Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीतिआर्टिकल 370 सच्चाई पर आधारित है, इसे प्रोपगेंडा न मानें: फिल्म देखने के बाद...

आर्टिकल 370 सच्चाई पर आधारित है, इसे प्रोपगेंडा न मानें: फिल्म देखने के बाद बोले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कहा- हर कोई देखे इसे

यामी गौतम के मुख्य रोल वाली आर्टिकल 370 फिल्म 23 फरवरी को रिलीज की गई थी। तबसे यह फिल्म अब तक ₹60 करोड़ की कमाई कर चुकी है। यामी गौतम ने हाल ही में कहा था कि जिसने पहले से यह सोच लिया कि यह फिल्म प्रोपगेंडा है, उसको समझाने का कोई फायदा नहीं है।

कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और आतंकवाद खत्म करने को लेकर बनाई गई फिल्म ‘आर्टिकल 370’ की प्रशंसा देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने की है। उन्होंने लोगों से इस फिल्म को देखने की अपील भी की है और कहा कि यह फिल्म सच्चाई पर आधारित है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने स्वयं यह फिल्म देखी और कहा, “ये फिल्म तथ्यों पर आधारित है और काफी दिलचस्प है। ये फिल्म हर किसी को देखनी चाहिए। इसे प्रोपगेंडा नहीं माना जाना चाहिए। यह बात तो सच है कि अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर में हटा दिया गया है।”

यामी गौतम के मुख्य रोल वाली आर्टिकल 370 फिल्म 23 फरवरी को रिलीज की गई थी। तबसे यह फिल्म अब तक ₹60 करोड़ की कमाई कर चुकी है। यामी गौतम भी इस फिल्म को लेकर अपनी स्पष्ट राय दे चुकी हैं। उन्होंने हाल ही में कहा था कि जिसने पहले से यह सोच लिया कि यह फिल्म प्रोपेगैंडा है, उसको समझाने का कोई फायदा नहीं है।

उन्होंने कहा, “यदि कोई इसे प्रचार और प्रोपगेंडा जैसे नामों से पुकार रहा है और कोई भी वर्ग जो पहले से ही अपने पूर्वाग्रह सोचकर सिनेमाघरों में जाता है यह ऐसी ही होगी तो आप कभी फिल्म का मजा नहीं ले पाएँगे। ऐसे लोगों को फिल्म को समझाने का कोई मतलब नहीं है। मुझे नहीं लगता कि फैन्स इन चीजों के बारे में सोचते हैं। यह फिल्म देखने वालों के लिए है और हम उनके लिए ही फिल्में बनाते हैं।”

गौरतलब है कि यामी गौतम इस फिल्म में एक NIA एजेंट जूनी हक्सर बनी हुई हैं। उन्हें पीएम ऑफिस से कश्मीर में आतंकवाद और भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए भेजा जाता है। वह फिल्म में NIA टीम की मुखिया का रोल अदा करती हैं। इस फिल्म के डायरेक्टर आदित्य जम्भाले हैं।

गौरतलब है 5 अगस्त 2019 को जम्मू कश्मीर को अलग अधिकार देने वाला अनुच्छेद 370 के प्रावधान केंद्र सरकार ने खत्म कर दिए थे। इस दौरान कश्मीर में आतंकवाद को खत्म करने के लिए भी कार्रवाई हुई थी। यह फिल्म यही दिखाने का प्रयास करती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -