Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनप्रधानमंत्री या तानाशाह? टीजर के साथ-साथ कंगना रनौत की 'Emergency' का रिलीज डेट भी...

प्रधानमंत्री या तानाशाह? टीजर के साथ-साथ कंगना रनौत की ‘Emergency’ का रिलीज डेट भी आया, जयप्रकाश नारायण के किरदार में अनुपम खेर का दमदार रोल

'तानाशाही बंद करो' का नारा लगाती हुई आक्रोशित जनता पर गोलीबारी की जाती है। साथ ही एक सवाल पूछा गया है कि प्रधानमंत्री या तानाशाह?

अभिनेत्री कंगना रनौत ने अपनी फिल्म ‘Emergency’ की रिलीज डेट की घोषणा कर दी है। फिल्म का टीजर वीडियो जारी करते हुए उन्होंने बताया कि ‘इमरजेंसी’ 24 नवंबर, 2023 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। वीडियो में आक्रोशित लोगों को पुलिस पर पत्थरबाजी करते हुए देखा जा सकता है, जिसके बाद 26 जून, 1975 को एक अंग्रेजी अख़बार में आपातकाल की घोषणा की खबर छपती है। फिल्म वास्तविक घटनाओं पर आधारित है।

बता दें कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने आपातकाल की घोषणा करते हुए सारे विपक्षी नेताओं को जेल में बंद कर दिया था। वीडियो में इसके बाद जयप्रकाश नारायण का किरदार निभा रहे अनुपम खेर की आवाज गूँजती है, “भारत के इतिहास की सबसे अँधेरी घड़ी आ चुकी है। सरकार राज नहीं, अहंकार राज है ये। ये हमारी नहीं, इस देश की मौत है। इस तानाशाही को रोकना होगा।” टीवी-रेडियो का ब्रॉडकास्टिंग प्रतिबंधित होते हुए दिखाया गया है। साथ ही एक टैगलाइन आता है – “देश की आवाज आजाद करो।”

स्वतंत्रता सेनानी जयप्रकाश नारायण आपातकाल के दौरान और उसके बाद भारत के सबसे बड़े बन कर उभरे थे, जिन्होंने विपक्षी गठबंधन को जीत दिलाई और इंदिरा गाँधी की हार हुई। पुलिस वालों को लोगों को बंदी बना कर कोड़े बरसाते हुए दिखाया गया है। ‘तानाशाही बंद करो’ का नारा लगाती हुई आक्रोशित जनता पर गोलीबारी की जाती है। साथ ही एक सवाल पूछा गया है कि प्रधानमंत्री या तानाशाह? अंत में कंगना रनौत की आवाज गूँजती है, जिन्होंने इंदिरा गाँधी का रोल अदा किया है।

इंदिरा गाँधी के किरदार में कंगना रनौत कहती हैं, “मुझे इस देश की रक्षा करने से कोई नहीं रोक सकता। क्योंकि, इंडिया इज इंदिरा, एंड इंदिरा इज इंडिया।” कंगना रनौत ने अपनी प्रोडक्शन कंपनी ‘मणिकर्णिका फिल्म्स’ के माध्यम से इसका निर्माण किया है। इसकी कहानी भी उन्होंने ही लिखी है, साथ ही निर्देशक भी वही हैं। कंगना रनौत ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “नेता या तानाशाह? हमारे इतिहास के सबसे अंधकारमय युग का साक्षी बनिए, जब हमारे एक नेता ने इस देश की आम जनता के खिलाफ ही युद्ध छेड़ दिया।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -