Friday, June 21, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिगुजरात का ध्वज, बिहार का स्तंभ: 7000 को राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा का निमंत्रण,...

गुजरात का ध्वज, बिहार का स्तंभ: 7000 को राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा का निमंत्रण, विराट-सचिन से लेकर अमिताभ-अंबानी तक शामिल

राम मंदिर के चारों ओर 800 मीटर लंबी रिंग रोड भी तैयार की गई है। इस पथ पर चल कर मंदिर की पूरी परिक्रमा की जा सकेगी। परिक्रमा का हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है। फर्श के 60% हिस्से पर मार्बल लगाया भी जा चुका है।

अयोध्या में राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम 22 जनवरी, 2024 को होना है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और RSS प्रमुख मोहन भागवत उपस्थित रहेंगे। 450 वर्षों के संघर्ष के बाद हिन्दुओं को राम मंदिर मिल रहा है, ऐसे में स्वाभाविक है कि उत्साह चौगुने स्तर पर होगा। ऐसे में ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट’ ने आम लोगों से अपील की है कि वो जहाँ हैं वहीं भजन-कीर्तन करें, आसपास के मंदिरों में कार्यक्रम आयोजित करें, अयोध्या में बहुत अधिक भीड़ न लगे इसके लिए ये कहा गया है।

राम मंदिर में गुजरात का ध्वज

राम मंदिर में गुजरात से आया ध्वज लहराएगा। द्वारकाधीश की भूमि पर अयोध्या नरेश के मंदिर के लिए ध्वज स्तम्भ बनाने का कार्य शुरू हो गया है। अहमदाबाद में ऐसे 7 ध्वस्त स्तम्भों का निर्माण चल रहा है। ‘श्री अंबिका इंजीनियरिंग वर्क्स’ को इन ध्वस्त स्तम्भों के निर्माण का कार्य सौंपा गया है। मुख्य स्तम्भ सहित इनका वजन 5500 किलोग्राम होगा। कंपनी के MD भारत मेवाड़ा ने भी इसकी पुष्टि की है। राम मंदिर के चारों ओर 800 मीटर लंबी रिंग रोड भी तैयार की गई है।

इस पथ पर चल कर मंदिर की पूरी परिक्रमा की जा सकेगी। परिक्रमा का हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है। फर्श के 60% हिस्से पर मार्बल लगाया भी जा चुका है। नृत्य मंडप के साथ-साथ रंग मंडप का भी शिखर तैयार कर लिया गया है। वहीं गुजरात में जो स्तम्भ बनाए जा रहे हैं, उनकी लंबाई 44 फ़ीट है और उन्हें नागर शैली में बनाया जा रहा है। एक ध्वज स्तम्भ है, जबकि बाकी 6 ध्वज दंड। इन्हें बनाने के लिए पीतल की धातु का इस्तेमाल किया जा रहा है। शास्त्रों के हिसाब से इन्हें बनाया जा रहा है। मंदिर में प्रतिमा के बाद मुख्य केंद्र यही होगा।

बिहार के समाजसेवी राकेश पांडेय लगवा रहे ‘राम स्तम्भ’

वहीं ‘ब्रावो फार्मा’ के संस्थापक राकेश पांडेय ने अयोध्या में राम मंदिर के लिए ‘राम स्तम्भ’ के निर्माण कार्य का बीड़ा उठाया है। हाल ही में चम्पारण के 100 युवाओं को कश्मीर के तीर्थस्थलों की निःशुल्क यात्रा कराने वाले राकेश पांडेय बिहार में शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में कई सामाजिक कार्य कर रहे हैं। स्थानीय डिविजनल कमिश्नर द्वारा स्थापित ‘अयोध्या संरक्षण एवं विकास निधि समिति’ ने बताया कि 2 करोड़ रुपए की लागत से बन रहा ये ‘राम स्तम्भ’ राम जन्मभूमि मंदिर की तरफ जाने वाले रास्ते में लगेगा और नगर के समृद्ध इतिहास को बताएगा।

अयोध्या में निर्माणाधीन राम मंदिर के दर्शन को पहुँचे उद्योगपति राकेश पांडेय

ऐसे 25 ‘राम स्तम्भ’ ‘ब्रावो फाउंडेशन’ द्वारा लगवाए जाएँगे। इनकी ऊँचाई 6 मीटर और चौड़ाई 1.5 मीटर होगी। ‘अयोध्या संरक्षण एवं विकास निधि समिति’ ने ‘ब्रावो फाउंडेशन’ का स्वागत करते हुए अयोध्या की महिमा में योगदान के लिए धन्यवाद दिया। संस्था ने कहा कि इन ‘राम स्तम्भ’ से न सिर्फ अयोध्या की सांस्कृतिक विरासत में इनका अलग स्थान होगा। साथ ही ये स्तम्भ आर्किटेक्चर के मामले में दर्शनीय होंगे और श्रद्धा का भी केंद्र होंगे। राकेश पांडेय राम मंदिर के उद्घाटन कार्यक्रम में भी मौजूद रहेंगे।

राम मंदिर के लिए 8000 विशेष अतिथियों को न्योता

राम मंदिर के लिए 8000 गणमान्य अतिथियों को न्योता दिया गया है, जो प्राण-प्रतिष्ठा कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे। इनमें पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रहे विराट कोहली, वयोवृद्ध अभिनेता अमिताभ बच्चन और देश के सबसे अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी को भी आमंत्रण भेजा गया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी इस कार्यक्रम में उपस्थित रहेंगे। सचिन और विराट अक्सर धार्मिक कार्यक्रमों का हिस्सा बनते रहते हैं।

विराट कोहली को वृन्दावन स्थित प्रेमानंद महाराज के आश्रम में और महाकाल मंदिर में भी पूजा-अर्चना करते हुए पत्नी अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के साथ देखा गया था। इसी तरह सचिन तेंदुलकर भी अक्सर गणेश चतुर्थी पर विधि-विधान से पूजा करते रहे हैं। 1990 के राम मंदिर आंदोलन में बलिदान देने वाले कारसेवकों के परिवारों को भी बुलाया गया है। साथ ही 4000 साधु-संत देश भर से इस कार्यक्रम में शिरकत करेंगे। कार्यक्रम काफी भव्य होने वाला है और इसमें सभी देशों के राजदूत भी उपस्थित रहेंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -