Saturday, September 26, 2020
Home विविध विषय अन्य लाल किला एक्सरसाइज: चीन पर लेफ्टिनेंट जनरल थोराट ने 1960 में चेताया, नहीं सँभले...

लाल किला एक्सरसाइज: चीन पर लेफ्टिनेंट जनरल थोराट ने 1960 में चेताया, नहीं सँभले नेहरू, फिर हुआ 1962…

लेखक और इतिहासकार कुमार वर्मा भी बता चुके हैं कि उस समय के रक्षा मंत्री ही इस बात को मानने को तैयार नहीं थे कि चीन कभी भारत पर हमला कर सकता है। इसलिए नेहरू भी उन्हीं के मत के साथ आगे बढ़े। बाकी जो हुआ सब इतिहास है।

चीन के साथ युद्ध की स्थिति तो साल 1960 से पहले ही पैदा हो चुकी थी। लेकिन तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने हालातों को गंभीरता से लेना उचित न समझा। इन बातों का खुलासा पूर्व आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एसएसपी थोराट के उन निष्कर्षों से होता है, जिसे उन्होंने उस समय एक साल तक स्थिति का मुआयना करने के बाद लिखा था।

बात 1959 से शुरू होती है, जब चीन ने सर्वप्रथम पाकिस्तान से गैरकानूनी ढंग से अक्साई चीन अपने कब्जे में ले लिया और घोषणा कर दी कि मैकमोहन रेखा को सीमा रेखा नहीं मानता और तिब्बत उसका अखंड हिस्सा है। ये वो समय था जब जवाहरलाल नेहरू के प्रधानमंत्री होते हुए देश की सेना की स्थिति बेहद खराब थी और चीन इसका भरपूर फायदा उठाने को तैयार था।

इन्हीं हालातों के मद्देनजर पूर्व सेना कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एसएसपी थोराट ने स्थिति को देखते हुए एक निष्कर्ष तैयार किया। इस निष्कर्ष को उन्होंने ‘लाल किला’ अभ्यास का नाम दिया। इन सीक्रेट पेपर को साल 2012 में इंडिया टुडे ने एक्सेस कर एक रिपोर्ट तैयार की। इससे पता चलता है कि चीन के साथ युद्ध में भारतीय वायुसेना का आक्रमक भूमिका में होना सेना की युद्ध योजनाओं का अभिन्न अंग था।

अपने इन निष्कर्षों में उन्होंने साफ बताया था कि भारत-चीन सीमा के बीच जैसे संबंध 1960 से पहले रहे हैं। उनमें आने वाले समय में बदलाव आ सकता है। अपनी बात रखते हुए उन्होंने इन बदलावों का कारण उन क्षेत्रों को बताया था जो स्पष्ट तौर पर भारत के थे। लेकिन चीन उन पर कब्जा करना चाहता था।

- विज्ञापन -

उन्होंने इन दस्तावेजों में लिखा था कि चीन अब मैकमोहन सीमा को अंतरराष्ट्रीय सीमा रेखा मानने से इनकार कर रहा है और लद्दाख के कुछ क्षेत्रों में अपना कब्जा करना चाहता है। इसलिए भारत को चीन के पूर्ण प्रतिरोध का विरोध करने और किसी भी प्रकार के घुसपैठ को दूर करने की आवश्यकता है।

रिपोर्ट के अनुसार, उस समय में आर्मी कमांडर रहे लेफ्टिनेंट जनरल एसएसपी थोराट ने अपने निष्कर्ष में कहा:

पहले हमारे लिए सबसे बड़ा ख़तरा सिर्फ़ पाकिस्तान था। इस ख़तरे के साथ ही अब चीन का ख़तरा भी जुड़ गया है। चीन हमारी धरती पर कब्ज़ा करने की फ़िराक़ में है। चीन ने मैकमोहन लाइन को अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर मानने से इनकार कर दिया है। इसके साथ ही उसने लद्दाख, उत्तर प्रदेश और North East Frontier Agency के इलाकों में घुसपैठ भी की है…

जनरल थोराट ने अपने निष्कर्षों से यह चेतावनी ठीक चीनी हमले के दो साल पहले दे दी थी। लेकिन नेहरू सरकार ने इस पर कोई एक्शन नहीं लिया। अंतत: साल 1962 में 20 अक्टूबर को चीनी सैनिकों ने भारत पर हमला बोला। जिसके बाद साबित हो गया कि लेफ्टिनेंट जनरल थोराट का अनुमान कितना सटीक था।

17 मार्च 1960 को लाल किला अभ्यास हुआ। उस समय ऐसा लगा जैसे लेफ्टिनेंट जनरल जानते थे कि चीन हमला करने वाला है। दरअसल, उन्होंने मैकमोहन रेखा के पार सैन्य और बुनियादी ढाँचे के निर्माण का आंकलन कर लिया था।

साल 2012 की एक रिपोर्ट के अनुसार, लेफ्टिनेंट जनरल गुरु बख्शी व पूर्व महानिदेशक और तत्कालीन युवा कप्तान कहते हैं कि 1959 में हम सभी युवा अधिकारियों को जनरल थिमैया ने अड्रेस किया था। उस समय उनकी बातों से हमें समझ आया कि तत्कालीन रक्षा मंत्री वीके कृष्णा सेना की सलाह लेने में दिलचस्पी नहीं ले रहे थे।

लेफ्टिनेंट जनरल थोराट ने अपने निष्कर्ष में साफ कहा था कि पाकिस्तान और चीन से आक्रामकता के खिलाफ हमारे क्षेत्र और सिक्किम की रक्षा करें और नेपाल को सैन्य सहायता देने और नागा हिल्स और तुएनसांग एजेंसी में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए तैयार रहें।

बता दें जनरल थोराट ने यह सभी बातें बिना किसी आधार पर नहीं कही थीं। उन्होंने विस्तृत खुफिया जानकारी की मदद से चीन के सैन्य निर्माण व सड़क और हवाई क्षेत्र निर्माण योजनाओं का आकलन कर अपनी रिपोर्ट पेश की थी। मगर, तब भी उनकी बात की सुनवाई नहीं हुई। इसका परिणाम हमें 1962 में देखने को मिला।

सेना के पूर्व उपाध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल शांतनु चौधरी ने उस समय को याद करते हुए दुख जताया था और कहा था कि दुख की बात है कि उस समय शीर्ष सैन्य और राजनीतिक नेतृत्व के बीच समन्वय का अभाव था।

जब लेफ्टिनेंट जनरल ने चेतावनी दी थी और उस पर काम किया गया होता तो हालात बिलकुल अलग होते। लेफ्टिनेंट जनरल थोराट भी चाहते थे कि युद्ध में एयरफोर्स की अहम भूमिका हो। बता दें पूर्व एयर चीफ मार्शल भी इस बात को कह चुके हैं कि अगर तब हवाई शक्ति का इस्तेमाल होता तो परिणाम बिलकुल अलग होते।

इसके अलावा लेखक और इतिहासकार कुमार वर्मा भी बता चुके हैं कि उस समय के रक्षा मंत्री ही इस बात को मानने को तैयार नहीं थे कि चीन कभी भारत पर हमला कर सकता है। इसलिए नेहरू भी उन्हीं के मत के साथ आगे बढ़े। बाकी जो हुआ सब इतिहास है। उस समय अगर लेफ्टिनेंट जनरल की रिपोर्ट पर सकारात्मक रूप से विचार होता तो भारत हालातों के लिए तैयार होता।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

द वायर ने एडिटेड वीडियो से कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर बीजेपी कार्यकर्ताओं के हमले के बारे में फैलाई फर्जी खबरें, यहाँ जाने सच

वायर के सिद्धार्थ वरदराजन और आरफा शेरवानी जैसे तथाकथित 'निष्पक्ष' पत्रकारों ने जानबूझकर भाजपा कार्यकर्ताओं पर प्रारंभिक हमले को नजरअंदाज कर दिया और इस घटना के बारे में आधे सच को आगे फैलाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर हमला किया था।

UN में स्थायी सीट के लिए PM मोदी ने ठोकी ताल, पूछा- कब तक इंतजार करेगा भारत, पाक और चीन पर भी साधा निशाना

महामारी के बाद बनी परिस्थितियों के बाद हम 'आत्मनिर्भर भारत' के विजन को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। आत्मनिर्भर भारत अभियान, ग्लोबल इकॉनमी के लिए भी एक फोर्स मल्टिप्लायर होगा।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

‘शाही मस्जिद हटाकर 13.37 एकड़ जमीन खाली कराई जाए’: ‘श्रीकृष्ण विराजमान’ ने मथुरा कोर्ट में दायर की याचिका

शाही ईदगाह मस्जिद को हटा कर श्रीकृष्ण जन्मभूमि की पूरी भूमि खाली कराने की माँग की गई है। याचिका में कहा गया है कि पूरी भूमि के प्रति हिन्दुओं की आस्था है।

सुशांत के भूत को समन भेजो, सारे जवाब मिल जाएँगे: लाइव टीवी पर नासिर अब्दुल्ला के बेतुके बोल

नासिर अब्दुल्ला वही शख्स है, जिसने कंगना पर बीएमसी की कार्रवाई का समर्थन करते हुए कहा था कि शिव सैनिक महिलाओं का सम्मान करते हैं, इसलिए बुलडोजर चलवाया है।

प्रचलित ख़बरें

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

पूना पैक्ट: समझौते के बावजूद अंबेडकर ने गाँधी जी के लिए कहा था- मैं उन्हें महात्मा कहने से इंकार करता हूँ

अंबेडकर ने गाँधी जी से कहा, “मैं अपने समुदाय के लिए राजनीतिक शक्ति चाहता हूँ। हमारे जीवित रहने के लिए यह बेहद आवश्यक है।"

नूर हसन ने कत्ल के बाद बीवी, साली और सास के शव से किया रेप, चेहरा जला अलग-अलग जगह फेंका

पानीपत के ट्रिपल मर्डर का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने नूर हसन को गिरफ्तार कर लिया है। उसने बीवी, साली और सास की हत्या का जुर्म कबूल कर लिया है।

‘मारो, काटो’: हिंदू परिवार पर हमला, 3 घंटे इस्लामी भीड़ ने चौथी के बच्चे के पोस्ट पर काटा बवाल

कानपुर के मकनपुर गाँव में मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू घर को निशाना बनाया। बुजुर्गों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा।

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘काफिरों का खून बहाना होगा, 2-4 पुलिस वालों को भी मारना होगा’ – दिल्ली दंगों के लिए होती थी मीटिंग, वहीं से खुलासा

"हम दिल्ली के मुख्यमंत्री पर दबाव डालें कि वह पूरी हिंसा का आरोप दिल्ली पुलिस पर लगा दें। हमें अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतरना होगा।”

MP रवि किशन को ड्रग्स पर बोलने के कारण मिल रही धमकियाँ, कहा- बच्चों के भविष्य के लिए 2-5 गोली भी मार दी...

रवि किशन को ड्रग्स का मामला उठाने की वजह से कथित तौर पर धमकी मिल रही है। धमकियों पर उन्होंने कहा कि देश के भविष्य के लिए 2-5 गोली खा लेंगे तो कोई चिंता नहीं है।

छत्तीसगढ़: वन भूमि अतिक्रमण को लेकर आदिवासी और ईसाई समुदायों में झड़प, मामले को जबरन दिया गया साम्प्रदयिक रंग

इस मामले को लेकर जिला पुलिस ने कहा कि मुद्दा काकडाबेड़ा, सिंगनपुर और सिलाती गाँवों के दो समूहों के बीच वन भूमि अतिक्रमण का है, न कि समुदायों के बीच झगड़े का।

द वायर ने एडिटेड वीडियो से कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर बीजेपी कार्यकर्ताओं के हमले के बारे में फैलाई फर्जी खबरें, यहाँ जाने सच

वायर के सिद्धार्थ वरदराजन और आरफा शेरवानी जैसे तथाकथित 'निष्पक्ष' पत्रकारों ने जानबूझकर भाजपा कार्यकर्ताओं पर प्रारंभिक हमले को नजरअंदाज कर दिया और इस घटना के बारे में आधे सच को आगे फैलाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर हमला किया था।

ड्रग्स में संलिप्त कलाकारों को निर्माता नहीं दें काम, सुशांत के मामले को भी जल्द सुलझाए CBI: रामदास अठावले

"ड्रग्स में संलिप्त कलाकारों को निर्माता काम नहीं दें। ड्रग्स में संलिप्त कलाकारों को फिल्में देना बंद नहीं हुआ तो आरपीआई कार्यकर्ता विरोध दर्ज कराते हुए शूटिंग बंद करने भी पहुँचेंगे।"

मुख्तार अहमद से राहुल बनने की साजिश में वकील फातिमा ने की मदद: SIT को मिली लव जिहाद से जुड़े मास्टरमाइंड की कड़ी

SIT ने कानपुर लव जिहाद मामले के आरोपित का कथित रूप से फर्जी दस्तावेज तैयार करने के आरोप में एक महिला वकील फातिमा का पता लगाया है।

मीडिया अगर किसी भी सेलेब्रिटी की गाड़ी का पीछा करेगी तो मुंबई पुलिस गाड़ी जब्त कर ड्राइवर पर करेगी कार्रवाई: DCP

डीसीपी ने कहा कि आज पुलिस ने कई मीडिया वाहनों का अवलोकन किया, जिन्होंने एनसीबी जाँच के लिए बुलाए गए लोगों का पीछा करते हुए पाए गए।

CM योगी को धमकाने वाला ट्रक ड्राइवर गिरफ्तार: मुख़्तार अंसारी को 24 घंटे के भीतर रिहा करने की दी थी धमकी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मारने की धमकी देने वाले को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपित एटा जिले का रहने वाला है। उससे पूछताछ की जा रही है।

UN में स्थायी सीट के लिए PM मोदी ने ठोकी ताल, पूछा- कब तक इंतजार करेगा भारत, पाक और चीन पर भी साधा निशाना

महामारी के बाद बनी परिस्थितियों के बाद हम 'आत्मनिर्भर भारत' के विजन को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। आत्मनिर्भर भारत अभियान, ग्लोबल इकॉनमी के लिए भी एक फोर्स मल्टिप्लायर होगा।

लवजिहाद के लिए पाकिस्तानी संगठन दावत-ए-इस्लामी कर रहा करोड़ों की फंडिंग: कानपुर SIT जाँच में खुलासा

सभी मामलों की जाँच करने के बाद पता चला कि सभी आरोपितों का जुड़ाव शहर की ऐसी मस्जिदों से है, जहाँ पाकिस्तान कट्टरपंथी विचारधारा के संगठन दावते इस्लामी का कब्जा है।

कंगना केस में हाईकोर्ट ने BMC को लगाई फटकार, पूछा- क्या अवैध निर्माण गिराने में हमेशा इतनी तेजी से कार्रवाई करती है बीएमसी?

कोर्ट ने बीएमसी से पूछा कि क्या अवैध निर्माण को गिराने में वह हमेशा इतनी ही तेजी दिखाती है जितनी कंगना रनौत का बंगला गिराने में दिखाई?

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,069FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe
Advertisements