Tuesday, June 25, 2024
Homeविविध विषयअन्यटीम इंडिया का हेड कोच बनना चाहते हैं नरेंद्र मोदी और अमित शाह, BCCI...

टीम इंडिया का हेड कोच बनना चाहते हैं नरेंद्र मोदी और अमित शाह, BCCI को मिले 3000 आवेदन: तेंदुलकर-धोनी ने भी किया अप्लाई, जानिए क्या है माजरा

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम के लिए 3000 से अधिक आवेदन 13 मई, 2024 के बाद से मिले हैं। BCCI ने 13 मई, 2024 को सोशल मीडिया के माध्यम से नए हेड कोच के लिए आवेदन माँगे थे। यह आवेदन गूगल फॉर्म्स के जरिए दिए जाने थे।

भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम के हेड कोच के पद के लिए 3,000 से अधिक आवेदन प्राप्त हुए हैं। हेड कोच के लिए अधिकांश आवेदन फर्जी आए हैं। BCCI को अब इन्हें छाँटने में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इनमें से कई आवेदन फर्जी नामों से भी किए गए हैं।

रिपोर्टस के अनुसार, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम के लिए 3000 से अधिक आवेदन 13 मई, 2024 के बाद से मिले हैं। BCCI ने 13 मई, 2024 को सोशल मीडिया के माध्यम से नए हेड कोच के लिए आवेदन माँगे थे। यह आवेदन गूगल फॉर्म्स के जरिए दिए जाने थे।

इस गूगल फॉर्म के जरिए 27 मई, 2024 तक आवेदन दिया जाना था। BCCI को दिए जाने वाले आवेदन में कई जानकारियाँ भरनी थी लेकिन इसे कोई भी भर सकता था। ऐसे में इस लिंक का इस्तेमाल करते हुए अधिकांश फर्जी आवेदन भरे गए। इनको भरने वाले कोई पूर्व क्रिकेटर या अनुभवी कोच नहीं बल्कि सामान्य इंटरनेट यूजर थे।

कई लोगों ने फर्जी नामों से फर्जी आवेदन किए। लोगों ने हरभजन सिंह, महेंद्र सिंह धोनी और वीरेंदर सहवाग नाम जैसे पूर्व क्रिकेटरों के नाम से फर्जी फॉर्म भर दिए। यहाँ तक कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के नाम से भी आवेदन कर दिया।

इन फर्जी आवेदनों की बाढ़ के बीच BCCI को अब सही दावेदारों को तलाशना मुश्किल हो रहा है। अभी यह जानकारी सामने नहीं आई है कि किसी अनुभवी दावेदार ने इस प्रक्रिया के जरिए आवेदन किया है या नहीं। इससे पहले 2022 में भी BCCI को 5000 आवेदनों में से सही आवेदन तलाशने पड़े थे और उसे काफी मुश्किलें आई थी।

अगले कोच का कार्यकाल वर्तमान में अमेरिका में आयोजित हो रहे T20 विश्व कप के बाद चालू होगा और 2027 तक रहेगा। 2027 में 50 ओवर वाला विश्वकप भी होना है। इस बीच चर्चा है कि पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर का नाम हेड कोच के लिए लाया जा सकता है लेकिन इस पर अभी कोई पुष्टि नहीं हुई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

‘जिन्होंने इमरजेंसी लगाई वे संविधान के लिए न दिखाएँ प्यार’: कॉन्ग्रेस को PM मोदी ने दिखाया आईना, आपातकाल की 50वीं बरसी पर देश मना...

इमरजेंसी की 50वीं बरसी पर पीएम मोदी ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। साथ ही लोगों को याद दिलाया कि कैसे उस समय लोगों से उनके अधिकार छीने गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -