Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजJ&K के किश्तवाड़ में तिरंगा फहराने के लिए भारतीय छात्रों को करना पड़ रहा...

J&K के किश्तवाड़ में तिरंगा फहराने के लिए भारतीय छात्रों को करना पड़ रहा है आन्दोलन

कॉलेज के प्रिंसिपल पवन कुमार ने यह भी कहा कि भारत का झंडा फहराने की माँग की घटना पहली बार हो रही है।

जम्मू-कश्मीर राज्य भारत-विरोधी ताकतों के चंगुल में किस कदर फँसता चला जा रहा है, इसका जीता-जागता उदाहरण किसी को देखना हो तो जम्मू के किश्तवाड़ में चले जाना चाहिए। सरकारी डिग्री कॉलेज में छात्रों को देश का राष्ट्रीय झंडा फहराने के लिए आंदोलनरत होना पड़ रहा है। एएनआई के ट्वीट के मुताबिक छात्रों ने उन्हें पत्र लिखकर दो दिन के भीतर झंडा फहराए जाने की माँग की। इसपर उन्होंने कहा कि ‘नियमों के दायरे के भीतर’ इसके लिए कार्रवाई की जाएगी। सवाल है कि देश के अन्दर राष्ट्रीय झंडा फहराने के लिए किसी अनुमति की आवश्यकता ही क्यों हो?

‘बाहरी लोग’ लगा रहे ‘आग’, पुलिस से कर दी है शिकायत: प्रिंसिपल

इस बीच कॉलेज के प्रिंसिपल पवन कुमार ने यह भी कहा कि भारत का झंडा फहराने की माँग की घटना पहली बार हो रही है। उन्हें यह माँग लिखित में दो दिन पहले मंगलवार को ही प्राप्त हो गई थी। बुधवार को हुए विरोध प्रदर्शन के बारे में उनका आरोप है कि यह कुछ बाहरियों का काम है, जो छात्रों को भड़का रहे हैं, उन्होंने यह भी जोड़ा कि उन्होंने पुलिस को बाहरियों को यथासंभव ढूँढ़ निकालने के लिए इत्तला दे दी है

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -