Tuesday, August 3, 2021
Homeराजनीति'TMC के गुण्डों द्वारा डॉक्टर के चैंबर पर कब्जा, लूट, हिंसा': बंगाल में BJP...

‘TMC के गुण्डों द्वारा डॉक्टर के चैंबर पर कब्जा, लूट, हिंसा’: बंगाल में BJP समर्थकों की पीड़ा पर स्वप्न दासगुप्ता ने NHRC को लिखा पत्र

"भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों के घरों की व्यवस्थित रूप से पहचान की गई, वहाँ लूटपाट की गई और उनको ध्वस्त कर दिया गया। कई श्रमिकों पर बेरहमी से हमला किया गया, जबकि अन्य को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी गई। सैकड़ों लोग बेघर हो गए और कई अपनी जान बचाने के लिए तारकेश्वर से भाग गए। इनमें से कुछ लोग अभी भी घर नहीं लौट पा रहे हैं।"

पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के तारकेश्वर में चुनावी नतीजों के बाद हुई हिंसा मामले पर राज्यसभा सांसद स्वप्न दासगुप्ता ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को पत्र लिखा है। ये पत्र राजीव जैन को संबोधित है। इसमें उन्होंने बताया है कि उनके विाधानसभा क्षेत्र में सत्ताधारी पार्टी टीएमसी ने लगातार लोगों पर अत्याचार किए। पत्र में उन्होंने जोर दिया कि लोगों के साथ ये सब इसलिए हुआ क्योंकि उनका झुकाव भाजपा की ओर है।

पत्र में उन्होंने कहा, “भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों के घरों की व्यवस्थित रूप से पहचान की गई, वहाँ लूटपाट की गई और उनको ध्वस्त कर दिया गया। कई श्रमिकों पर बेरहमी से हमला किया गया, जबकि अन्य को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी गई। सैकड़ों लोग बेघर हो गए और कई अपनी जान बचाने के लिए तारकेश्वर से भाग गए। इनमें से कुछ लोग अभी भी घर नहीं लौट पा रहे हैं।”

पत्र का स्क्रीनशॉट

उन्होंने बताया कि कैसे राज्य में भाजपा कार्यकर्ताओं के बिजनेस को जबरन बंद करवा दिया गया था और सत्ताधारी सरकार ने उन्हें अपनी आजीविका कमाने की अनुमति देने के लिए ‘प्रोटेक्शन मनी’ की माँग की थी। पत्र में राज्यसभा सांसद ने कुल 9 मामलों पर प्रकाश डाला है, जहाँ तृणमूल कॉन्ग्रेस के गुंडों ने हिंसा और बर्बरता की।

उन्होंने बताया कि टीएमसी कार्यकर्ताओं द्वारा दो (अज्ञात) भाजपा कार्यकर्ताओं को उनके घरों में घुसने से रोकने के लिए धमकी दी गई। वहीं पेशे से डॉक्टर एक भाजपा कार्यकर्ता के चैंबर पर कब्जा कर लिया गया और उसे टीएमसी क्लब में बदल दिया। एक मुस्लिम व्यक्ति को भी ईद के दौरान नमाज पढ़ने से रोक दिया गया, क्योंकि वह भाजपा समर्थक था। स्वप्न दासगुप्ता बताते हैं कि, क्षेत्र में एक महासचिव के घर में तोड़फोड़ हुई और एक भाजपा कार्यकर्ता, जो पेशे से कार डीलर है, उसकी सभी कारों को टीएमसी के गुंडों ने तोड़ दिया और सबकुछ क्षतिग्रस्त कर दिया। 

पत्र का स्क्रीनशॉट

राज्यसभा सांसद ने लिखा, “इस संबंध में तारकेश्वर थाने में पूर्व में दर्ज एक शिकायत संलग्न कर रहा हूँ, जिस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। शिकायत में चुनाव के बाद की हिंसा के 260 से अधिक पीड़ितों की सूची है। यह न तो पूर्ण है और न ही संपूर्ण है, लेकिन आपको कार्रवाई करने के लिए पर्याप्त प्रारंभिक बिंदु प्रदान करेगी।”

उन्होंने आगे अनुरोध करते हुए लिखा, “जितना जल्दी हो सके, मैं आपसे आग्रह करता हूँ कि एक कमेटी का दौरा किया जाए ताकि पीड़ितों के लिए राहत का आँकलन हो और उसके लिए मंजूरी मिले। इस दौरान, समिति प्रथम दृष्टया में अपराध के लिए जिम्मेदार व्यक्तियों और उन अधिकारियों की पहचान करे जिन्होंने इस मुद्दे पर चुप्पी बनाए रखी। इसके अलावा, जो लोग हिंसा के डर से भाग गए थे, उन्हें अपने घरों और व्यवसाय के स्थानों पर लौटने के सक्षम किया जाए।”

बंगाल में राजनीतिक हिंसा

गौरतलब है कि बंगाल में चुनावी जीत के बाद टीएमसी द्वारा की जा रही हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है। नतीजों के बाद सिर्फ भाजपा के 2 दर्जन से ज्यादा कार्यकर्ता मारे जा चुके हैं। बुद्धिजीवियों और शिक्षाविदों के समूह (जीआईए) द्वारा प्रस्तुत एक रिपोर्ट में इस मामले पर प्रकाश देते हुए यह उल्लेख किया गया था कि चुनाव जीतने के बाद टीएमसी के क्रोध का उन लोगों को सामना करना पड़ रहा है जो हिंदू थे और भाजपा को वोट दिया था।

रिपोर्टों के अनुसार, महिलाओं के साथ बलात्कार किया गया, घरों में तोड़फोड़ की गई, दुकानों को लूटा गया और इन सबसे डरकर कई हिंदू परिवार खुद को बचाने के लिए पड़ोसी राज्यों में चले गए। कई महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में अपनी गवाही में, भाजपा को समर्थन देने के कारण क्रूर बलात्कार, सामूहिक बलात्कार और यौन उत्पीड़न के साथ-साथ उन पर किए गए अन्य अत्याचारों का खुलासा भी किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘माँस फेंक करते हैं परेशान’: 81 हिन्दू परिवारों ने लगाए ‘मकान बिकाऊ है’ के पोस्टर, एक्शन में मुरादाबाद पुलिस

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद स्थित कटघर थाना क्षेत्र में स्थित इस कॉलोनी में 81 हिन्दू परिवारों ने 'मकान बिकाऊ है' के पोस्टर लगा दिए हैं। वहाँ बसे मुस्लिमों पर परेशान करने के आरोप।

4 साल में 4.5 करोड़ को मरवाया, हिटलर-स्टालिन से भी बड़ा तानाशाह: ओलंपिक में चीन के खिलाड़ियों ने पहना उसका बैज

जापान की राजधानी टोक्यो में चल रहे ओलंपिक खेलों में चीन के दो खिलाड़ियों को स्वर्ण पदक जीतने के बाद माओ का बैज पहने हुए देखा गया। विरोध शुरू।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,740FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe