Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजअवैध मदरसे पर चला योगी सरकार का बुलडोजर: पशुपालन के नाम पर सरकारी जमीन...

अवैध मदरसे पर चला योगी सरकार का बुलडोजर: पशुपालन के नाम पर सरकारी जमीन पर बसे, पढ़ने लगे नमाज और चलने लगी मजहबी गतिविधियाँ

इस कार्रवाई की जानकारी खुद अमरोहा के जिलाधिकारी ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर की है। उनके द्वारा शेयर किए गए वीडियो में मौके पर भारी पुलिस बल तैनात दिखाई दे रहा है।

उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले में एक अवैध मदरसे पर बुलडोजर चलाया गया है। उस पर सरकारी जमीन पर बने होने का आरोप था। ग्रामीणों का आरोप है कि सरकारी जमीन पर काफी समय पहले कुछ लोगों ने नमाज़ पढ़ना शुरू किया था। बाद में वहाँ मस्जिद और मदरसा बन गया था। जब DM को इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने अवैध निर्माण को ध्वस्त करवाया। प्रशासन ने यह कार्रवाई शनिवार (16 जुलाई 2022) को की।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मदरसा हसनपुर तहसील के जेबड़ा गाँव में बनाया गया था। अवैध निर्णाम करने वालों ने इस जगह को जानवरों को पालने के नाम पर ली थी। उन्होंने गाँव वालों को लिखित में आश्वासन दिया था कि वो उस स्थान पर जानवरों का चारा रखेंगे। बाद में वहाँ मजहबी गतिविधियाँ शुरू हुईं तो ग्रामीणों ने इसका विरोध किया। अमरोहा के DM बी के त्रिपाठी के मुताबिक जगह को कब्ज़ा करने वालों को चिन्हित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन सभी पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

इस कार्रवाई की जानकारी खुद अमरोहा के जिलाधिकारी ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर की है। उनके द्वारा शेयर किए गए वीडियो में मौके पर भारी पुलिस बल तैनात दिखाई दे रहा है। 2 बुलडोजर अवैध निर्माण को गिराते हुए दिखाई दे रहे हैं। बुलडोजरों के आगे टूटी ईंटों का मलबानुमा ढेर लगा भी दिख रहा है।

एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक अमरोहा मदरसा बोर्ड जिले के उन मदरसों की जाँच करवा रहा है जो आधुनिकीकरण योजना का लाभ ले रहे थे। अब तक कुल 208 मदरसे जाँच के दायरे में बताए जा रहे हैं। ये मदरसे जिले के विभिन्न तहसील क्षेत्रों में हैं। SDM सुधीर कुमार के मुताबिक कार्रवाई गाँव वालों की शिकायत पर हुई है।

बताया जा रहा है कि मदरसा प्रबंधक ने बाद में गाँव वालों की आपत्ति को ही दरकिनार कर दिया था। कुछ समय बड़ा वहाँ पर जुमे की नमाज़ में तनाव फैलने लगा था। अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद मदरसे के मैनेजर ने प्रशासन को बताया कि मदरसा सरकारी नहीं बल्कि उनके पुरखों की जमीन पर बना हुआ है। हालाँकि जाँच के दौरान उसका दावा गलत साबित हुआ।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -