Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजस्कूल में साथ पढ़ती थी अराधना, शादी कर ली तो टुकड़े-टुकड़े कर कुएँ में...

स्कूल में साथ पढ़ती थी अराधना, शादी कर ली तो टुकड़े-टुकड़े कर कुएँ में फेंका: शारजाह से लौट प्रिंस यादव ने की हत्या, UP पुलिस ने एनकाउंटर कर पकड़ा

अराधना पर प्रिंस शादी तोड़ने का दबाव बना रहा था। इनकार करने पर उसने हत्या कर दी। फिर पहचान छिपाने के इरादे से शव के टुकड़े कर दिए।

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में 16 नवम्बर 2022 को एक कुएँ से कई हिस्सों में कटा शव मिला था। सिर गायब था। यह शव अराधना प्रजापति का था। पुलिस ने इस मामले में प्रिंस यादव को रविवार (20 नवम्बर 2022) को गिरफ्तार किया। इस दौरान हुई मुठभेड़ में उसके पैर में गोली भी लगी है। बताया जा रहा है कि अराधना के शादी कर लेने से प्रिंस नाराज था। शारजाह से लौट उसने इस घटना को अंजाम दिया। इसमें उसके परिवार और रिश्तेदारी के भी कुछ लोगों ने सहयोग किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शव अहरौला थाना क्षेत्र के पश्चिमी गाँव में बरामद हुआ। शव के कई टुकड़े कर दिए गए थे। पुलिस जाँच में पता चला कि मृतका और आरोपित एक दूसरे को जानते थे। दोनों स्कूल में साथ ही पढ़े थे। अराधना पर प्रिंस शादी तोड़ने का दबाव बना रहा था। इनकार करने पर उसने हत्या कर दी। फिर पहचान छिपाने के इरादे से शव के टुकड़े कर दिए।

पुलिस ने बताया है कि प्रिंस ने 10 नवम्बर 2022 को अराधना को मंदिर में दर्शन करवाने का बहाना अपने साथ ले गया। उसने एक एक रेस्टोरेंट में उसे खाना खिलाया। यहाँ से अपनी बाइक पर बिठा कर एक गन्ने के खेत में ले गया। यह खेत उसके मामा के गाँव के पास था। यहाँ उसने अपने मामा के बेटे सर्वेश की मदद से आराधना का गला घोंट कर मार डाला। फिर शव के 6 टुकड़े किए।

पूछताछ के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि इस घटना को अंजाम देने में आरोपित के माता-पिता, बहन, मामा-मामी, ममेरा भाई और उसकी पत्नी शामिल थे। पुलिस ने कुल 8 आरोपितों को गिरफ्तार किया है। कटा हुआ सिर तालाब में फेंक दिया गया था, जिसे बरामद कर लिया गया है। गन्ने के खेत में मृतका का मास्क मिला है और शव को काटते हुए खून लगी पत्तियों को भी पुलिस ने कब्जे में लिया है। घटना में प्रयोग हुआ बाँका (धारदार हथियार) और लकड़ी का बोटा बरामद कर लिया गया है। मुठभेड़ के दौरान आरोपित प्रिंस के पास से तमंचा और कारतूस भी बरामद हुआ है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -