Thursday, July 25, 2024
Homeविविध विषयअन्यदुनिया भर की T20 लीग्स में भारत के बढ़ते दबदबे और निवेश से परेशान...

दुनिया भर की T20 लीग्स में भारत के बढ़ते दबदबे और निवेश से परेशान हुआ Pak, कहा- हमारे खिलाड़ियों को नहीं मिल रहे मौके: मोईन अली ने भी जताया दुःख

साल 2008 में IPL लीग के पहले सीजन में पाकिस्तानी खिलाड़ी लीग का हिस्सा थे। उसके बाद जितने भी सीजन हुए, इनमें से किसी में भी पाकिस्तानी खिलाड़ियों को नहीं लिया गया। दोनों देशों के बीच साल 2012 के बाद से कोई द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज भी नहीं खेली गई है। दोनों टीमों का आमना-सामना सिर्फ ICC और ACC टूर्नामेंट में ही होता है।

दुनिया भर के T-20 लीग्स में भारत के दबदबे से पाकिस्तान बौखला गया है। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के बढ़ते आकार और असर पर चिंता जाहिर की है। PCB का कहना है कि फ्रेंचाइजी T-20 लीग में भारतीय निवेश बढ़ने के कारण उसके खिलाड़ी अवसरों से वंचित रह जाएँगे।

दरअसल ये, T-20 लीगों में भारतीय उद्योगपतियों और IPL फ्रेंचाइजी मालिकों की बढ़ती पैठ और उनके निवेश के बाद PCB प्रमुख रमीज रजा ने यह चिंता जाहिर की है। रमीज ने यह चिंता अन्य क्रिकेट बोर्डों के साथ साझा की है। उनका कहना है कि भारतीयों के दबदबे के कारण पाकिस्तानी क्रिकेटरों को अवसर नहीं मिलेंगे।

क्रिकेट वेबसाइट ईएसपीएन-क्रिकइंफो की एक रिपोर्ट के अनुसार, साउथ अफ्रीका और संयुक्त अरब अमीरात द्वारा शुरू किए गए T-20 लीग में IPL फ्रेंचाइजी के मालिकों ने निवेश किया है। साउथ अफ्रीका की SA-20 लीग की फ्रेंचाइजी की नीलामी में सभी 6 टीमों IPL फ्रेंचाइजी के मालिकों ने खरीदा है। वहीं, संयुक्त अरब अमीरात (UAE) की ILT-20 लीग की 6 टीमों में पाँच को भारतीयों ने खरीदा है।

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) की ILT-20 लीग के लिए साइन किए गए एकमात्र खिलाड़ी आजम खान हैं। आजम खान को अमेरिकी स्वामित्व वाली डेजर्ट वाइपर (Desert Viper) द्वारा साइन किया गया है। इसी हाल को देखकर पाकिस्तान का क्रिकेट बोर्ड चिंतित है। वहीं, मोईन अली ने भी इस पर दुख जताया है।

बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच राजनीतिक हालात ठीक नहीं होने का असर क्रिकेट पर भी पड़ा है। पाकिस्तानी खिलाड़ी IPL में नहीं खेल पा रहे हैं। वहीं, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को चिंता है कि इन देशों के भारतीय स्वामित्व वाली टीमों में भी उन्हें जगह नहीं मिलेगा। वहीं, PCB की हालत भी आर्थिक रूप से खस्ता हो गई है।

साल 2008 में IPL लीग के पहले सीजन में पाकिस्तानी खिलाड़ी लीग का हिस्सा थे। उसके बाद जितने भी सीजन हुए, इनमें से किसी में भी पाकिस्तानी खिलाड़ियों को नहीं लिया गया। दोनों देशों के बीच साल 2012 के बाद से कोई द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज भी नहीं खेली गई है। दोनों टीमों का आमना-सामना सिर्फ ICC और ACC टूर्नामेंट में ही होता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

‘वन्दे मातरम’ न कहने वालों को सेना के जवान और डॉक्टर ने Whatsapp ग्रुप में कहा – पाकिस्तान जाओ: सिद्दीकी ने करवा दी थी...

शिकायतकर्ता शबाज़ सिद्दीकी का कहना है कि सेना के जवान और डॉक्टर ने मुस्लिमों की भावनाओ को ठेस पहुँचाई है, उनके भीतर दुर्भावना थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -