विषय: दिनेश लाल यादव निरहुआ

निरहुआ

कोलकाता की झुग्गियों से भोजपुरी के फलक तक, असाधारण है मृदुभाषी निरहुआ का सफर और व्यक्तित्व

कोलकाता की गलियों में बड़े हो रहे निरहुआ के पिता एक फैक्ट्री में काम करते थे। उनका बचपन कोलकाता की झुग्गियों में बीता लेकिन आज वो भोजपुरी सिनेमा के फलक का ध्रुवतारा हैं। अब निरहुआ ने भोजपुरी सिनेमा को अश्लीलता से मुक्त करने का संकल्प लिया है।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

142,038फैंसलाइक करें
34,779फॉलोवर्सफॉलो करें
158,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements