Wednesday, April 24, 2024

विषय

tulsidas

‘रामचरितमानस को मस्जिद में लिखा गया था’: RJD विधायक रीतलाल यादव का विवादित बयान, BJP बोली- लालू के चरवाहे स्कूल में पढ़े थे

राजद के विधायक रीतलाल यादव ने रामचरितमानस पर विवादास्पद टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि यह किताब एक मस्जिद में लिखी गई थी।

‘मैं रामचरितमानस को नहीं मानती, तुलसीदास कोई संत नहीं’: सपा MLA को तुलसीदास के ग्रन्थ से दिक्कत, कहा – हिम्मत है तो मेरी ताड़ना...

सपा विधायक पल्लवी पटेल ने कहा है कि वह रामचरितमानस को नहीं मानती हैं और इसमें शूद्र शब्द हटाने के लिए आंदोलन करेंगी। उनके लिए तुलसीदास संत नहीं।

अधम जाति मैं बिद्या पाएँ… 3 मुकदमे वाले करोड़पति मंत्री चंद्रशेखर यादव ने कर दिया अर्थ का अनर्थ! ये तुलसीदास के बोल हैं ही...

जिस चौपाई का जिक्र चंद्रशेखर यादव ने किया, उसे काकभुशुण्डि कह रहे होते हैं, एक ऋषि जो काग (कौवा) के रूप में रहा करते थे। चंद्रशेखर यादव ने इसे गलत अर्थ में पेश किया।

गोस्वामी तुलसीदास के गाँव में मौजूद है उनके हाथ से लिखी रामचरितमानस, 400 वर्षों से ग्रंथ की सेवा कर रहा रामाश्रय का परिवार

गोस्वामी तुलसीदास का पैतृक गाँव उत्तर प्रदेश के बाँदा जिला का राजापुर है। वहाँ उनके द्वारा हस्तलिखित रामचरितमानस आज भी मौजूद है। रामाश्रय इसके सेवादार हैं।

गँवार, लुटेरा, अत्याचारी… या महाबली व तहजीबों का संगम? अकबर पर तुलसीदास को पढ़ें, जावेद अख्तर को नहीं

गोस्वामी तुलसीदास ने तत्कालीन राजा को चोर और लुटेरा कहा है। ये किसी से छिपा नहीं है कि बादशाह अकबर के हरम में 5000 से भी अधिक महिलाएँ थीं।

को कहि सकइ प्रयाग प्रभाऊ: प्रयागराज की महिमा भला कौन कह सकता है

प्रयागराज को तीर्थों का राजा कई कारणों से कहा गया है। पद्म पुराण के अनुसार: "ग्रहाणां च यथा सूर्यो नक्षत्राणां यथा शशी। तीर्थानामुत्तमं तीर्थे प्रयागाख्यमनुत्तमम्।" अर्थात- जैसे ग्रहों में सूर्य तथा नक्षत्रों में चन्द्रमा हैं, वैसे ही तीर्थों में प्रयाग सर्वोत्तम है"

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe