Sunday, September 24, 2023
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकबिहारी लड़के ने 51 सेकेंड तक हैक किया गूगल, मिली ₹3.66 करोड़ की नौकरी:...

बिहारी लड़के ने 51 सेकेंड तक हैक किया गूगल, मिली ₹3.66 करोड़ की नौकरी: वायरल न्यूज का सच

ऋतुराज ने मीडिया को जानकारी दी कि उन्होंने गूगल में एक बग की खोज की थी जिसकी पुष्टि गूगल द्वारा भी की गई है। ऋतुराज ने कहा कि गूगल में बग की खोज करने के बाद उन्हें रिसर्चर के तौर पर जरूर शामिल किया गया है लेकिन ये खबरें पूरी तरह से भ्रामक हैं कि उन्हें नौकरी ऑफर हुई।

बिहार के बेगुसराय का एक लड़का ऋतुराज इन दिनों सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। वायरल संदेशों में उसे लेकर दावा किया जा रहा है कि उसने हाल में गूगल को पूरे 51 सेकेंड के लिए हैक करके अमेरिका में बैठे अधिकारियों को ऐसा हिलाया कि उन्होंने ऋतुराज को गूगल में नौकरी करने के लिए 3.66 करोड़ का पैकेज ऑफर किया और उसका वीजा भी बनवा दिया।

वायरल संदेश ऐसा है कि कोई भी पढ़कर इसे अचंभित हो जाए लेकिन हकीकत क्या है इसका खुलासा हाल में हुआ जब मीडिया वाले ऋतुराज के पास असलियत जानने पहुँचे। ऋतुराज ने मीडिया को जानकारी दी कि उन्होंने गूगल में एक बग की खोज की थी जिसकी पुष्टि गूगल द्वारा भी की गई है। ऋतुराज ने कहा कि गूगल में बग की खोज करने के बाद उन्हें रिसर्चर के तौर पर जरूर शामिल किया गया है लेकिन ये खबर पूरी तरह से भ्रामक है कि उन्हें करोड़ों की नौकरी ऑफर हुई और उन्हें पासपोर्ट बनाकर अमेरिका बुलाया गया।

वायरल होता संदेश

ऋतुराज को लेकर फैलाई जा रही खबर पूरी तरह गलत है। वह खुद बताते हैं कि बग खोजने में और उसको हैक कर लेने में बहुत अंतर होता है। उन्होंने सिर्फ बग की खोज की है। रातों-रात पासपोर्ट बनाने की बात और नौकरी या इनाम मिलने की बातें अभी तक सच नहीं हैं। इतना हीं नहीं वायरल संदेश में दावा है कि ऋतुराज आईआईटी मणिपुर से पढ़ रहे हैं जबकि हकीकत में मणिपुर में कोई आईआईटी है ही नहीं। वे तो मणिपुर ट्रिपल आईटी से बी टेक कर रहे हैं।

जानकारी के अनुसार, ऋतुराज बेगूसराय शहर के मुंगेरीगंज के रहने वाले हैं। उनके पिता का नाम राकेश चौधरी है। वह बताते हैं कि उनका सपना हमेशा से ही हैकर बनने का था। उन्होंने कई कंपनियों की साइट्स में गलतियाँ खोजीं हैं। पिछले कुछ समय से वो गूगल में गलतियाँ खोजना चाहते थे। हाल में उन्हें साइट पर एक बग नजर आ ही गया। जिसके बाद उन्होंने इसे हाईलाइट कर इसकी जानकारी गूगल को दी। ऋतुराज के मेल पर गूगल ने जब काम किया तो पाया कि बिहार के बेगुसराय के लड़के द्वारा खोजी गई खामी सही है और उनकी टीम इसे सही करने के काम में जुट गई है। इसके साथ ही गूगल ने बताया कि वो ऋतुराज को रिसर्चर के तौर पर शामिल करते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली यूनिवर्सिटी में लहराया भगवा: 32 कॉलेजों में ABVP की जीत, 9 कॉलेजों में क्लीन स्वीप, DUSU के अध्यक्ष का पद भी किया अपने...

दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र संघ चुनाव में ABVP को 32 कॉलेजों में जीत मिली है। वहीं 9 कॉलेजों में तो ABVP ने क्लीन स्वीप किया है। NSUI की बुरी हालत।

‘नीच को नीच नहीं तो और क्या कहेंगे’: दानिश अली ने PM मोदी को दी थी गाली, तभी रमेश बिधूड़ी ने खोया आपा –...

BJP सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा अध्यक्ष को भेजे गए पत्र में लिखा है कि बसपा सांसद दानिश अली ने पीएम मोदी के लिए 'नीच' शब्द का प्रयोग किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
275,913FollowersFollow
419,000SubscribersSubscribe