Saturday, June 15, 2024
Homeविविध विषयअन्यऑस्ट्रेलिया की नौकरी छोड़, PM मोदी को वोट देने भारत आए शख़्स ने निभाई...

ऑस्ट्रेलिया की नौकरी छोड़, PM मोदी को वोट देने भारत आए शख़्स ने निभाई अपनी ज़िम्मेदारी

सुधींद्र कहते हैं कि सिडनी में जब लोग भारत की तारीफ करते हुए कहते हैं कि भारत का भविष्य बहुत अच्छा है, तो उन्हें बहुत गर्व होता है और वो इसका सारा श्रेय प्रधानमंत्री मोदी को देते हैं।

यूँ तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कई प्रशंसक हैं, लेकिन एक प्रशंसक ऐसा भी है, जिसने पीएम मोदी को वोट देने के लिए ऑस्ट्रेलिया में अच्छी खासी नौकरी छोड़ दी। बता दें कि यह शख्स ऑस्ट्रेलिया में नौकरी करता था और वोटिंग के दिन की छुट्टी न मिलने पर उसने नौकरी छोड़कर वोट देना उचित समझा। जी हाँ, कर्नाटक के रहने वाले सुधींद्र हेब्बार नाम के एक शख्स ने इसलिए नौकरी छोड़ दी, क्योंकि वो पीएम मोदी को वोट देकर फिर से प्रधानमंत्री बनवाना चाहते हैं और इसलिए वो नौकरी छोड़कर भारत आ गए।

दरअसल, सुधींद्र हेब्बार सिडनी एयरपोर्ट पर स्‍क्रीनिंग ऑफिसर के तौर पर काम कर रहे थे और उन्हें पीएम मोदी को वोट देने के लिए छुट्टी चाहिए थी, लेकिन जब उन्हें वोटिंग के दिन की छुट्टी नहीं मिली तो उन्होंने नौकरी छोड़ दी। सुधींद्र ने बताया कि उन्हें 5 अप्रैल से 12 अप्रैल तक की छुट्टी मिली थी और आगे आने वाले त्योहार ईस्टर और रमजान की वजह से वो अपनी छुट्टियों को आगे नहीं बढ़ा सकते थे, क्योंकि इस दौरान एयरपोर्ट पर काफी भीड़ होती है। मगर उन्होंने सोच लिया था कि वो किसी भी हालत में वोट डालेंगे, इसीलिए उन्होंने ये फैसला लिया।

इसके पीछे का तर्क देते हुए सुधींद्र कहते हैं कि सिडनी में जब लोग भारत की तारीफ करते हुए कहते हैं कि भारत का भविष्य बहुत अच्छा है, तो उन्हें बहुत गर्व होता है और वो इसका सारा श्रेय प्रधानमंत्री मोदी को देते हैं। उनका कहना है कि वो सीमा पर जाकर जाकर देश की रक्षा तो नहीं कर सकते, लेकिन वोट डालकर एक वोटर का फर्ज तो निभा सकते हैं।

नौकरी की बात पर सुधींद्र कहते हैं कि वो ऑस्‍ट्रेलिया में परमानेंट रेजिडेंट कार्ड होल्‍डर हैं और वो पहले भी सिडनी में रेलवे के साथ काम कर चुके हैं। इसलिए उन्हें नहीं लगता कि दूसरी नौकरी खोजने में कोई दिक्‍कत आएगी।

ख़बर के अनुसार, सुधींद्र पिछले लोकसभा चुनाव में भी वो 17 अप्रैल 2014 को भारत आए थे और अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर वापस सिडनी चले गए थे। इस बार भी वो 23 मई को चुनाव के नतीजे आने के बाद ही सिडनी जाएँगे और फिर कोई दूसरी नौकरी ढूँढेंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NSA, तीनों सेनाओं के प्रमुख, अर्धसैनिक बलों के निदेशक, LG, IB, R&AW – अमित शाह ने सबको बुलाया: कश्मीर में ‘एक्शन’ की तैयारी में...

NSA अजीत डोभाल के अलावा उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा, तीनों सेनाओं के प्रमुख के अलावा IB-R&AW के मुखिया व अर्धसैनिक बलों के निदेशक भी मौजूद रहेंगे।

अब तक की सबसे अधिक ऊँचाई पर पहुँचा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार, उधर कंगाली की ओर बढ़ा पाकिस्तान: सिर्फ 2 महीने का बचा...

एक तरफ पाकिस्तान लगातार बर्बादी की कगार पर पहुँच रहा है, तो दूसरी तरफ भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार बढ़ता जा रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -