हाँ, भारत ने बरसाए थे बम, हमने अलकायदा को ट्रेनिंग दी: इमरान ख़ान ने एयर स्ट्राइक कबूली

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने अलकायदा से संबंध होने की बात भी स्वीकारी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी फ़ौज और आईएसआई ने आतंकियों को अफ़ग़ानिस्तान में लड़ने के लिए प्रशिक्षित किया।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने स्वीकार किया है कि बालाकोट एयर स्ट्राइक के दौरान भारतीय वायुसेना ने आतंकी कैम्पों पर बमबारी की थी। इससे उन लोगों को तगड़ा धक्का लगना तय है, जो सरकार और सेना से सबूत की माँग करते हैं। इमरान ख़ान ने कहा कि पुलवामा हमले के दौरान ‘एक कश्मीरी लड़ाका’ ने खुद को बम से उड़ा लिया। बता दें कि इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान वीरगति को प्राप्त हो गए थे। देखें वीडियो:

इमरान ख़ान ने कहा कि पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान में बम गिराए। पाकिस्तानी पीएम ने इससे पहले अंतरराष्ट्रीय मीडिया संस्थान अल जज़ीरा को दिए गए इंटरव्यू में भी बातों ही बातों में स्वीकार किया था कि भारत ने पाकिस्तान में बम बरसाए थे। इससे पहले पाकिस्तान की एक रैली में इमरान ख़ान ने भारत को धमकी देते हुए कहा था कि अगर दोबारा ऐसा हमला हुआ तो पाक चुप नहीं बैठेगा। यहाँ भी इमरान ने अप्रत्यक्ष रूप से स्वीकारा कि बालाकोट में एयर स्ट्राइक हुई थी।

इसके अलावा पाक पीएम ने पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई द्वारा अलकायदा के आतंकियों को प्रशिक्षण देने की बात भी कबूली है। उन्होंने कहा कि पाक फ़ौज और आईएसआई ने अलकायदा के आतंकियों को अफ़ग़ानिस्तान में लड़ने के लिए प्रशिक्षित किया। उन्होंने अलकायदा और पाकिस्तान के बीच सम्बन्ध होने की बात भी स्वीकार की। इमरान ख़ान की स्वीकारोक्ति भारत के उन आरोपों की नए सिरे से पुष्टि करती है कि पाकिस्तान आतंकवाद की जननी है और आतंकवादियों का पोषक है। देखें वीडियो:

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इमरान ख़ान ने कहा कि पाकिस्तान और अलकायदा के सम्बन्ध इसलिए है, क्योंकि पाकिस्तान ने उसके आतंकियों को ट्रेनिंग दी। पाक फ़ौज के प्रवक्ता आसिफ गफूर लगातार इन आरोपों से इनकार करते रहे हैं। अब इमरान ख़ान के बयान के बाद पाकिस्तान की लगातार हो रही बेइज्जती के क्रम में एक नया अध्याय जुड़ गया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: