Thursday, April 22, 2021

विषय

राणा सांगा

एक वीर और भी था… गाँधीजी के साथ जिनकी पुण्यतिथि हर वर्ष मनाई जानी चाहिए

उनका एक हाथ जा चुका था। एक ही आँख से देख पाते थे, दूसरी युद्ध की बलि चढ़ गई थी। एक ही पाँव से ठीक से चल पाते थे, दूसरा अपाहिज हो चुका था। फिर भी...

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

293,787FansLike
82,814FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe