Sunday, June 26, 2022
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिभगवान नरसिंह की जो मूर्ति कहीं नहीं, वह कुतुब मीनार परिसर में मिली: दुर्लभ...

भगवान नरसिंह की जो मूर्ति कहीं नहीं, वह कुतुब मीनार परिसर में मिली: दुर्लभ मूर्ति की हुई पहचान, प्रभु की गोद में बैठे मिले भक्त प्रह्लाद

एएसआई के क्षेत्रीय निदेशक रहे धर्मवीर शर्मा का दावा है कि यह मूर्ति आठवीं-नौवीं सदी में प्रतिहार राजाओं के काल की है। सालों से इसकी पहचान करने की कोशिश की जा रही थी और काफी प्रयास के बाद अब पुरातत्वविद ने इस मूर्ति की पहचान कर ली है।

पिछले दो महीनों से दिल्ली के महरौली में स्थित कुतुब मीनार की देश भर में चर्चा हो रही है। यहाँ हिंदू धर्म से संबंधित देवी-देवताओं की मूर्तियाँ और जैन धर्म से संबंधित विभिन्न प्रतीकों के मिलने की खबरें आ रही हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुतुब मीनार परिसर (Qutub Minar complex) में कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद के रूप में जाने जाने वाले विवादित ढाँचे के एक खंभे में यह मूर्ति लगी हुई है। इसे वर्षों से पहचानने का प्रयास किया जा रहा था, लेकिन अब पुरातत्वविद धर्मवीर शर्मा ने इसकी पहचान नरसिंह भगवान और भक्त प्रह्लाद की मूर्ति के रूप में की है।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के क्षेत्रीय निदेशक रहे धर्मवीर शर्मा (Dharamveer Sharma) का दावा है कि यह मूर्ति आठवीं-नौवीं सदी में प्रतिहार राजाओं के काल की है। सालों से इसकी पहचान करने की कोशिश की जा रही थी और काफी प्रयास के बाद अब पुरातत्वविद ने इस मूर्ति की पहचान कर ली है। दावा किया जा रहा है कि यह मूर्ति 1200 साल पुरानी है और यह प्रतिहार राजाओं या राजा अनंगपाल के समय की है। प्रतिहार राजाओं में मिहिर भोज सबसे प्रतापी राजा हुए हैं। इस मूर्ति की तस्वीरें देश भर के विशेषज्ञ पुरातत्वविदों को विशेष अध्ययन के लिए भेजी गई हैं। उनका कहना है कि यह नरसिंह भगवान की दुर्लभ मूर्ति है, किसी और जगह इस तरह की मूर्ति नहीं मिलती है।

प्रसिद्ध पुरातत्वविद शर्मा कहते हैं, “अभी तक हम केवल भगवान नरसिंह की उस मूर्ति को ही देखते आ रहे हैं, जिसमें हिरण्यकश्यप को अपने घुटने पर रखकर भगवान नरसिंह द्वारा असुर को नाखूनों से चीरते हुए दिखाया गया है। लेकिन इस मूर्ति में दिखाया गया है कि जब क्रोधित नरसिंह भगवान ने हिरण्यकश्यप का वध किया तो उनकी क्रोधाग्नि से पूरी पृथ्वी जलने लगी थी। देवताओं ने तब भक्त प्रह्लाद से प्रार्थना की, क्योंकि वह नरसिंह भगवान के प्रिय थे और वही भगवान के क्रोध का शांत कर सकते थे। तब प्रह्लाद भगवान नरसिंह से प्रार्थना करने लगे, इससे प्रसन्न होकर भगवान ने उनको अपनी गोद में बिठाया और वह शांत हो गए।” धर्मवीर शर्मा दिल्ली में एएसआई के क्षेत्रीय प्रभारी भी रह चुके हैं।

वहीं, मूर्ति के बारे में बात करते हुए राष्ट्रीय स्मारक प्राधिकरण के अध्यक्ष तरुण विजय ने कहा कि कुतुब मीनार में पहचानी गई मूर्ति अद्भुत है। यह मूर्ति धार्मिक और शोध करने वाले लोगों के लिए विशेष आकर्षण का केंद्र है। इस मूर्ति की तस्वीरें देश के विशेषज्ञ पुरातत्वविदों को विशेष अध्ययन के लिए भेजी गई हैं।

उल्लेखनीय है कि नरसिंह भगवान की पूजा पूरे भारत में बड़ी ही श्रद्धा के साथ की जाती है। पुरी में भगवान जगन्नाथ की सभी विशेष पूजा पास के नरसिंह मंदिर में की जाती हैं। भगवान नरसिंह बुराई का अंत करने और अपने भक्तों से प्रेम करने के लिए जाने जाते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गे बार के पास कट्टर इस्लामी आतंकी हमला, गोलीबारी में 2 की मौत: नॉर्वे में LGBTQ की परेड रद्द, पूरे देश में अलर्ट

नॉर्वे की राजधानी ओस्लो में गे बार के नजदीक हुई गोलीबारी को प्रशासन ने इस्लामी आतंकवाद करार दिया है। 'प्राइड फेस्टिवल' को रद्द कर दिया गया।

BJP के ईसाई नेता ने हवन-पाठ करके अपनाया सनातन धर्म: घरवापसी पर बोले- ‘मुझे हिंदू धर्म पसंद है, मेरे पूर्वज हिंदू थे’

विवीन टोप्पो ने हिंदू धर्म स्वीकारते हुए कहा कि उन्हें ये धर्म अच्छा लगता है इसलिए उन्होंने इसका अनुसरण करने का फैसला किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,395FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe