Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजमजदूर सोनू आलम से निकाह के लिए आरती ने अपना लिया था इस्लाम, अब...

मजदूर सोनू आलम से निकाह के लिए आरती ने अपना लिया था इस्लाम, अब फंदे पर लटकता मिला शव: फेसबुक से हुई थी दोस्ती, करता था प्रताड़ित

ओपी थाना अध्यक्ष ओम प्रकाश ने बताया घटना की जाँच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत का खुलासा हो पाएगा। पुलिस इस एंगल से भी मामले की जाँच कर रही है कि आरती ने खुदकुशी की है या उसकी हत्या करके आत्महत्या का रंग देने की कोशिश की गई है।

बिहार के पूर्णिया (Purnia, Bihar) से एक ऐसा मामला सामने आया है, जो लव जिहाद (Love Jehad) को लेकर आँखें खोलने वाली है। यहाँ के रहने वाले सोनू आलम के झाँसे में फँसकर धर्मांतरण (Religious Conversion) के बाद निकाह करने वाली की एक लड़की ने आत्महत्या (Suicide) कर ली।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की रहने वाली आरती नाग शौहर आलम की मारपीट और उसके परिजनों की प्रताड़ना बर्दाश्त नहीं कर पाई और अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। इसके पहले उसने पंचायत में भी प्रताड़ना की शिकायत की और इसको लेकर पंचायत भी हुई, लेकिन उसके ससुराल वालों पर इसका असर नहीं हुआ।

पूर्णिया के मोहम्मदपुर गाँव का रहने वाला सोनू आलम बेंगलुरु में मजदूरी करता है। उसने सोशल मीडिया साइट फेसबुक (Facebook) पर छत्तीसगढ़ की रहने वाले जुगनू राम की बेटी आरती नाग को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी। धीरे-धीरे दोनों में बातचीत होने लगी।

आरती सोनू आलम के झाँसे में इस तरह फँसी की उसने हिंदू धर्म छोड़कर इस्लाम अपना लिया और सोनू के साथ भागकर निकाह कर लिया। निकाह के बाद सोनू आरती को लेकर अपने गाँव चम्पानगर ओपी थाना क्षेत्र के गोकुलपुर पंचायत के मोहम्मदपुर आ गया।

मोहम्मदपुर आने के बाद आरती के साथ जुल्म-ओ-सितम का सिलसिला शुरू हुआ। सोनू आलम उसके साथ अक्सर मारपीट करने लगा। इतना ही नहीं, उसके घर वाले भी बात-बात पर आरती के साथ मारपीट करने लगे। उसे इतना जलील और प्रताड़ित किया जाने लगा कि उसका जीना दूभर हो गया।

शौहर और ससुराल वालों की प्रताड़ना से तंग आकर दो महीना पहले आरती ने भागकर गोकुलपुर पंचायत के मुखिया से अपनी आपबीती बताई। पंचायत प्रतिनिधियों के हस्तक्षेप के बाद भी आरती को न्याय नहीं मिला। उसका उत्पीड़न जारी रहा। इसके बाद मंगलवार (18 अक्टूबर 2022) को आरती ने गले में फंदा डालकर आत्महत्या कर ली।

उधर सोनू आलम की अम्मी शाहजहाँ बेगम का कहना है कि आरती एक सप्ताह से तनाव में थी। शाहजहाँ ने पुलिस को बताया, “मैं आरती को अपने मायके जाने के लिए भी कही थी। मंगलवार की सुबह करीब 5 बजे घास लाने अपने खेत चली गई और करीब 7 बजे घास लेकर आई तो घर में आरती गले में फंदा लगा लटकी हुई थी।”

ओपी थाना अध्यक्ष ओम प्रकाश ने बताया घटना की जाँच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत का खुलासा हो पाएगा। पुलिस इस एंगल से भी मामले की जाँच कर रही है कि आरती ने खुदकुशी की है या उसकी हत्या करके आत्महत्या का रंग देने की कोशिश की गई है।

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुँचकर मृतका के शव को कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम के लिए पूर्णिया के राजकीय मेडिकल कॉलेज अस्पताल भेज दिया। इस घटना के संबंध में आरती की सास शाहजहाँ बेगम ने चम्पानगर ओपी थाने में लिखित सूचना दी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -