Wednesday, June 19, 2024
75 कुल लेख

चंदन कुमार

परफेक्शन को कैसे इम्प्रूव करें 🙂

2 साल के हिंदू बच्चे टीटू की हत्या पर चुप्पी, लेकिन विदेशी मुस्लिम लड़कों की मौत पर मातम: आरफा को हिंदुस्तान में फिर भी...

रियासी आतंकी हमले में टीटू का हिंदू होना और उसका इस्लामी आतंकियों की गोली से मारा जाना, आरफा की इंसानियत को झकझोर नहीं पाया।

राहुल राज ने शाहरुख बन शबाना को फँसाया, फिर गौमूत्र पिला करवाई घरवापसी: वो खबर जिसे ध्रुव राठी खोज ही नहीं पाया… इसलिए लव-जिहाद...

मुस्लिम लड़के-हिंदू लड़की, हिंदू लड़के-मुस्लिम लड़की का उदाहरण दे ध्रुव राठी कहता है कि सभी को हत्यारा नहीं कहा जा सकता। लव जिहाद को छिपा...

बंगाल-बिहार-तमिल-मराठी… सबकी आग में पूरे भारत को झोंकना चाहते हैं राहुल गाँधी, कहाँ से आई इतनी नफरत?

राज्यों को लड़ा दो, एक कंपनी को दूसरी के खिलाफ भड़का दो, जात-पात पर समाज को बाँट दो... राहुल गाँधी को लगता है कि इससे उनके 2-4 वोट बढ़ जाएँगे।

राम मंदिर के द्वार से विश्वगुरु बनने की ओर भारत, साध्य और साधन बन ऑपइंडिया का मार्ग प्रशस्त करते पाठक: संपादक का सन्देश –...

हिंदुओं के करीब 500 साल के संघर्ष और सर्वोच्च न्यायालय के एक फैसले ने इस क्षण का आना सुनिश्चित कर दिया था। लेकिन 2024 में ही इस क्षण का आना इसे इतिहास का एक अमिट वर्ष बना जाता है।

हरामी महुआ: सस्ती भी है, चढ़ती भी मस्त है, फर्र-फर्र अंग्रेजी निकालती है!

महुआ हरामी हो गई मेरे लिए, उसका साथ छूट गया। पहले वो गले से उतर दिल में समा जाती थी। अब मैं उसका बस दिलजला आशिक रह गया हूँ।

BBC के लिए हमास नहीं है आतंकी, रिपोर्टर ने दिखाई औकात: हिंदू देवी-देवताओं के कार्टून ‘निष्पक्ष पत्रकारिता’, पैगंबर मोहम्मद पर माँगता है माफी

"हमास को आतंकी नहीं बोलना गुमराह करना है। इनको आतंकी बोलने के बजाय आजादी के लड़ाके (फ्रीडम फाइटर) बोलना सच्चाई से मुँह मोड़ना है।"

चाइनीज पैसा लेने वाला पत्रकार क्या-क्या करता है, क्या-क्या नहीं (लिख-बोल सकता)… जानिए 4 साल तक सैलरी लेने वाले पत्रकार से

चीन से पैसे लेकर प्रोपेगेंडा कैसे होगा? अपने ही देश के खिलाफ लिख लेंगे? इनका जवाब मेरे पास है क्योंकि मैंने 4 साल काम किया है चीनी कंपनी में।

नाच रहा चीन अपनी 500 बड़ी कंपनियों के ग्रोथ पर, इंडिया के वामपंथी अभी भी मजदूरों-किसानों का हक मार खुद करते हैं अय्याशी

चीन की टॉप 500 कंपनियों ने पिछले साल 5.46 ट्रिलियन डॉलर का बिजनेस किया। कैसे? क्योंकि चीनी सरकार प्राइवेट कंपनियों को भरपूर सपोर्ट करती है।