Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजदाने-दाने को मोहताज पाकिस्तान अब अल्लाह भरोसे: वित्त मंत्री बोले - 'अल्लाह मुल्क बना...

दाने-दाने को मोहताज पाकिस्तान अब अल्लाह भरोसे: वित्त मंत्री बोले – ‘अल्लाह मुल्क बना सकता है तो अमीर भी बना सकता है’

विदेशी कर्ज और विश्व बैंक की सहायता से अब तक गुजारा चलाने वाले पाकिस्तान में लोग भोजन के लिए मोहताज नजर आ रहे हैं। पाकिस्तान में सरसों का तेल 553 रुपए लीटर, दूध 150 रुपए लीटर, आटा 150 रुपए किलो और चावल 147 रुपए किलो मिल रहा है। वहीं, कॉमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमत 10,000 रुपए तक पहुँच गई है।

पाकिस्तान (Pakistan) गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहा है। वहाँ के लोगों को खाने के लिए रोटी और उसे बनाने के लिए LPG गैस नहीं मिल पा रही है। संकट की इस स्थिति में पाकिस्तान के वित्त मंत्री को अब अल्लाह पर भरोसा है। उन्होंने कहा है कि अगर अल्लाह पाकिस्तान बना सकता है तो वह इस्लाम के नाम पर बने इस मुल्क की तरक्की और विकास के साथ इसे अमीर भी बना सकता है।

इस्लामाबाद में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पाकिस्तानी वित्त मंत्री इशाक डार ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि उनका देश तरक्की करेगा, क्योंकि यह इस्लाम के नाम पर बनाया गया था। उन्होंने कहा कि अगर अल्लाह पाकिस्तान बना सकता है तो वह उसकी रक्षा, विकास और समृद्धि भी कर सकता है।

इशाक डार ने पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की आलोचना करते हुए कहा कि मौजूदा सरकार को पिछली सरकार से कई समस्याएँ विरासत में मिली हैं। उन्होंने आगे कहा है कि अब वह प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के नेतृत्व में पाकिस्तान की स्थिति को सुधारने की पूरी कोशिश कर रहे हैं।

उन्होंने यह भी कहा है कि पाकिस्तान पिछली सरकार की करतूतों और करीब पाँच साल पहले शुरू किए गए ‘नाटक’ का खामियाजा भुगत रहा है। साल 2013 से 2017 के बीच नवाज शरीफ के नेतृत्व में पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था मजबूत थी। पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज दक्षिण एशिया में सबसे अच्छा पूँजी बाजार था। नवाज शरीफ के कार्यकाल में स्टॉक एक्सचेंज पाँचवे स्थान पर था।

पाकिस्तानी वित्त मंत्री ने कहा है कि नवाज शरीफ के कार्यकाल में पाकिस्तान विकास की राह पर था, लेकिन फिर पटरी से उतर गया। उन्होंने कहा कि लोग देख सकते हैं कि देश ने पिछले पाँच सालों में कितनी तबाही झेली है। लोग जानते हैं कि यह सब किसने किया है, इसके लिए कौन जिम्मेदार है।

बता दें कि पाकिस्तान बेहद गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहा है। विदेशी कर्ज और विश्व बैंक की सहायता से अब तक गुजारा चलाने वाले पाकिस्तान में लोग भोजन के लिए मोहताज नजर आ रहे हैं। पाकिस्तान में सरसों का तेल 553 रुपए लीटर, दूध 150 रुपए लीटर, आटा 150 रुपए किलो और चावल 147 रुपए किलो मिल रहा है। वहीं, कॉमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमत 10,000 रुपए तक पहुँच गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15 अगस्त को दिल्ली कूच का ऐलान, राशन लेकर पहुँचने लगे किसान: 3 कृषि कानूनों के बाद अब 3 आपराधिक कानूनों से दिक्कत, स्वतंत्रता...

15 सितंबर को जींद और 22 सितंबर को पीपली में किसानों की रैली प्रस्तावित है। किसानों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष को जमानत दिए जाने की भी निंदा की।

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -