विषय: फ़िल्म

दीपिका पादुकोण, जेएनयू

बॉलीवुड की रीत पुरानी: ‘उन्हें’ रखो सिर-माथे पर, हिंदुओं की भावना ठेंगे पर

फायदे के लिए कंट्रोवर्सी पैदा करना बॉलीवुड का पुराना ट्रेंड है। दीपिका का जेएनयू जाना भी इससे अलग नहीं है। 'उनलोगों' को नाराज़ करने का रिस्क नहीं लेने वाला बॉलीवुड पब्लिसिटी के लिए बहुसंख्यकों की भावना से भी खेलता रहता है।
शाहरुख़ ख़ान, बुर्ज खलीफा

SRK ने ख़ुद को जन्मदिन विश करने के लिए खर्च कर दिए ₹2 करोड़? सोशल मीडिया पर चल रही चर्चा

वीकेंड्स पर बुर्ज खलीफा का रेट बढ़ जाता है। इस दौरान साढ़े 3 लाख यूएई दिरहम ख़र्च करने होते हैं। अगर किसी को पाँच मिनट के लिए दुनिया की सबसे ऊँची इमारत पर कुछ प्रचार करवाना है या फिर कुछ फ़्लैश कराना है तो इसके लिए 10 लाख यूएई दिरहम तक देना पड़ सकता है।
ज़ायरा वसीम- असली बनाम फ़िल्मी पर्दे की ज़िंदगी (प्रतीकात्मक चित्र)

बॉलीवुड अल्लाह और इस्लाम से दूर कर रहा था: ‘दंगल गर्ल’ ज़ायरा वसीम ने ग्लैमर वर्ल्ड को कहा अलविदा

यह एक विडंबना है कि ज़ायरा का यह निर्णय सिल्वर स्क्रीन पर उनके द्वारा जिए गए किरदारों के व्यक्तित्व से एकदम उलट है। ज़ायरा ने अपने संक्षिप्त करियर में सामाजिक रूढ़ियों को तोड़ कर आगे बढ़ने वाली महिलाओं का किरदार निभाया है। सीक्रेट सुपरस्टार तो मुस्लिम पिता की दकियानूसी सोच के ही खिलाफ एक लड़की के ग्लैमर जगत में प्रवेश करने और सफलता पाने की ही कहानी थी।
कबीर सिंह, शहीद कपूर

5 दिन में ₹105 करोड़: ‘कबीर सिंह’ ने फ़िल्म को नकारने वाले गिरोह को लगाया ज़ोरदार तमाचा

बॉक्स ऑफिस रिपोर्ट: अगर 'कबीर सिंह' की 5 दिनों की कमाई पर नज़र डालें तो लगता है कि 200 करोड़ रुपए का नेट कलेक्शन इसकी पहुँच से दूर नहीं है। फ़िल्म को कथित इलीट वर्ग द्वारा नकारे जाने पर भी दर्शकों का भरपूर प्यार मिल रहा है।
कबीर सिंह

‘कबीर सिंह’ में जिनको मर्दवाद दिख रहा है: नकली समीक्षकों की समीक्षा

"यार तुझे पता है जब पीरियड्स होते हैं तब उसे कितना दर्द होता है। गर्म पानी का बैग रखना होता है उसकी थाई पर वगैरह वगैरह, समझ रहा है तू मेरी बात?" बॉलीवुड में संभवतः पहली मेनस्ट्रीम फिल्म, जिसके सीन में प्रेमिका के पीरियड्स की तकलीफ और दर्द पर बात की गई लेकिन फिल्म हो गई स्त्री-विरोधी! वाह!!
दक्षिण भारत, उत्तर भारत

हिंदीभाषियों के विशाल हृदय का सबूत है दक्षिण की फिल्मों का व्यापक बाज़ार

हिंदीभाषियों ने दक्षिण भारतीय भाषाओं की फ़िल्मों को एक ऐसा मार्केट दिया है, जिसकी व्यापकता देख कर हिंदी का विरोध करने वाले बेहोश हो जाएँ। बंधन प्यार से बनता है। जब वो टूटता है, तो विदेशी चीजें हमें अपना गुलाम बनाती हैं। इसे तोड़ने वालों, सावधान!
द कश्मीर फाइल्स

The Kashmir Files: राजनेताओं व मीडिया द्वारा 30 सालों की उपेक्षा के बाद विवेक की अगली फ़िल्म

विवेक अग्निहोत्री ने अपनी अगली फ़िल्म की घोषणा कर दी है। पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु के पीछे से जुड़ा सच सामने लाने के लिए 'द ताशकंद फाइल्स' नामक फ़िल्म का निर्देशन करने के बाद उनका अगला प्रोजेक्ट कश्मीरी पंडितों के विस्थापन पर आधारित होगा।
सोनू निगम

मोदी पर Eros Now की वेब सीरीज, सोनू निगम ने PM की लिखी कविता को दी आवाज़

फैसल ख़ान इस वेब सीरीज में किशोर नरेंद्र मोदी की भूमिका में दिखेंगे। लोकप्रिय संगीत निर्देशक सलीम-सुलेमान ने इसका म्यूजिक तैयार किया है। इसे 'Oh My God' और '102 Not Out' के निर्देशक उमेश शुक्ला द्वारा डायरेक्ट किया गया है।
देव आनंद

जब बनी थी बॉलीवुड की अपनी राजनीतिक पार्टी, किसको था ख़तरा, कौन डरा, किसने धमकाया, क्या हुआ अंजाम?

जब आपातकाल के बाद देव आनंद की अध्यक्षता में बनी थी बॉलीवुड की अपनी राजनीतिक पार्टी। जानिए क्या हुआ इसके बाद। राजनारायण ने क्यों जोहर के हाथ-पाँव तोड़ने की धमकी दी थी? क्या हुआ नेशनल पार्टी का और क्यों अकेले पड़ गए थे देव आनंद?

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,804फैंसलाइक करें
35,951फॉलोवर्सफॉलो करें
163,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements