के साथ-साथ ऐसे जवान भी पैदा करता है, जो सीमा पर पहरे देते हैं। हम ठेकेदार नहीं पैदा करते। हमारा निवेदन राकेश टिकैत से है कि वापस आकर मिल-बैठ कर बात कर लीजिए। हर लड़ाई में युद्ध-विराम होता है। ईराक और यमन में भी हुआ था। दोबारा सोचो कि तुमने क्या खोया, क्या पाया। मैं इन कृषि कानूनों के समर्थन में हूँ। मंडी समिति वाले शिकारी कुत्ते बन गए थे। हमें इन कानूनों से अब फायदा महसूस हो रहा है। कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग तो हमारी पहले से हो रही है? MSP तो अनिवार्य है, लेकिन गुणवत्ता की गारंटी कौन देगा?”

चौधरी वीरेंद्र सिंह ने ‘किसान आंदोलन’ को लेकर रखी अपनी बात (देखें 33:30 के बाद से)

वीरेंद्र सिंह ने इससे पहले भी कहा था कि राकेश टिकैत में दुर्योधन की आत्मा आ गई है और अभी श्रीकृष्ण स्वयं आ जाएँ तब भी वो कुछ नहीं सुनेंगे। 1992-2002 तक भारतीय किसान यूनियन के मुजफ्फरनगर इकाई के जिलाध्यक्ष रहे वीरेंद्र ने कहा कि इन आंदोलन को वही देश विरोधी ताकतें फंडिंग कर रही है, जो CAA विरोधी प्रदर्शनों को कर रही थी। उन्होंने इसे जिद, बालहठ और बचकाना बताते हुए कहा कि ‘बाबा टिकैत’ ज़िंदा होते तो लाल किले पर 26 जनवरी को जो हुआ, वो न होता।

उन्होंने राकेश टिकैत को 26 जनवरी की घटना के लिए आत्मसमर्पण करने की सलाह देते हुए कहा था कि उन्हें केंद्र सरकार किसान समझ रही है, लेकिन वो किसान हैं ही नहीं। उन्होंने कहा कि देश के साथ गद्दारी हो रही है। उन्होंने कहा कि बाबा टिकैत के कुर्ते में जेब नहीं थी, जबकि आजकल के किसान नेताओं के पास कई-कई जेबें हैं। उन्होंने दावा किया कि इन किसान नेताओं के पास सरकार से वार्ता के लिए कोई तर्क ही नहीं है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -