Friday, June 21, 2024
22 कुल लेख

रचना वर्मा

पहाड़ की स्वछंद हवाओं जैसे खुले विचार ही जीवन का ध्येय हैं।

धर्म के लिए हुए बलिदान, मुगलों के सामने नहीं झुकने दी खालसा की शान: कहानी गुरु के उन साहिबजादों की जिनको समर्पित है ‘वीर...

आज 26 दिसंबर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल के बाद से यह दिन वीर बाल दिवस के तौर पर मनाया जाता है। य​ह दिन समर्पित है गुरु गोविंद सिंह के चार साहिबजादों को।

बाप के प्यार को तरसता हर बच्चा असल जिंदगी में अगर ‘एनिमल’ फिल्म का रणविजय सिंह बन जाए तो क्या हो?

'अल्फ़ा मेल' इस कदर 'मर्दानगी' दिखाने पर उतारू हो जाता है कि उससे प्यार करने वाली महिला 'जोया रियाज' (तृप्ति डिमरी) को अपने जूते चाटने को कहता है।

जिस देश के राजा कहलाते हैं ‘राम’, वहाँ भी बसी है एक ‘अयोध्या’; भक्त हनुमान को भी समर्पित है एक शहर

भारत की अयोध्या से करीब 3500 किलोमीटर दूर है, अयुथ्या (Ayutthaya)। इसे थाईलैंड की अयोध्या कहते हैं। थाईलैंड वह देश है, जिसके राजा आज भी 'राम' की उपाधि धारण करते हैं।

‘बहरा नहीं हूँ मैं’: प्यार के लिए तरसते हर बच्चे को हिंसक जानवर बना रही ‘Animal’? किशोरों को भटकाने वाले दृश्य, अभिभावकों की सख्ती...

फिल्म 'एनिमल' का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। एक दृश्य खासा चर्चा में हैं। लेकिन अगर बच्चों ने इसका गलत अर्थ लिया तो बात कहीं और निकल जाएगी।

बेटियाँ जो ब्याही जाएँ मुड़ती नहीं हैं… : काश! हर लड़की की किस्मत अमिताभ बच्चन की बेटी श्वेता नंदा जैसी होती और मिल पाता...

अमिताभ बच्चन ने प्यारी बेटी श्वेता नंदा के नाम अपना जुहू का बंगला 'प्रतीक्षा' कर दिया। एंग्री यंग मैन जैसी सोच कितने पैरेंट्स रखते हैं?

गुफा में पार्टी, 12 बच्चे, 18 दिन… उत्तरकाशी से पहले थाईलैंड में भी चला था एक रेस्क्यू अभियान, भारतीय इंजीनियरों ने ही दूर की...

उत्तरकाशी के सुरंग हादसे ने थाईलैंड की गुफा में 18 दिनों तक फँसे रहने वाले बच्चों और उनके कोच को चर्चा में ला दिया है। जानिए कैसे चला था वह बचाव अभियान।

जिस कन्हैया लाल की अस्थियों की खत्म नहीं हो रही प्रतीक्षा, उनके हत्यारों पर CM अशोक गहलोत के बेतुके दावे: क्या राजस्थान में सरेंडर...

राजस्थान की जनता का मूड तीन दिसंबर को पता चलेगा। लेकिन कन्हैयालाल के हत्यारों पर जिस तरह के बेतुके दावे सीएम अशोक गहलोत कर रहे हैं, उससे लगता है कि मतदान से पहले ही कॉन्ग्रेस सरेंडर कर चुकी है।

पीरियड्स की छुट्टियाँ या दोयम दर्जे का होने का एहसास… क्या महिलाएँ दुनिया की अजूबा जीव हैं?

डिस्मेनोरिया पर 2012 की रिसर्च बताती हैं कि कम से कम 20 फीसदी महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होने वाली तकलीफ से चलना भी मुश्किल हो जाता है।