Tuesday, May 21, 2024
Homeविविध विषयअन्य'व्हॉट्सएप चैट में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं' : आर्यन को मिली बॉम्बे HC से...

‘व्हॉट्सएप चैट में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं’ : आर्यन को मिली बॉम्बे HC से जमानत, जानें कोर्ट के आदेश में क्या-क्या

14 पन्नों के आदेश में लिखा गया है, "अदालत इस बात के प्रति संवेदनशील है कि सबूत के रूप में बुनियादी सामग्री होनी चाहिए, जिससे आवेदकों के खिलाफ साजिश के मामले को साबित किया जा सके।"

मुंबई के क्रूज ड्रग केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन को 28 अक्टूबर को बेल मिलने के बाद अब बॉम्बे हाईकोर्ट का इस मामले पर विस्तृत आदेश मीडिया में आया है। इसमें अदालत ने कहा हुआ है कि ऐसा कोई सबूत नहीं है जो ये दिखाए कि आरोपितों ने अपराध करने के लिए कोई प्लान बनाया था।

हाईकोर्ट ने कहा कि आर्यन खान की व्हॉट्सएप चैट में कुछ आपत्तिजनक नहीं मिला जो साजिश की ओर इशारा करे। बेल ऑर्डर के साथ अपना आदेश देते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा, “कोर्ट के सामने ये साबित करने के लिए कोई ऑन-रिकॉर्ड पॉजिटिव सबूत पेश नहीं किए गए हैं कि सभी आरोपित व्यक्ति सामान्य इरादे से गैरकानूनी कार्य करने के लिए सहमत हुए।”

14 पन्नों के आदेश में लिखा गया है, “अदालत इस बात के प्रति संवेदनशील है कि सबूत के रूप में बुनियादी सामग्री होनी चाहिए, जिससे आवेदकों के खिलाफ साजिश के मामले को साबित किया जा सके।” कोर्ट के मुताबिक, “केवल इसलिए कि आर्यन, उनके दोस्त अरबाज मर्चेंट, मुनमुन धमेचा एक ही क्रूज पर थे, ये अपने आप में साजिश के आरोप का आधार नहीं हो सकता है।”

बता दें कि ड्रग्स मामले में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान शुक्रवार को ही एनसीबी दफ्तर में हाजिरी लगाने गए थे। पिछले महीने उन्हें बेल देते हुए कोर्ट ने ये शर्त रखी थी कि उन्हें हर शुक्रवार को एनसीबी कार्यालय में पेश होकर अपनी उपस्थिति के बारे में जानकारी देनी होगी। आर्यन की बेल याचिका कुछ शर्तों पर मंजूर हुई थी। 29 अक्टूबर को उन्हें जेल से रिहाई मिली थी। उन्हें 1 लाख रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दी गई थी। साथ ही शर्त ये भी रखी गई थी कि आरोपित बिन पुलिस को बताए शहर से बाहर भी नहीं जा सकता।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

‘हिन्दुओं को बदनाम करने के लिए बनाई फिल्म’: मलयालम सुपरस्टार ममूटी का ‘जिहादी’ कनेक्शन होने का दावा, ‘ममूक्का’ के बचाव में आए प्रतिबंधित SIMI...

मामला 2022 में रिलीज हुई फिल्म 'Puzhu' से जुड़ा है, जिसे ममूटी की होम प्रोडक्शन कंपनी 'Wayfarer Films' द्वारा बनाया गया था। फिल्म का डिस्ट्रीब्यूशन SonyLIV ने किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -