Thursday, August 18, 2022
Homeराजनीति'राकेश टिकैत के आंदोलन को कॉन्ग्रेस की फंडिंग, बल प्रयोग कर के हटाए जाएँ...

‘राकेश टिकैत के आंदोलन को कॉन्ग्रेस की फंडिंग, बल प्रयोग कर के हटाए जाएँ प्रदर्शनकारी’: किसान नेता का बड़ा खुलासा

BKU (भानु) के अध्यक्ष और किसान नेता ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने माँग की कि अगर प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए बल प्रयोग करने की ज़रूरत पड़े तो ऐसा किया जाना चाहिए।

BKU (भानु) के अध्यक्ष और वरिष्ठ किसान नेता भानु प्रताप सिंह ने आरोप लगाया है कि राकेश टिकैत कॉन्ग्रेस की फंडिंग से अपना आंदोलन चला रहे हैं। ‘भारतीय किसान यूनियन (भानु)’ के अध्यक्ष ने कहा कि राकेश टिकैत फंडिंग के ऊपर ही काम करते हैं। बता दें कि पिछले 1 साल से चल रहे ‘किसान आंदोलन’ के दौरान दिल्ली की सीमाओं को जाम कर के रखा गया, जिससे आम लोगों को खासी परेशानी हुई। अंत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा की।

हालाँकि, इन सबके बावजूद ये आंदोलन रुकने का नाम नहीं ले रहा है और BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत रोज नए मुद्दे लेकर आ रहे हैं। ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने आरोप लगाया कि कॉन्ग्रेस पार्टी चाहती ही नहीं है कि ये ‘किसान आंदोलन’ ख़त्म हो, तभी तीनों कृषि कानूनों को वापस लिए जाने के बावजूद दिल्ली की सीमाएँ खाली नहीं की जा रही हैं। उन्होंने माँग की कि अगर प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए बल प्रयोग करने की ज़रूरत पड़े तो ऐसा किया जाना चाहिए।

इससे पहले ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने राकेश टिकैत को ‘आतंकवादी’ भी करार दिया था। 26 जनवरी, 2021 को ट्रैक्टर रैली के नाम पर जिस तरह से दिल्ली में हिंसा हुई और कट्टरवादी सिख संगठनों के साथ मिल कर प्रदर्शनकारियों ने कई पुलिसकर्मियों को घायल कर के लाल किला पर झंडा फहराया, उसके बाद से ही खुद को इस आंदोलन से अलग कर भानु प्रताप इस पर हमलावर हैं। अब राकेश टिकैत 700 मृतक किसानों की बात कर उनके लिए मुआवजा और MSP की गारंटी पर कानून की माँग कर रहे हैं।

राकेश टिकैत ने इसके लिए 5 सदस्यीय समिति के गठन का भी ऐलान किया है, जो केंद्र सरकार से बातचीत करेगी। ‘संयुक्त किसान मोर्चा’ की इस समिति में बलबीर सिंह राजेवाल, शिव कुमार कक्का, गुरनाम सिंह चढ़ूनी, युद्धवीर सिंह और अशोक धवले शामिल हैं। राकेश टिकैत ने कहा कि केंद्र से बातचीत के लिए ये ‘आधिकारिक कमिटी’ है। SKM की बैठक के बाद उन्होंने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से किसानों की बातचीत बेनतीजा रही।

कुछ दिनों पहले ही खबर आई थी कि राकेश टिकैत अब बैंकों के निजीकरण के खिलाफ आंदोलन करने के मूड में हैं। बैंकों के निजीकरण के खिलाफ बोलते हुए किसान नेता राकेश टिकैत ने देशव्यापी आंदोलन का आह्वान किया था। उन्होंने ट्वीट कर संकेत दिया था कि वह अब नए मुद्दे को लेकर मोदी सरकार को घेरने वाले हैं। उन्होंने लिखा था, “हमने आंदोलन की शुरुआत में आगाह किया था कि अगला नंबर बैंकों का होगा। नतीजा देखिए, 6 दिसंबर को संसद में सरकारी बैंकों के निजीकरण का बिल पेश होने जा रहा है। निजीकरण के खिलाफ देश भर में साझा आंदोलन की जरूरत है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोहिंग्या और बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए आधार कार्ड बनवा रहा है PFI : पटना पुलिस की जाँच में बड़ा खुलासा

फर्जी दस्तावेज से पीएफआई बनवा रहा है रोहिंग्याओं और बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए आधार कार्ड। पटना पुलिस की जाँच में बड़ा खुलासा।

श्रीकृष्ण ही सत्य हैं, अब तो ‘सुलेमान’ भी साक्षी है: द्वापर के इतिहास को आज से जोड़ती है ‘कार्तिकेय 2’, नए पैन-इंडिया स्टार का...

'कार्तिकेय 2' ने ये सुनिश्चित कर दिया है कि इस फ्रैंचाइजी जी अगली फिल्म पैन-इंडिया होगी। निखिल सिद्धार्थ का अभिनय उम्दा और उनकी स्क्रीन प्रेजेंस दमदार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
215,056FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe