Monday, May 16, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजन'खून बहा कर जंग लड़ना तबाही नहीं, तरक्की है': रिलीज हो गया यश की...

‘खून बहा कर जंग लड़ना तबाही नहीं, तरक्की है’: रिलीज हो गया यश की ‘KGF 2’ का ट्रेलर, हिंदी भाषा में यहाँ देखें

यश को 'रॉकिंग स्टार' बताते हुए सामने लाया जाता है, जो कहते हैं कि हिंसा उन्हें पसंद नहीं है और वो इसे नज़रअंदाज़ करते हैं, लेकिन हिंसा को वो पसंद हैं। इसके बाद कुछ एक्शन दृश्य दिखाए गए हैं।

कन्नड़ सुपरस्टार यश की फिल्म ‘KGF 2’ का ट्रेलर रिलीज कर दिया गया है। फिल्म अप्रैल महीने में रिलीज के लिए तैयार है। हिंदी भाषा में फिल्म का ट्रेलर 2 मिनट 56 सेकंड का है। फिल्म के निर्देशक प्रशांत नील हैं। ट्रेलर की शुरुआत में ही सवाल पूछा जाता है कि ‘KGF में ‘गरुड़ा’ को मारने के बाद क्या हुआ? आप पढ़ेंगे?’ जवाब आता है कि ये खून से लिखी हुई कहानी है जो स्याही से नहीं बढ़ेगी, अगर आगे बढ़ाना है तो फिर से खून ही माँगेगी।

फिल्म में एक शक्तिशाली नेता के किरदार में दिख रहीं रवीना टंडन कहती हैं, ‘There Will be no more Tolerance (अब कोई सहिष्णुता नहीं होगी।)’ अगला डायलॉग उनका आता है, “मेरे पास भी हथियार है। घुस कर मारेंगे।” फिर एंट्री होती है इसके मुख्य विलेन ‘अधीरा’, यानी संजय दत्त की, जो कहते हैं, “तलवार चला कर, खून बहा कर जंग लड़ना तबाही नहीं, तरक्की होती है। उसमें लाशें भी बेकार नहीं जातीं। गिद्धों से पूछ ले।”

फिर यश को ‘रॉकिंग स्टार’ बताते हुए सामने लाया जाता है, जो कहते हैं कि हिंसा उन्हें पसंद नहीं है और वो इसे नज़रअंदाज़ करते हैं, लेकिन हिंसा को वो पसंद हैं। इसके बाद कुछ एक्शन दृश्य दिखाए गए हैं। एक और डायलॉग है, “मेरी दोस्ती लायक कोई याद नहीं, मेरी दुश्मनी झेल सके ऐसी कोई तलवार नहीं।” फिर वो बिजनेस करने की बात करते हैं और कहते हैं कि ऑफर जल्द ख़त्म हो रहा है। ‘रॉकी’ और उसकी माँ के बचपन का एक दृश्य भी दिखाया गया है।

बता दें कि करियर की शुरुआत यश ने टीवी से की थी, जिसके बाद फिल्मों में आ गए। ‘नन्द गोकुला’ उनकी पहली टीवी सीरियल थी और ‘जम्भदा हुदुगी’ फिल्म में उन्हें पहली बार एक छोटा सा रोल मिला। उन्होंने ‘केजीएफ’ के बारे में कहा था कि उन्होंने रॉकी के किरदार को जिया है। इसका दूसरा भाग 14 अप्रैल, 2022 को आने वाला है। इसमें संजय दत्त और रवीना टंडन भी मुख्य किरदार में हैं। राजामौली ने ही बताया था कि उन्हें पता चला है कि आज भी यश के पिता ने बस ड्राइवर के प्रोफेशन को छोड़ा नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अभिनेत्री के घर पहुँची महाराष्ट्र पुलिस, लैपटॉप-फोन सहित कई उपकरण जब्त किए: पवार पर फेसबुक पोस्ट, एपिलेप्सी से रही हैं पीड़ित

अभिनेत्री ने फेसबुक पर 'ब्राह्मणों से नफरत' का आरोप लगाते हुए 'नर्क तुम्हारा इंतजार कर रहा है' - ऐसा लिखा था। हो चुकी हैं गिरफ्तार। अब घर की पुलिस ने ली तलाशी।

जिसे पढ़ाया महिला सशक्तिकरण की मिसाल, उस रजिया सुल्ताना ने काशी में विश्वेश्वर मंदिर तोड़ बना दी मस्जिद: लोदी, तुगलक, खिलजी – सबने मचाई...

तुगलक ने आसपास के छोटे-बड़े मंदिरों को भी ध्वस्त कर दिया और रजिया मस्जिद का और विस्तार किया। काशी में सिकंदर लोदी और खिलजी ने भी तबाही मचाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,227FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe