Monday, June 17, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनमैं रहूँ या ना रहूँ... पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी पर बनेगी फिल्म, Atal...

मैं रहूँ या ना रहूँ… पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी पर बनेगी फिल्म, Atal के बारे में जानिए सब कुछ

उल्लेख एनपी की किताब 'द अनटोल्ड वाजपेयी: पॉलिटिशियन एंड पैराडॉक्स' पर आधारित यह फिल्म अगले साल क्रिसमस पर रिलीज होगी।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) पर फिल्म बनने जा रही है। मंगलवार (28 जून 2022) को इसका ऐलान किया गया। फिल्म का नाम ‘मैं रहूँ या न रहूँ ये देश रहना चाहिए- अटल’ है। फिल्म का मोशन पोस्टर भी रिलीज कर दिया गया है।

मोशन पोस्टर में अटल बिहारी वाजपेयी के भाषण का एक अंश सुनाई दे रहा है। इसमें वे कहते हैं, “सत्ता का खेल तो चलेगा। सरकारें आएँगी, जाएँगी… पार्टियाँ बनेंगी, बिगड़ेंगी। मगर ये देश रहना चाहिए। इस देश का लोकतंत्र अमर रहना चाहिए।” ट्रेंड एनालिस्ट तरण आदर्श ने इसे ट्विटर पर साझा किया है।

उल्लेख एनपी की किताब ‘द अनटोल्ड वाजपेयी: पॉलिटिशियन एंड पैराडॉक्स’ पर आधारित यह फिल्म अगले साल क्रिसमस पर रिलीज होगी। 25 दिसंबर 2023 को अटल बिहारी वाजपेयी की 99वीं जयंती भी है। फिल्म को हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में रिलीज किया जाएगा। ‘अटल’ को विनोद भानुशाली और संदीप सिंह प्रोड्यूस कर रहे हैं। हालाँकि, अभी तक फिल्म के स्टारकास्ट को लेकर कोई भी जानकारी सामने नहीं आई है।

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हुआ था। 1951 में भारतीय जनसंघ के गठन में उनकी अहम भूमिका रही। 1996 के लोकसभा चुनाव में भाजपा देश की सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। 16 मई 1996 को अटल बिहारी वाजपेयी पहली बार प्रधानमंत्री बने। हालाँकि, उनकी सरकार बहुमत साबित नहीं कर पाई और 13 दिन ही चली। 1998 के मध्यावधि चुनावों भाजपा फिर सबसे बड़े दल और NDA सबसे बड़े गठबंधन के रूप में उभरा। वाजपेयी ने दोबारा प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। लेकिन इस बार उन्हें 13 महीने बाद ही इस्तीफा देना पड़ा। इसके बाद हुए चुनावों में NDA पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आई और 1999 में वे फिर से प्रधानमंत्री बने। 16 अगस्त 2018 को 93 साल की उम्र में उनका निधन हुआ था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -