Tuesday, May 17, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनजब मेलुहा के लोगों ने 'नीलकंठ' को मान लिया भगवान... अमीष त्रिपाठी की 'शिवा...

जब मेलुहा के लोगों ने ‘नीलकंठ’ को मान लिया भगवान… अमीष त्रिपाठी की ‘शिवा ट्रिलॉजी’ पर फिल्म बनाएँगे शेखर कपूर, कहा – सब करते हैं पसंद

इस ट्रिलॉजी पर फिल्म बनाने के मुद्दे पर शेखर कपूर कहते हैं कि अमीष की यह किताब देश की सबसे सनसनीखेज किताब की एक सीरीज है, जिसे हर उम्र और हर वर्ग के लोग पसंद करते हैं।

मशहूर लेखक अमीष त्रिपाठी (Amish Tripathi) की एक माइथोलॉजिकल नॉवेल ‘द इम्मॉर्टल्स ऑफ मेलुहा’ (The Immortals of Meluha) है जो शिवा ट्रिलॉजी सीरीज की पहली पुस्तक है। अब इस पुस्तक को फिल्मी पर्दे पर जीवंत रूप में दुनिया के सामने पेश करने की तैयारी की जा रही है। इस पर बॉलीवुड के मशहूर फ़िल्मकार शेखर कपूर (Shekhar Kapoor) एक फिल्म बनाने जा रहे हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, प्रख्यात लेखक अमीष त्रिपाठी के नॉवेल के अडैप्टेशन से बनने वाली इस फिल्म का नाम भी ‘शिवा’ रखा जाएगा। इस ट्रिलॉजी पर फिल्म बनाने के मुद्दे पर शेखर कपूर कहते हैं कि अमीष की यह किताब देश की सबसे सनसनीखेज किताब की एक सीरीज है, जिसे हर उम्र और हर वर्ग के लोग पसंद करते हैं। उन्होंने कहा कि ये पौराणिक होने के साथ ही यह बहुत ही बेहतरीन कहानी है।

गौरतलब है कि इससे पहले शेखर कपूर बैंडिंट क्वीन औऱ मिस्टर इंडिया जैसी फिल्मों का निर्देशन कर चुके हैं। इसके अलावा ‘द फैमिली मैन’ के निर्देशक रहे सुपर्ण एस वर्मा भी इसके डायरेक्टर होंगे। फिल्म का प्रोडक्शन ग्लोबल एँटरटेनमेंट स्टूडियो ‘टरनेशनल आर्ट मशीन’ के द्वारा किया जाएगा। इस हॉलीवुड कंपनी का भारत में यह पहला प्रोजेक्ट है। अमेजन प्राइम वीडियो के पूर्व अध्यक्ष राय प्राइस इस कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

उल्लेखनीय है कि अमीष त्रिपाठी की द इम्मॉर्टल्स ऑफ मेलुहा 1900 ईसा पूर्व में मेलुहा नाम के राज्य को बताती है। इसमें तिब्बत के एक प्रवासी के बारे में बताया गया है, जिसका नाम शिवा होता है। मेलुहा के लोग उसे भगवान शिव (नीलकंठ) मानते हैं। अमीष ने तीन किताबें लिखी हैं, इनमें से क्रमश: पहली इम्मॉर्टल्स ऑफ मेलुहा, द सीक्रेट ऑफ द नागाज और द ओथ ऑफ वायुपुत्राज। तीनों किताबें क्रमश: 2010, 2011 और 2013 में प्रकाशित हुई थीं। इन किताबों को काफी पसंद भी किया गया था। इसमें भगवान राम के अवतरण से पहले के कई सदी पहले ही कहानी का चित्रण किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कानपुर वाला गुटखा खाकर करेंगे विज्ञापन, कमाएँगे पैसे… मीडिया को बोलेंगे कि बॉलीवुड अफोर्ड नहीं कर सकता: महेश बाबू को इसलिए पड़ रही गाली

महेश बाबू पिछले साल पान मसाला के विज्ञापन का हिस्सा बने थे। नेटिजन्स ने अब उन पर हमला बोलते हुए उसी ऐड को फिर से वायरल करना शुरू कर दिया है।

ज्ञानवापी की वो जगह, जहाँ नहीं हो सका सर्वे: 72*30*15 फीट है मलबा और 15 फीट की दीवार का घेरा, हिंदू पक्ष ने कहा-...

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे से शिवलिंग मिलने के बाद हिंदू पक्ष में जहाँ खुशी की लहर है। वहीं मुस्लिम पक्ष का कहना है कि सांप्रदायिक उन्माद रचने की साजिश कहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,313FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe