Saturday, April 17, 2021

विषय

अनुच्छेद 370

J&K में आतंकी घटना में भारी कमी, कानून-व्यवस्था बिगड़ने पर किसी नागरिक की मौत नहीं: गृह मंत्रालय ने बताया 370 हटने का असर

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद किसी भी नागरिक की मौत कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने की वजह से नहीं हुई है।

शाह फैसल की ‘घर-वापसी’: बोला – 370 पर जो किया, उस पर पछतावा… #Indiatogether का किया समर्थन

"मुझे भारत के आंतरिक मसलों पर वैश्विक जनता से संवाद करते हुए अपने शब्दों के साथ कहीं ज़्यादा सावधानी बरतनी चाहिए थी।”

इस साल भी सेना ने नहीं निकलने दिए घर-घर से अफजल: वो ऑपरेशन जिन्होंने फेल कर दिया वामपंथियों का खूनी एजेंडा

सेना ने इस साल त्राल और डोडा को भी आतंकवाद मुक्त कर दिया है। हिज्बुल के लीडर्स का भी एक-एक कर सफाया होता रहा और यह पोस्ट अब अक्सर खाली ही रहने लगी है।

बुलेट का जवाब बैलेट से: जम्मू-कश्मीर में भारत, भारतीयों और लोकतंत्र की जीत, भाजपा का उदय है बड़ा संदेश

सन 2021 की ‘पूर्वसंध्या’ में आए ये चुनाव परिणाम बहुत कुछ कहते हैं और आगामी विधानसभा चुनावों की पूर्वपीठिका निर्मित करते हैं।

‘आंदोलनों’ के समर्थन में इस्तीफा देने वाले IAS/IPS अफसर या तो करप्शन के आरोपित या फिर थाम लेते हैं कॉन्ग्रेस का हाथ

अमूमन देखने को मिलता है कि 'आंदोलनों' के समर्थन में नौकरी छोड़ने वाले अफसर या तो करप्शन के आरोपित हैं या फिर कुछ दिन बाद उनका पॉलिटिकल एजेंडा सामने आ जाता है।

‘जो बायडेन की मदद से जम्मू कश्मीर में वापस आएगा अनुच्छेद-370, जाएगा इस्लामोफोबिया’: कॉन्ग्रेस नेता की खिलीं बाँछें

जम्मू कश्मीर की स्थानीय पार्टियों का भारत-विरोधी रुख तो जगजाहिर है, लेकिन अब कॉन्ग्रेस पार्टी भी फ़ारूक़ अब्दुल्लाह और महबूबा मुफ़्ती जैसे नेताओं के सुर में सुर मिला रही है।

‘मरने से बेहतर यही होगा कि वह हथियार उठा ले, J&K के युवाओं के पास और कोई विकल्प नहीं’ – महबूबा मुफ्ती

“जब राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया गया और अनुच्छेद 370 हटा कर इसे बाँटा गया है, तब से घाटी में आतंकवाद बढ़ा है। हर गाँव से 10-15 युवा...

370 हटने के बाद लद्दाख का पहला चुनाव, BJP ने मारी बाजी: 26 में 15 सीटों पर जीत, AAP को जीरो

लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिलने के बाद यह पहला चुनाव था। लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (LAHDC) के चुनाव में...

भारतीय तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती की बयानबाजी पड़ी भारी, पार्टी के 3 नेताओं ने दिया PDP से इस्तीफा

"बेमतलब बयानबाजी और हरकतों से आम जनता की देशभक्ति की भावना को ठेस पहुँची है, अब पार्टी का हिस्सा नहीं बने रह सकते हैं।"

‘जो हमसे छीन लिया गया, उसे वापस लेना होगा’ – महबूबा मुफ्ती ने रिहा होते ही शुरू की ‘जहर’ की खेती

लगभग 14 महीने और 1 सप्ताह बाद महबूबा मुफ़्ती को रिहा किया गया। उन्होंने कहा कि अब अनुच्छेद 370 को वापस लेने के लिए कोशिश करनी होगी।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,228FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe