Saturday, July 13, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'सारी टेंशन सेना की है, ये तो बस पैसे कमाएँगे': रणबीर कपूर ने सऊदी...

‘सारी टेंशन सेना की है, ये तो बस पैसे कमाएँगे’: रणबीर कपूर ने सऊदी अरब में पाकिस्तान के साथ काम करने पर भरी ‘हाँ’, भारतीयों ने लताड़ा

रणबीर कपूर से पूछा गया था कि क्या वो सऊदी अरब जैसी जगह में अपनी टीम के साथ और पाकिस्तान टीम के साथ मिलकर फिल्म करना चाहेंगे। इस पर उन्होंने जवाब दिया कि हाँ उनको बहुत खुशी होगी।

सऊदी अरब में हुए ‘रेड सी इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल’ में रणबीर कपूर ने भी शिरकत की। इस कार्यक्रम में उन्हें ‘वैरायटी इंटरनेशनल वैनगार्ड एक्टर अवार्ड’ दिया गया। इस दौरान उन्होंने पाकिस्तान की ब्लॉकबस्टर रही ‘द लीजेंड ऑफ मौला जट’ फिल्म की काफी तारीफ की। साथ ही बोला कि उन्हें पाकिस्तानी क्रू के साथ काम करने में काफी खुशी होगी।

दरअसल, रिपोर्ट्स के मुताबिक, कार्यक्रम में ऑडियंस में से एक सदस्य ने उनसे पूछा था, “आज हमारे पास सऊदी अरब जैसे प्लेटफॉर्म हैं जहाँ मिलकर फिल्में की जा सकती हैं। मुझे आपको अपनी फिल्म के लिए साइन करवाकर खुशी होगी। क्या आप अपनी टीम के साथ मिलकर पाकिस्तानी टीम के साथ सऊदी अरब में काम करना चाहेंगे?”

इस सवाल पर रणबीर कपूर ने कहा, “बिलकुल सर। मुझे लगता है कि कलाकारों के लिए कोई सीमा नहीं होती, खासकर कला में ऐसा नहीं होता। पाकिस्तानी फिल्म इंडस्ट्री को द लीजेंड ऑफ मौला जट के लिए बहुत-बहुत शुभकामानाएँ। ये पिछले कुछ सालों की सबसे बड़ी हिट है जैसा कि हमने देखा। बिलकुल मुझे साथ काम करने में खुशी होगी।

उनके इस बयान के बाद भारतीयों की सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया आ रही है। एक यूजर ने गुस्से में लिखा, “सारी की सारी टेंशन तो सेना को लेनी है। ये %$# तो पैसे कमाएँगे। अपना काम बनता भाड़ में जाए जनता। लोगों को उर्दूवुड की ये गंदगी साफ करनी होगी।”

एक यूजर ने कहा, अगर ये आदमी पाकिस्तान के साथ काम करता है तो भारत में तो इसका करियर चौपट हो जाएगा।

इसी तरह एक ट्विटर यूजर ने कहा, “जब देश की,देश की सुरक्षा,सम्मान की बात आती है तो वहां ये बात कहना गलत है कि “नो बाउंड्री फॉर आर्टिस्ट्स।” इसका मतलब ये होता है कि वो खुद को देश के सम्मान से ऊँचा मानते हैं। एक सैनिक की भी किसी दूसरे देश से व्यक्तिगत शत्रुता नहीं है लेकिन वो देश के सम्मान और सुरक्षा को महत्व देते हैं।”

अविनाश झा लिखते हैं, “इसका परदादा पृथ्वीराज कपूर जान बच के पाकिस्तान से भारत आया था और इसका पाकिस्तान प्रेम देखो फिर भी लोग इसकी फिल्म देखने जाते है।”

बता दें कि रणबीर कपूर पिछले दिनों अपनी ब्रह्मास्त्र फिल्म के कारण काफी सुर्खियों में रहे थे। उनके बीफ वाले बयान के वायरल होने के बाद उनके बॉयकॉट की माँगें उठीं थीं। इसके बाद वे और आलिया शादी के 6 महीने बाद माता-पिता बनने के कारण मीडिया की हेडलाइन्स में आए और अब उनका ये बयान लोगों में चर्चा का कारण है। उन्होंने द मौला जट्ट के हीरो फवाद खान के साथ अपनी आखिरी फिल्म 2016 में ‘ए दिल है मुश्किल’ की थी। इसके बाद उरी अटैक से भारतीय लोगों में पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा उमड़ा और उनकी भावनाओं को देखते हुए पाकिस्तानी एक्टर-एक्ट्रेस के साथ फिल्में करना बंद कर दिया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -