Friday, August 6, 2021

विषय

Jawaharlal Nehru

जेल में चूहा नेहरू के लिए ‘टॉर्चर’, झाड़ू लगा और अंग्रेजी बॉन्ड भर सिर्फ 12 दिन में निकले: सावरकर ने 15 साल झेली प्रताड़ना

नेहरू ने अपनी आत्मकथा में भी नाभा की 'प्रताड़ना' का जिक्र किया है - कमरे की ऊँचाई कम थी, वहाँ एक चूहा था, जमीन पर सोना होता था और सैनिटाइजेशन की व्यवस्था नहीं थी।

नेहरू के समलैंगिक संबंध, बायसेक्सुअल मानसिकता और यौन संक्रामक बीमारी के कारण निधन: विदेशी मीडिया की रिपोर्ट और सच्चाई

27 मई 1964 की सुबह नेहरू का निधन हार्ट अटैक के कारण हुआ और इसी के बाद दोपहर 2 बजे संसद में ऐलान किया गया कि 74 वर्षीय नेहरू अब नहीं रहे।

अजीबोगरीब कल्पनाओं वाली नेहरू की विदेश नीति: मुस्लिम राष्ट्रों ने ठुकराया, इजरायल को भारत से कर दिया था दूर

इसे दुर्भाग्य के अलावा क्या ही कहा जाएगा कि एक लोकतान्त्रिक संप्रभु देश की विदेश नीति को तुष्टिकरण के द्वारा तय किया जाता था।

जिस अंग्रेज की बीवी के लिए PM नेहरू ने भेजा था इंडियन नेवी का जहाज, उसके लेटर-डायरी पर इंग्लैंड ने लगाई रोक

जवाहरलाल नेहरू के जीवनीकार स्टेनली वॉलपर्ट ने अपनी किताब ‘नेहरू: अ ट्राइस्ट विद डेस्टिनी’ में बताया कि माउंटबेटन के नाती...

रुपए भर की सिगरेट के लिए जब नेहरू ने फूँकवा दिए थे हजारों: किस्सा भोपाल-इंदौर और हवाई जहाज का

अनगिनत तस्वीरों में नेहरू धूम्रपान करते हुए दिखाई देते हैं। धूम्रपान को स्टेटस सिंबल या 'कूल' दिखने का एक तरीका माना जा सकता है लेकिन...

एक बजट 1959 का भी: नेहरू सरकार ने रक्षा खर्च में ₹25 करोड़ की कटौती की, 3 साल बाद चीन ने हमला कर दिया

1959 में नेहरू सरकार ने रक्षा बजट में भारी कटौती की। नतीजा चीन के साथ युद्ध में देश ने भुगता। यह नेहरू की ऐसी गलती है जिस पर चर्चा बहुत कम हुई है।

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

‘लता मंगेशकर ने 1947 में नेहरू के लिए गाया था ऐ मेरे वतन के लोगों’: विशाल डडलानी ने बताया इतिहास – Fact Check

विशाल डडलानी ने दावा किया है कि लता मंगेशकर ने भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के लिए 'ऐ मेरे वतन के लोगों' गाना गाया था।

‘मनमोहन को PM पद दान में मिला, जबकि मोदी ने हासिल किया, कॉन्ग्रेस खो चुकी है अपना करिश्माई नेतृत्व’: प्रणब मुखर्जी

प्रणब मुखर्जी ने अपनी पुस्तक में लिखा है कि कॉन्ग्रेस का अपने करिश्माई नेतृत्व के खत्म होने की पहचान नहीं कर पाना 2014 के लोकसभा में उसकी हार के कारणों में से एक रहा।

नेहरू न ठुकराते राजा का ऑफर तो आज भारत का हिस्सा होता नेपाल: प्रणब मुखर्जी की पुस्तक में खुलासा

जवाहरलाल नेहरू चाहते थे कि वहाँ पर लोकतंत्र हो। नेहरू का कहना था कि नेपाल एक स्वतंत्र राष्ट्र है और उसे ऐसे ही बने रहना चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe