लड़की के साथ डांस कर रहे बिहार के MLA का वायरल Video निकला Fake

यह स्पष्ट हो गया है कि यह वीडियो भले ही फेक नहीं हो, लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स में जिन विधायकों का नाम आया था, कम के कम उनका इस वीडियो से कुछ भी लेना-देना नहीं है।

स्टडी टूर पर मणिपुर गए बिहार के विधायकों की डांस करने वाली वीडियो सामने आई है। इम्फाल टाइम्स में छपी एक खबर से हिंदी मीडिया को इसके बारे में पता चल। इम्फाल टाइम्स में प्रकाशित खबर के अनुसार बिहार के चार विधायक भारत-म्यांमार सीमा के पास स्थित मोरे शहर में लड़कियों के साथ डांस करते कैमरे में कैद हो गए। और यह वीडियो वायरल हो गया। हालाँकि, आरोप के घेरे में आए विधायकों ने वीडियो को फेक बताते हुए पूरे मामले की जाँच की माँग की है।

जो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है, उसमें विधायक (या उनके जैसे दिखने वाले) लड़कियों के साथ डांस करते हुए दिख रहे हैं और साथ में वो डांस करने वाली लड़की को शराब भी पीला रहे हैं।

इम्फाल टाइम्स में प्रकाशित रिपोर्ट

अखबार ने लिखा कि यह पहली बार नहीं है कि इस तरह की कोई घटना सामने आई है। अखबार का कहना है कि यहाँ ऐसी कई घटनाएँ होती हैं जिसमें वीआईपी, वीवीआईपी इस शहर को ‘सेक्स डेस्टिनेशन’ समझ कर आते हैं। हालाँकि, पर्याप्त सबूतों के अभाव में इस तरह की अनैतिक गतिविधियों पर लगाम नहीं लग पाता।

विधायकों ने वीडियो को बताया फेक

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

वीडियो वायरल होने और कई मीडिया संस्थानों में इस खबर के चलने बाद विधायक यदुवंश यादव ने कहा है कि इस वीडियो में वे नहीं हैं। ये फेक वीडियो है जिसमें कोई सच्चाई नहीं है। उन्होंने कहा कि वे इस वीडियो को लेकर मानहानि का दावा करेंगे। यदुवंश यादव के अलावा 3 अन्य विधायकों का भी यही कहना है कि ऐसे किसी वीडियो से उनका कोई संबंध नहीं है और यह उन्‍हें बदनाम करने की साजिश है। उन्होंने कहा कि पूरे मामले की जाँच हो। वीडियो में दिख रहा चेहरा विधायक यदुवंश यादव के चेहरे से मेल नहीं खाता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर ऑपइंडिया ने भी यह खबर प्रकाशित (विधायक द्वारा फेक बताए जाने और वीडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं का डिस्क्लेमर लगा कर) की थी। लेकिन अब जबकि यह स्पष्ट हो गया है कि यह वीडियो भले ही फेक नहीं हो, लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स में जिन विधायकों का नाम आया था, कम के कम उनका इस वीडियो से कुछ भी लेना-देना नहीं है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई (बार एन्ड बेच से साभार)
"पारदर्शिता से न्यायिक स्वतंत्रता कमज़ोर नहीं होती। न्यायिक स्वतंत्रता जवाबदेही के साथ ही चलती है। यह जनहित में है कि बातें बाहर आएँ।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,346फैंसलाइक करें
22,269फॉलोवर्सफॉलो करें
116,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: