Saturday, March 6, 2021
97 कुल लेख

अजीत झा

देसिल बयना सब जन मिट्ठा

मंगोलपुरी से मंगलदोई तक हिंदुओ कहना ही होगा- 21 की दिशा ही नहीं, फिदायीन मोहम्मद आदिल डार भी था

उनका लक्ष्य स्पष्ट है। वे पूरे असम को मंगलदोई बनाना चाहते हैं। तय आपको करना है। बोलेंगे या शुतुरमुर्ग की तरह जमीन में सिर गड़ाए बैठे रहेंगे।

केरल के ‘कोरोना मॉडल’ पर इतनी बातें, ड्रग्स, पॉलिटिकल मर्डर और लव जिहाद पर कब बात करेंगे कॉमरेड राहुल

'हम दो हमारे दो' का ढोल पीटने वाले राहुल गॉंधी उस केरल की बात कब करेंगे जो ड्रग्स के दलदल में है। लव जिहाद से हलकान है। पॉलिटिकल किलिंग से लाल है।

जो राम मंदिर भारत की संस्कृति का प्रतीक है, उससे हिंदुओं को नीचा क्यों दिखा रही कॉन्ग्रेस?

अयोध्या में भूमि पूजन हो चुका है। निधि समर्पण अभियान चल रहा है। ऐसे में सहज जिज्ञासा हो सकती है कि इस सवाल का क्या तुक है? वजहें ठोस है और हर हिंदू के लिए जानना जरूरी है।

KHAM, यानी हिंदुओं को बाँटो-मुस्लिमों को पालोः माधव सिंह सोलंकी ने जो बोया, कॉन्ग्रेस को गुजरात में उसी ने चाटा

माधव सिंह सोलंकी का 9 जनवरी को निधन हो गया। इसके साथ ही उनके 'खाम' फॉर्मूले का यशोगान शुरू हो गया है। जानिए, क्या था KHAM और कैसे था हिंदू विरोधी?

दलित और सिख उनके लिए हथियार भी, शिकार भी

जय भीम-जय मीम और मजहब के नाम पर दलितों का नरसंहार साथ-साथ चलता है। हर दौर में सिखों के साथ भी मजहब के नाम पर वैसी ही क्रूरता की गई है।

चले गए चंदा बाबू, तीन बेटों का बलिदान देकर जंगलराज से लड़े

"कहते हैं कि अर्थी जितनी छोटी होती है उसका बोझ उतना ही बड़ा होता है। चंदा बाबू के एक नहीं तीन-तीन जवान बेटे बलिदान हुए थे उस युद्ध में।"

जब ममता बनर्जी के सिर पर लालू ने बरसाई लाठियाँ, 16 टाँके लगे थे: क्या कार्यकर्ताओं के खून पर खड़ी होगी BJP?

ममता बनर्जी भले उन लाठियों को भूल गई हों जिनसे उनका नेतृत्व चमका था। लेकिन उन्हें यह नहीं भूलना चाहिए कि इतिहास खुद को दोहराता है।

ये कॉन्ग्रेस की आखिरी सरकार, इसका लंबा भविष्य नहीं: राजस्थान के गाँवों में छाने के बाद BJP प्रदेश अध्यक्ष का दावा

राजस्थान के पंचायत और जिला परिषद चुनावों में बीजेपी की जीत के साथ ही अशोक गहलोत सरकार के भविष्य को लेकर अटकलें भी शुरू हो गई है।

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,958FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe