Tuesday, June 25, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनCAA विरोधी कबीर खान वाली '83' की धीमी ओपनिंग, JNU वाली दीपिका पहुँचीं मंदिर......

CAA विरोधी कबीर खान वाली ’83’ की धीमी ओपनिंग, JNU वाली दीपिका पहुँचीं मंदिर… उधर ‘पुष्पा’ ने बटोरे ₹229 Cr

कबीर खान ने व्यस्तता का हवाला देते हुए अमित शाह की CAA वाली बैठक में हिस्सा नहीं लिया था और कहा था कि गुंडे यूनिवर्सिटी में घुस कर छात्रों को पीट रहे हैं तो चर्चा करने के लिए है ही क्या?

जहाँ अल्लू अर्जुन की फिल्म ‘पुष्पा’ ने एक सप्ताह में 229 करोड़ रुपए बटोर लिए हैं, रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण की ’83’ को सुस्त प्रतिक्रिया मिली है। ‘पुष्पा’ के निर्माताओं ने ही जानकारी दी है कि फिल्म ने एक सप्ताह में 229 करोड़ रुपए की कमाई की है। वहीं हिंदी में इसकी नेट कमाई 30 करोड़ रुपए के आसपास है। साथ ही ये जानकारी भी सामने आई है कि अब तक ‘BookMyShow’ नामक एप से ‘पुष्पा’ के 35 लाख टिकट बिक चुके हैं।

वहीं 1983 क्रिकेट विश्व कप में भारत की बड़ी जीत पर बनी फिल्म ’83’ ने सभी भाषाओं में मिला कर पहले दिन मात्र 12.64 करोड़ रुपए की ही कमाई की। वहीं विदेश में इसकी कमाई 11.81 करोड़ रुपए रही। इस फिल्म के निर्देशक कबीर खान हैं, जबकि दीपिका पादुकोण इसके निर्माताओं में से एक हैं। उन्होंने इस फिल्म में एक किरदार भी निभाया है। मास पॉकेट्स में ’83’ को काफी धीमी शुरुआत मिली है, जबकि महँगे मल्टीप्लेक्स में इसे देखा जा रहा है।

हालाँकि, उधर ‘स्पाइडर मैन: नो वे होम’ ने भारत में 154 करोड़ रुपए का नेट बॉक्स ऑफिस कलेक्शन कर के धमाल मचा दिया है। दीपिका पादुकोण ने ’83’ की रिलीज से पहले मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर में जाकर भी दर्शन किया। फिल्म में उन्होंने पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान कपिल देव (जिनकी भूमिका दीपिका के पति रणवीर सिंह निभा रहे हैं) की पत्नी रोमी भाटिया का किरदार निभाया है। 22 दिसंबर को ’83’ का प्रीमियर हुआ था। दीपिका पादुकोण की आने वाले दिनों में ‘द्रौपदी’ और ‘फाइटर’ सहित कई फ़िल्में आने वाली हैं।

बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जब जनवरी 2020 में CAA (नागरिकता संशोधन बिल) को लेकर समझाने और अपना स्टैंड रखने के लिए फिल्म समुदाय के साथ बैठक की थी, तो उसमें ’83 (2021)’, ‘न्यूयॉर्क (2009)’, ‘एक था टाइगर (2012)’ ‘बजरंगी भाईजान (2015)’ और ‘ट्यूबलाइट (2017)’ के निर्देशक कबीर खान नहीं पहुँचे थे। उन्होंने व्यस्तता का हवाला देते हुए बैठक में हिस्सा नहीं लिया था और कहा था कि गुंडे यूनिवर्सिटी में घुस कर छात्रों को पीट रहे हैं तो चर्चा करने के लिए है ही क्या?

उन्होंने उस बैठक को ‘डिनर मीटिंग’ बताते हुए कहा था कि ये चीजें बाद में हो सकती हैं, लेकिन हँसते हुए गुंडों ने छात्रों को पीटा वो दिल दहलाने वाला है। बता दें कि तब JNU में वामपंथी गुंडों ने हॉस्टलों में घुस कर ABVP के छात्रों की पिटाई की थी, जबकि नैरेटिव इसके उलट बनाया गया था। दीपिका ने तब JNU जाकर वामपंथी दलों के छात्रों को अपना समर्थन भी जताया था। तब कबीर खान ने ‘राजनीति और समाजिक मामलों में धर्म को घुसाने’ को त्रासद बताते हुए कहा था कि जो फ़िल्मी हस्तियाँ इसके खिलाफ आवाज़ उठाती हैं, उन पर हमले होते हैं इसीलिए हो सकता है वो कई कारणों से डरे हुए हों।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -