विषय: Bhopal Gas Tragedy

भोपाल गैस त्रासदी

15274 मौतें, एंडरसन, शहरयार… सुषमा स्वराज ने जब राहुल गाँधी से कहा- अपनी ममा से पूछें डैडी ने…

सन् 1984। ऑपरेशन ब्लू स्टार का साल। इंदिरा गॉंधी की हत्या का साल। सिखों के नरसंहार का साल। सबसे प्रचंड बहुमत से केंद्र में सरकार बनने का साल। एक शहर के कब्रिस्तान में बदल जाने का भी साल। वो शहर है मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल। 2-3 दिसंबर 1984 की रात यहॉं यूनियन कार्बाइड नामक कारखाने से मिथाइल आइसोसाइनेट नामक जहरीले गैस का रिसाव हुआ। सुबह हुई तो शहर के एक हिस्से में लाशों का ढेर लगा था। यह शायद इतिहास की सबसे भयानक मानव निर्मित त्रासदी है। लेकिन, उससे...

25,000 लोगों की मौत की सौदागर कॉन्ग्रेस: आज ही के दिन सुप्रीम कोर्ट में खेला था गणित का ‘गंदा’ खेल

इस त्रासदी का 346 टन ज़हरीला कचरा अब भी भारत के लिए एक चुनौती बना हुआ है। ये कचरा कंपनी के कारख़ाने में कवर्ड शेड में मौजूद है। इसके ख़तरे को देखते हुए आम जन का प्रवेश यहाँ पर वर्जित है।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,507फैंसलाइक करें
36,393फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements