Saturday, July 31, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनमीका सिंह का बॉयकॉट करेगा बॉलीवुड, कराची में 'जुम्मे की रात' पड़ा महँगा

मीका सिंह का बॉयकॉट करेगा बॉलीवुड, कराची में ‘जुम्मे की रात’ पड़ा महँगा

ट्विटर पर फैंस का कहना है कि जब पाकिस्तान ने भारतीय फिल्मों पर रोक लगा दी है और भारतीय गानों व अन्य मीडिया कंटेंट को भी प्रतिबंधित कर दिया है तो मीका को पाकिस्तान जाने की क्या ज़रूरत थी?

कराची में एक पाकिस्तानी अरबपति के घर के कार्यक्रम में परफॉर्म करना सिंगर मीका सिंह को महँगा पड़ा है। सोशल मीडिया पर तीखी आलोचना के बाद ऑल इंडिया सिने वर्कर्स एसोसिएशन (AICWA) ने उन पर बैन लगा दिया है। उनका भारतीय फिल्म इंडस्ट्री से बॉयकॉट करने का फैसला किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो मीका का सभी म्यूजिक कंपनी, मूवी प्रोडक्शन हाउस और ऑनलाइन म्यूजिक कंटेंट प्रोवाइडर द्वारा बॉयकॉट किया जाएगा।

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त किए जाने के बाद पाकिस्तान की तरफ से जारी गीदड़ भभकियों के बीच 8 अगस्त को मीका ने कराची में परफॉर्म किया था। कराची में जिस व्यक्ति के यहाँ मीका ने परफॉर्म किया, वह पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का कजन भाई है। इसके कारण सोशल मीडिया में नाराज़गी जताते हुए फैंस ने मीका को काफी भला-बुरा कहा। इस कार्यक्रम के वायरल हुए वीडियो में मीका ‘जुम्मे की रात’ गाते हुए नजर आ रहे हैं।

ट्विटर पर भारतीय लोगों का कहना है कि जब पाकिस्तान ने भारतीय फिल्मों पर रोक लगा दी है और भारतीय गानों व अन्य मीडिया कंटेंट को भी प्रतिबंधित कर दिया है तो मीका को पाकिस्तान जाने की क्या ज़रूरत थी? वहीं पाकिस्तान के लोगों ने अपनी सरकार से नाराज़गी जताते हुए पूछा कि भारतीय गायक को वीजा क्यों दिया गया?

सोशल मीडिया में कुछ लोगों ने मीका सिंह का समर्थन भी किया है। कुछ ट्विटर यूजर्स ने लिखा है कि मीका एक कलाकार हैं और एक कलाकार के लिए बाउंड्री मायने नहीं रखता। कुछ यूजर्स ने पाकिस्तान को आड़े हाथों लेते हुए लिखा है कि पाकिस्तान बॉलीवुड कलाकारों के बिना रह ही नहीं सकता।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe