Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजशाहीनबाग के मौलाना को पूर्व छात्र ने ही अगवा किया, ₹25 लाख की फिरौती...

शाहीनबाग के मौलाना को पूर्व छात्र ने ही अगवा किया, ₹25 लाख की फिरौती माँगी: दिल्ली पुलिस ने बचाया

पूछताछ में सदाकत ने बताया कि वह पिछले 5 साल से अपनी कमाई मौलाना के पास जमा कर रहा था। उसने करीब 20 लाख रुपए जमा कर रखे थे। जब उसने अपने पैसे माँगे तो मौलाना ने लौटाने से इनकार कर दिया। इसके बाद सदाकत ने उसे मजहबी कार्यों के लिए फ्लैट पर बुलाया और कैद कर लिया।

दिल्ली के शाहीनबाग इलाके से एक मदरसे के मौलाना को अगवा कर 25 लाख रुपए की फिरौती माँगी गई। पुलिस ने 5 आरोपितों को गिरफ्तार कर मौलाना को मुक्त कराया। इनके पास से पीड़ित का मोबाइल, दो लोहे की चेन, ताले और चाबी बरामद की गई है।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने आरोपितों की पहचान सदाकत (23), शमीम (26), नबी हसन (23), फिरदौस (22) और मंजर आलम (18) के तौर पर की है। सभी आरोपित मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं। पुलिस ने बताया कि शाहीनबाग इलाके से मोहम्मद मुंतजीर आलम को अपहरणकर्ताओं के चंगुल से सकुशल मुक्त करा लिया गया है।

मौलाना मुंतजिर आलम 5 अप्रैल को गायब हो गया था। अगले दिन उसके भाई ने पुलिस से शिकायत की। एफआईआर दर्ज कर पुलिस ने पड़ताल शुरू की। इसी बीच मौलाना के परिजनों को 25 लाख रुपए की फिरौती के लिए कॉल आया। कॉल मौलाना के ही नंबर से किया गया था। सीसीटीवी फुटेज की पड़ताल करने पर पुलिस को सदाकत के बारे में सुराग मिला।

सदाकत का मोबाइल बंद था। लेकिन सब इंस्पेक्टर अरुण सिंधू ने तकनीकी मदद से उसे नोएडा के हरोल से गिरफ्तार किया। अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (अपराध) शिबेश सिंह ने बताया कि पुलिस टीम को सूचना मिली थी कि सदाकत अपनी सास के घर नोएडा में छिपा हुआ है। उससे मिली सूचना के आधार पर पुलिस ने शाहीनबाग के एन ब्लॉक के अबु फजल एन्क्लेव में छापेमारी की। मौलाना लोहे के चेन से बँधा मिला। इसके बाद चार अन्य आरोपित गिरफ्तार किए गए।

पूछताछ में सदाकत ने बताया कि 2008 में वह मौलाना का छात्र रहा था। अभी वह ओखला में फूड स्टॉल चला रहा था। वह पिछले 5 साल से अपनी कमाई मौलाना के पास जमा कर रहा था। सदाकत के मुताबिक उसने मौलाना के पास करीब 20 लाख रुपए जमा कर रखे थे। यह रकम उसने फूड स्टॉल और सट्टेबाजी से कमाई थी। जब उसने अपने पैसे माँगे तो मौलाना ने लौटाने से इनकार कर दिया। इसके बाद सदाकत से उसे अगवा करने का प्लान बनाया। उसे मजहबी कार्यों के लिए फ्लैट पर बुलाया और कैद कर लिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

ममता से मिले राजदीप तो आया मौसम रसगुल्ला का, राजनीति में अब लड्डू का हाल भी राहुल गाँधी जैसा

राजदीप सरदेसाई ने रसगुल्ले को राजनीति और पत्रकारिता के मध्य में रख दिया है। राजनीति इसे खिलाकर कठिन सवालों को रोकेगी और पत्रकारिता इसे खाकर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe