Tuesday, April 13, 2021

विषय

Rahat Indori

वाजपेयी के सेक्स पर शायरी: जिस अटल को विपक्षी भी करते प्रणाम, ‘घटिया’ शायर ने ठहाके के साथ उड़ाया था मजाक

"रंग चेहरे का ज़र्द कैसा है, आईना गर्द-गर्द कैसा है, काम घुटनों से जब लिया ही नहीं...फिर ये घुटनों में दर्द कैसा है" - राहत इंदौरी ने यह...

‘किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़े ही है’ के शायर राहत इंदौरी का निधन, इंटरनेट पर प्रशंसक सदमे में

मशहूर शायर राहत इंदौरी का कोरोना वायरस संक्रमण के कारण निधन हो गया है। उनका कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया था।

राहत इंदौरी ने राशन के लिए लगाई गुहार तो मदद के लिए आगे आए तजिंदर बग्गा: शायर ने कहा- बहुत शुक्रिया आपका

राहत इंदौरी की मदद करने के निवेदन पर रमेश के एक सहयोगी ने तुरंत पीड़ित परिवार के फोन नंबर पर कॉल कर के उनसे बातचीत की और फिर उन्हें उचित मात्रा में राशन उपलब्ध कराया।

हम 70 नहीं, 700 साल से मौजूद हैं, PM मोदी संविधान पढ़ें: राहत इंदौरी

उन्होंने कहा- मैं मर जाऊँ तो मेरी एक अलग पहचान लिख देना, लहू से मेरी पेशानी पे हिन्दुस्तान लिख देना। वे बोले- उठा शमशीर, दिखा अपना हुनर, क्या लेगा, ये रही जान, ये गर्दन है, ये सर, क्या लेगा...एक ही शेर उड़ा देगा परखच्चे तेरे, तू समझता है ये शायर है, कर क्या लेगा।

‘MP में बहुत अन्धकार है क्या, पता करो वहाँ कॉन्ग्रेस की सरकार है क्या’

रहत इंदौरी ने लिखा: "आजकल बिजली जाना आम हो गया है। आज भी पिछले 3 घंटों से बिजली नहीं है। गर्मी है, रमजान भी है। 'मध्य प्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत् वितरण कम्पनी लिमिटेड' के इंदौर दफ्तर में कोई फोन नहीं उठा रहा है। कुछ मदद करें।"

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,161FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe