Wednesday, June 19, 2024
Homeविविध विषयअन्यश्रेयस अय्यर और ईशान किशन को लेकर बीसीसीआई पर भड़के इरफान पठान, बोले- हार्दिक...

श्रेयस अय्यर और ईशान किशन को लेकर बीसीसीआई पर भड़के इरफान पठान, बोले- हार्दिक पांड्या को क्यों किया रिटेन? क्रिकेट के लिए बताया बुरा फैसला

श्रेयस अय्यर और ईशान किशन को सालाना अनुबंध से बाहर रखने पर पूर्व क्रिकेटर इरफान पठान की प्रतिक्रिया सामने आई है। इरफान पठान ने हार्दिक पांड्या का नाम लेकर बीसीसीआई को आईना भी दिखाया है।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने श्रेयस अय्यर और ईशान किशन का सालाना अनुबंध खत्म कर दिया है। श्रेयर अय्यर और ईशान किशन को सालाना अनुबंध वाली लिस्ट से हटाने पर दोनों खिलाड़ियों के फैन्स नाराज हैं, तो अब पूर्व क्रिकेटर इरफान पठान की भी प्रतिक्रिया सामने आई है। इरफान पठान ने बीसीसीआई पर सवाल भी खड़े किए हैं, तो हार्दिक पांड्या का नाम लेकर बीसीसीआई को आईना भी दिखाया है।

इरफान पठान ने गुरुवार (29 फरवरी 2024) को इस विवाद पर अपनी राय रखी। उन्होंने बीसीसीआई को कटघरे में भी खड़ा किया। ईशान किशन और श्रेयस अय्यर की तुलना हार्दिक पांड्या से करते हुए इरफान पठान ने एक्स पर लिखा, “श्रेयस और ईशान दोनों ही टैलेंटेड क्रिकेटर हैं। उम्मीद है वे वापसी करेंगे। यदि हार्दिक पांड्या रेड बॉल क्रिकेट नहीं खेलना चाहते तो क्या उन्हें और दूसरों को वॉइट बॉल के घरेलू टूर्नामेंट नहीं खेलने चाहिए, अगर वे उस समय भारतीय टीम का हिस्सा न हों। यदि यह नियम हर किसी पर एक जैसा लागू नहीं है तो फिर भारत मनचाहा रिजल्ट हासिल नहीं कर सकता।”

बता दें कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट जारी किया था, जिसमें हार्दिक पांड्या को रिटेनरशिप में ग्रेड ए अनुबंध मिला। यह हैरान करने वाला था, क्योंकि किशन और श्रेयस अय्यर को सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से बाहर रखा गया है। देखा जाए तो हार्दिक पांड्या से अधिक मैच इन दोनों ने खेले और रणजी ट्रॉफी खेलने से कतराने की वजह से बोर्ड ने एक्शन लिया। दूसरी ओर, हार्दिक पांड्या लंबे समय से डोमेस्टिक नहीं खेल रहे हैं, लेकिन उनपर एक्शन नहीं लिया गया।

गौरतलब है कि बीसीसीआई के सेंट्रेल कॉन्ट्रैक्ट में आमतौर पर ग्रेड ए प्लस में शामिल खिलाड़ियों को 7 करोड़, ए ग्रेड में शामिल खिलाड़ियों को 5 करोड़, ग्रेड बी में 3 करोड़ तो वहीं ग्रेड सी में शामिल खिलाड़ियों को 1 करोड़ के दायरे में रखा जाता है। ये राशि इस साल बढ़ भी सकती है। हालाँकि इस साल की फीस का जिक्र नहीं किया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीपफेक वीडियो और ऑनलाइन फेक न्यूज़ पर लगेगी लगाम, ‘मोदी 3.0’ लेकर आ रहा ‘डिजिटल इंडिया बिल’: डेटा प्रोटेक्शन के बाद अब YouTube और...

अमित शाह का वीडियो वायरल कर दिया गया और दावा किया गया कि वो आरक्षण खत्म करने की बात कर रहे हैं। कई हस्तियाँ डीपफेक की शिकार बन चुकी हैं।

कश्मीर को अलग बताने वाली अरुंधति रॉय ने गुजरात दंगों को लेकर भी बोले थे झूठ: एहसान जाफरी की बेटियों से रेप और जिंदा...

साल 2002 के गुजरात दंगों को अरुंधति रॉय ने अपने लेख के जरिए कई तरह के झूठ और भ्रम फैलाने की कोशिश की थी। इसके लिए उन्हें माफी भी माँगनी पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -