Monday, April 19, 2021
Home राजनीति जिन्ना की वारिस, कॉन्ग्रेस की संगिनी 'हरा वायरस' मुस्लिम लीग ने नागरिकता बिल-2019 को...

जिन्ना की वारिस, कॉन्ग्रेस की संगिनी ‘हरा वायरस’ मुस्लिम लीग ने नागरिकता बिल-2019 को दी चुनौती

यह वर्तमान झंडा जिहाद के पाक हुक्म, गज़वा-ए-हिन्द के सपने और दार-उल-इस्लाम व उम्मत के प्रति पहली वफ़ादारी संजो कर रखता है, बिन बोले याद दिलाता है। इतने ताकतवर प्रतीक को भला कौन हल्का करना चाहेगा?

नहीं। भाजपा वाले, “भक्त”, ‘फ़ासिस्ट’ जितना भी कहें, आप यह कतई मत मानिएगा कि ऊपर लगी तस्वीर पाकिस्तान के झंडे की है। यह उस राजनीतिक दल के झंडे की है, जिसे पाकिस्तान बनाने वाले मोहम्मद अली जिन्ना और उनकी जिहादी पार्टी ऑल इंडिया मुस्लिम लीग का वारिस कहा जाता है। यह वह पार्टी है जिसका तकनीकी तौर पर तो नाम ‘इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग’ है, लेकिन अपनी पूर्वज जिन्ना वाली पार्टी की तरह अपने पूरे नाम की जगह केवल ‘मुस्लिम लीग’ कहलवाना पसंद करती है।

इसी पार्टी ने खुद और अपने 4 सांसदों के मार्फ़त नागरिकता विधेयक को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। गौरतलब है कि 9 घंटे तक चली बहस के बाद कल रात को राज्य सभा ने नागरिकता विधेयक को मंज़ूरी दे दी है, और इसके कानून बनने में केवल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हस्ताक्षर भर की देर है। इस बिल से औपनिवेशिक काल से पहले के अखंड भारत में जिहादी बहुसंख्यकों के सताए हुए पंथिक/मज़हबी अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता के लिए तरजीह देने और इसकी प्रक्रिया को अन्य के मुकाबले सरल करने के प्रावधान हैं।

जिन्ना के साथ नूरा कुश्ती, लेकिन नीतियाँ भारत में पाकिस्तान बनाने वाली

इसे बनाने वाले मुहम्मद इस्माइल ने पहले तो जिन्ना के साथ गलबहियाँ कर पाकिस्तान आंदोलन और इसके लिए हुए हत्याकांड की साज़िशों में जम कर हिस्सेदारी की, लेकिन जिन्ना के दार-उल-इस्लाम में खुद जा कर नहीं बसे। उनके समर्थक इसे ‘हृदय-परिवर्तन’ बताते हैं, कहते हैं कि उन्हें ‘सेक्युलरिज़्म की ज़रूरत’ समझ में आ गई।

कितनी समझ में आई, इसका मुज़ाहिरा इस तथ्य से होता है कि एक तरफ़ इनके वेबसाइट पर खुद को परिभाषित करने में तीन बार ‘सेक्युलरिज़्म’ शब्द का प्रयोग हुआ है, और दूसरी ओर इस्माईल की ‘उपलब्धियाँ’ ऐसी हैं कि लगेगा किसी पाकिस्तानी नेता की बात हो रही है- शरीयत को जारी रखना, बाबरी मस्जिद के पक्ष में घेरेबंदी करना, शाहबानो मामले के फैसले के खिलाफ लड़ना, हिन्दुओं के मंदिरों को तोड़ कर बनी मस्जिदों की पैरवी आदि।

इन विरोधाभासों से इस मुस्लिम लीग और मुहम्मद इस्माईल की असलियत साफ़ है- गज़वा-ए-हिन्द के जिस जिहादी प्रोजेक्ट और 1200 साल के सपने का पाकिस्तान पहला कदम था (न कि परिणति और अंत), वह जारी रखने के लिए सेक्युलरिज़्म का धतूरा चाट धुत पड़े काफ़िरों के बीच अल्लाह का ‘सच्चा’ बंदा होना आवश्यक था, और यही भूमिका निभाने के लिए मुहम्मद इस्माईल ने मुस्लिम लीग बनाई। 2003 में हुए केरल के मराड में हुए सामूहिक हत्याकांड में इसका नाम हत्याकांड की जाँच के लिए बने थॉमस पी जोसेफ़ आयोग की रिपोर्ट में आया। आयोग के मुताबिक मुस्लिम लीग न केवल इसकी योजना बनाने, बल्कि उसे अमली जामा पहनाने में भी हिस्सेदार थी। इसके बाद 2017 में सीबीआई के हत्थे भी इसके दो नेता इसी मामले में चढ़े।

फ़िलहाल

फ़िलहाल इस पार्टी की याचिका में भारत के पड़ोसी मुस्लिम देशों के सताए हुए अल्पसंख्यकों को तरजीही शरण देने को ‘असंवैधानिक’ बताया गया है। इसे अनुच्छेद 14 के खिलाफ, मुस्लिमों के साथ भेदभाव और विधेयक की पीछे की मंशा को ‘बदनीयती’ बताया है।

साथ ही आपत्ति जताई है कि इन देशों के इस्लामी अल्पसंख्यकों जैसे अहमदिया, शिया, हज़रा, रोहिंग्या को बाहर क्यों रखा गया है। इसके अलावा ऐसे ही सवाल अन्य पड़ोसी देशों श्री लंका, नेपाल, भूटान, म्याँमार और चीन के अल्पसंख्यकों को बाहर रखने के बारे में उठाया गया है।

लेकिन इस याचिका में सबसे आपत्तिजनक बात अफ़ग़ानिस्तान को वृहद् भारतीय सभ्यता से बाहर बताना है। इस याचिका में कहा गया है कि अफ़ग़ानिस्तान कभी भी भारत का हिस्सा नहीं था, जो सौ फ़ीसदी झूठ है। अफ़ग़ानिस्तान केवल ब्रिटिश भारत का हिस्सा नहीं रहा, क्योंकि अंग्रेज़ कभी वहाँ के शासकों को हरा नहीं पाए। लेकिन इससे अफ़ग़ानिस्तान का ब्रिटेन के पहले के भारत से, आर्य और वैदिक सभ्यता से रिश्ता नहीं समाप्त हो जाता है।

योगी आदित्यनाथ ने कहा था ‘हरा वायरस’

राहुल गाँधी को जब अमेठी हाथ से छूटती दिखी तो वे मुस्लिम प्रभुत्व वाले केरल ही भागे। ऐसा उन्होंने इसलिए किया क्योंकि उनकी पार्टी का गठबंधन है मुस्लिमों की अच्छी-खासी जनसंख्या वाले केरल में चल रही मुस्लिम लीग से। और लीग का चाँद-सितारे वाला हरा झंडा ही लहराता नज़र आया उनके स्वागत में, जब वे वायनाड पहुँचे नामांकन दाखिल करने।

इसी पर उत्तर प्रदेश के सीएम और गोरखधाम मठ के पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने कह दिया कि कॉन्ग्रेस ‘हरे वायरस’ की चपेट में आ कर विलुप्त हो गई है, उनके नामांकन में कॉन्ग्रेस तो दिखी नहीं, केवल हरा-ही-हरा दिखा, तो इस पर मुस्लिम लीग नाराज़ हो गई थी।

इस झंडे और ‘मुस्लिम लीग’ नाम को लेकर एक बार पार्टी के कुछ ज़मीनी कार्यकर्ताओं ने चिंता जताई थी। उन्होंने साथ ही सुझाव दिया था कि झंडे का रंग बदल दिया जाए, और नाम में मुस्लिम की जगह ‘माइनॉरिटी’ कर दिया जाए। लेकिन कथित तौर पर पार्टी के वरिष्ठ नेतृत्व ने मना कर दिया। और सही भी है- यह वर्तमान झंडा जिहाद के पाक हुक्म, गज़वा-ए-हिन्द के सपने और दार-उल-इस्लाम व उम्मत के प्रति पहली वफ़ादारी संजो कर रखता है, बिन बोले याद दिलाता है। इतने ताकतवर प्रतीक को भला कौन हल्का करना चाहेगा?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वामपंथियों के गढ़ जेएनयू में फैला कोरोना, 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित: 4 की हालत गंभीर

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली में भी कोविड ने एंट्री मार ली है। विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित पाए गए हैं।

‘मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप’: IIT कानपुर की स्टडी में दावा- दूसरी लहर कुम्भ और रैलियों से नहीं

प्रोफेसर मणिन्द्र और उनकी टीम ने पूरे देश के डेटा का अध्ययन किया। अलग-अलग राज्यों में मिलने वाले कोरोना के साप्ताहिक आँकड़ों को भी परखा।

‘कुम्भ में जाकर कोरोना+ हो गए CM योगी, CMO की अनुमति के बिना कोविड मरीजों को बेड नहीं’: प्रियंका व अलका के दावों का...

कॉन्ग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने CMO की अनुमति के बिना मरीजों को अस्पताल में बेड्स नहीं मिल रहे हैं, अलका लाम्बा ने सीएम योगी आदित्यनाथ के कोरोना पॉजिटिव होने और कुम्भ को साथ में जोड़ा।

जमातों के निजी हितों से पैदा हुई कोरोना की दूसरी लहर, हम फिर उसी जगह हैं जहाँ से एक साल पहले चले थे

ये स्वीकारना होगा कि इसकी शुरुआत तभी हो गई थी जब बिहार में चुनाव हो रहे थे। लेकिन तब 'स्पीकिंग ट्रुथ टू पावर' वालों ने जैसे नियमों से आँखें मूँद ली थी।

मनमोहन सिंह का PM मोदी को पत्रः पुराने मुखौटे में कॉन्ग्रेस की कोरोना पॉलिटिक्स को छिपाने की सोनिया-राहुल की नई कवायद

ऐसा लगता है कि कॉन्ग्रेस ने मान लिया है कि सोनिया या राहुल के पत्र गंभीरता नहीं जगा पाते। उसके पास किसी भी तरह के पत्र को विश्वसनीय बनाने का एक ही रास्ता है और वह है मनमोहन सिंह का हस्ताक्षर।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

जिसने उड़ाया साधु-संतों का मजाक, उस बॉलीवुड डायरेक्टर को पाकिस्तान का FREE टिकट: मिलने के बाद ट्विटर से ‘भागा’

फिल्म निर्माता हंसल मेहता सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। इस बार विवादों में घिरने के बाद उन्होंने...

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,232FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe