Wednesday, June 19, 2024
Homeविविध विषयअन्यइंटरनेशनल ड्रग रैकेट से जुड़े लोगों से कनेक्शन, सबूतों से कर सकते हैं छेड़छाड़:...

इंटरनेशनल ड्रग रैकेट से जुड़े लोगों से कनेक्शन, सबूतों से कर सकते हैं छेड़छाड़: NCB ने आर्यन खान के बेल का किया विरोध

जाँच एजेंसी ने कहा कि एक एक आरोपित की भूमिका को दूसरे से अलग नहीं किया जा सकता है। भले ही आर्यन के पास ड्रग्स नहीं मिले लेकिन वो पेडलर के संपर्क में था।

मुंबई के क्रूज ड्रग केस में फँसे शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की जमानत याचिका का विरोध करते हुए नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने नया दावा किया है। अभी तक जहाँ कहा जा रहा था कि आर्यन ड्रग्स का सेवन करते हैं, वहीं एनसीबी ने अब कहा है कि उनके संबंध उन लोगों से हैं जो अंतरराष्ट्रीय ड्रग नेटवर्स से जुड़े हैं।

इससे पहले विशेष न्यायाधीश वीवी पाटिल के समक्ष एनसीबी ने ये कहा था कि आर्यन की याचिका पर सुनवाई की कोई जल्दी नहीं हैं। इसके बाद जाँच एजेंसी ने हलफनामा दायर करने के लिए एक हफ्ते का समय माँगा था और कोर्ट ने मामले को बुधवार यानी आज (13 अक्टूबर 2021) की डेट दी थी। उस समय बचाव पक्ष ने कहा था कि आर्यन को झूठे केस में फँसाया गया है और जमानत पर रिहा कर देने से जाँच नहीं रुकेगी।

अब आज इसी मामले में कोर्ट में एनसीबी का जवाब दाखिल हुआ। जाँच एजेंसी ने कहा कि एक एक आरोपित की भूमिका को दूसरे से अलग नहीं किया जा सकता है। भले ही आर्यन के पास ड्रग्स नहीं मिले लेकिन वो पेडलर के संपर्क में था। एनसीबी के अनुसार, ये एक बड़ी साजिश है और इसकी जाँच होना बेहद जरूरी है। एजेंसी ने कहा कि ये साफ है कि आरोपित आचित कुमार और शिवराज हरिजन ने आरोपित आर्यन खान और अरबाज मर्चेंट को चरस पहुँचाए। आर्यन और अरबाज एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। शुरुआती जाँच में मिले सबूत बताते हैं कि आर्यन की ड्रग्स मामले में अहम भूमिका रही है।

एनसीबी कहती है कि आर्यन एक तरह से समाज में प्रभावशाली इंसान हैं तो हो सकता है वो सबूतों से छेड़छाड़ करें या फिर जिन गवाहों को निजी तौर पर जानते हैं उन्हें भी प्रभावित करने की कोशिश करें। जाँच एजेंसी ने अपनी छानबीन में हाथ लगे उन अंतरराष्ट्रीय संबंधों के बारे में भी बताया जो अवैध खरीद की ओर संकेत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूरी जाँच में संपत्ति की जाँच के लिए पर्याप्त समय की जरूरत है ताकि संबंधित विदेशी एजेंसियों से संपर्क हो। 

उल्लेखनीय है कि शाहरुख खान के बेटे से जुड़े इस पूरे ड्रग केस में उनकी ओर से हायर वकील अमित देसाई ने कोर्ट में कहा कि आर्यन के पास से किसी तरह का कोई ड्रग नहीं मिला है। वो तो मुनमुन धमेचा को भी नहीं जानते। दोनों के बीच कोई कनेक्शन नहीं हैं। उन्होंने यहाँ तक दलील दी कि जिस समय एनसीबी ने छापा मारा वो क्रूज पर नहीं थे। वह वहाँ एंट्री कर रहे थे तभी एनसीबी ने उन्हें पकड़ा। मामले को भावनात्मक एंगल देते हुए देसाई ने कहा कि वे (जो गिरफ्तार हुए) तस्कर नहीं है और न ही ड्रग ट्रैफिकर्स हैं, वह जवान बच्चे हैं और अपना सबक ले लिया है। उन्हें ज्यादा वक्त जेल में न रखा जाए।

इस बीच ट्विटर पर आर्यन खान की पुरानी वीडियो वायरल है जिसमें वह स्मोक करते नजर आ रहे हैं। वहीं ट्विटर पर ही #NobailOnlyJail ट्रेंड कर रहा है। इसमें लोग आर्यन की गिरफ्तारी की माँग कर रहे हैं।

मालूम हो कि आर्यन की गिरफ्तारी हुए आज 10 दिन पूरे हो गए हैं। उन्हें 3 अक्टूबर को एनसीबी ने क्रूज से गिरफ्तार किया था जहाँ ड्रग पार्टी चल रही थी। इसके बाद से वह न्यायिक हिरासत में हैं। कई दफा उनकी याचिका पर सुनवाई टली है। इससे पहले 8 अक्टूबर को मजिट्रेट कोर्ट ने उनकी बेल खारिज की थी

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -