Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजबिहार के मधुबनी में DPO लापता, पत्नी ने दर्ज कराया अपहरण का मामला, परिवार...

बिहार के मधुबनी में DPO लापता, पत्नी ने दर्ज कराया अपहरण का मामला, परिवार ने कहा – किसी से कोई झगड़ा नहीं था: CCTV-मोबाइल लोकेशन खँगाल रही पुलिस

बताया गया कि DPO ने ब्लैकमेल करने वाले को कुछ पैसे भी भेजे थे। पुलिस का कहना है कि राजेश कुमार दबाव में भी थे। पुलिस के मुताबिक, मामले में जाँच की जा रही है।

गोपालगंज में साम्प्रदायिक व सारण में जातीय तनाव के बाद अब बिहार के मुजफ्फरपुर से एक DPO (जिला कार्यक्रम पदाधिकारी) के लापता होने की खबर है। गायब हुए अधिकारी का नाम राजेश कुमार मिश्रा है जो मधुबनी जिले में तैनात थे। राजेश की पत्नी ने उनके अपहरण की FIR दर्ज करवाई है। 59 वर्षीय लापता DPO के परिजनों के मुताबिक, रविवार (5 जनवरी 2023) की दोपहर से उनका कुछ भी अता-पता नहीं है। वहीं पुलिस का कहना है कि DPO को किसी वीडियो के सहारे पैसों के लिए ब्लैकमेल किया जा रहा था। फ़िलहाल मामले की जाँच की जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामला अहियापुर थानाक्षेत्र के ग्राम अयाची का है। यही पर DPO अपने परिवार के साथ रहते हैं। सोमवार (6 फरवरी 2023) को उनकी पत्नी अर्चना ने थाने में पहुँच कर उनके अपहरण होने की आशंका जताई। पुलिस ने केस दर्ज कर के जाँच शुरू कर दी है। अर्चना ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि मधुबनी में पोस्टेड उनके पति रविवार को छुट्टी होने के चलते शनिवार को घर आए थे। उनके घर में सब सही चल रहा था और उनके पति का घर, मोहल्ला और ऑफिस मिला कर किसी से कोई विवाद भी नहीं था।

अर्चना के मुताबिक, रविवार को उनके पति दोपहर को अकेले ही घर से बाहर निकले लेकिन अब तक लौट कर वापस नहीं आए।

DPO की पत्नी ने यह भी बताया कि पुलिस ने उनके पति को खोजने में समय लगने की बात कही है। CCTV कैमरे में राजेश मिश्रा घर से मुख्य सड़क की तरफ जाते दिखाई दे रहे हैं। वहीं DSP राघव दयाल के मुताबिक DPO को पिछले कुछ समय से कोई किसी वीडियो के नाम पर पैसे के लिए ब्लैकमेल कर रहा था। बताया गया कि DPO ने ब्लैकमेल करने वाले को कुछ पैसे भी भेजे थे। पुलिस का कहना है कि राजेश कुमार दबाव में भी थे। पुलिस के मुताबिक, मामले में जाँच की जा रही है।

कुछ खबरों में ये भी कहा जा रहा है कि अधिकारी को सेक्सटॉर्शन गिरोह ने निशाना बनाया था। आशंका है कि ये साइबर फ्रॉड का मामला है, जिसके तहत उन्हें ब्लैकमेल कर के उनसे कई बार रुपए ऐंठे गए थे। इसीलिए, पुलिस उनके बैंक खाते के डिटेल्स भी खँगाल रही है। उन्होंने दोपहर में घर से निकलने से पहले अपने इंजिनियर बेटे के साथ भोजन भी किया था। बीबीगंज उनका अंतिम मोबाइल लोकेशन बता रहा है। उनका सरकारी और निजी – दोनों फोन नंबर फ़िलहाल ऑफ है। फ़िलहाल फिरौती की कोई माँग भी नहीं की गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -