Wednesday, July 28, 2021
Homeविविध विषयअन्य...अब पाकिस्तान में टेनिस मैच भी नहीं खेला जाएगा, ITF ने लिया निर्णय: 5...

…अब पाकिस्तान में टेनिस मैच भी नहीं खेला जाएगा, ITF ने लिया निर्णय: 5 दिन में माँगा Pak से जवाब

"एशिया/ओसनिया ग्रुप-1 मुकाबले को इस्लामाबाद में नहीं करने का फैसला किया गया है। अब यह मुकाबला न्यूट्रल वेन्यू पर आयोजित किया जाएगा।"

इंटरनेशनल टेनिस फेडरेशन (ITF) ने सुरक्षा कारणों के कारण भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाले डेविस कप मुकाबले को न्यूट्रल वेन्यू पर करवाने का फैसला किया है। इस बात की जानकारी खुद ITF ने सोमवार (नवंबर 5, 2019) को बयान जारी करके दी। आईटीएफ ने बताया कि इस्लामाबाद में होने वाले टेनिस मुकाबले को न्यूट्रल वेन्यू पर शिफ्ट कर दिया गया है।

अपने बयान में आईटीएफ ने साफ कहा, “एशिया/ओसनिया ग्रुप-1 मुकाबले को इस्लामाबाद में नहीं करने का फैसला किया गया है। अब यह मुकाबला न्यूट्रल वेन्यू पर आयोजित किया जाएगा।” बता दें ये मुकाबला 29-30 नवंबर को खेला जाना है।

सोमवार को आए बयान के मुताबिक, ITF के सुरक्षा सलाहकारों की ओर से प्राप्त रिपोर्ट की समीक्षा के बाद डेविस कप कमिटी ने ये फैसला किया है कि अब भारत-पाक मैच न्यूट्रल वैन्यू पर खेला जाएगा। जिसके लिए पाकिस्तान टेनिस फेडरेशन के पास अब किसी भी न्यूट्रल वेन्यू को नॉमिनेट करने का विकल्प है, इसे चुनने के लिए उसे ITF से 5 दिन का समय मिला है।

ITF ने अपने बयान में बताया है कि विकल्प का चयन और उसपर स्वीकृति के बाद वेन्यू की जानकारी दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि आईटीएफ और डेविस कप कमिटी की पहली प्राथमिकता ऐथलीटों, अधिकारियों और दर्शकों की सुरक्षा है। जिसके आधार पर उन्होनें ये फैसला लिया है।

ITF के इस फैसले को सोशल मीडिया पर यूजर्स द्वारा काफी सराहा जा रहा है। लोगों का कहना है कि ये बिलकुल उचित निर्णय है और इसके लिए ITF का धन्यवाद।

वहीं कुछ लोगों का ये भी कहना है कि इस मैच को दुबई या फिर अफगानिस्तान में करवाया जाना चाहिए। ताकि दोनों टीमों के हिस्से बराबर समर्थन आए।

गौरतलब है कि पाकिस्तान में खिलाड़ियों की आतंरिक सुरक्षा लंबे समय से एक बड़ी चुनौती का विषय बनी हुई है। अभी हाल ही में श्रीलंकाई खिलाड़ियों को भी पाकिस्तान में भारी सुरक्षा के बीच उनके होटल तक पहुँचाया गया था, तब सोशल मीडिया पर मजाक बना था कि पाक खुद जानता है उनके सरजमीं पर कोई सुरक्षित नहीं है, इसलिए खिलाड़ियों प्रधानमंत्री से भी ज्यादा सुरक्षा मुहैया करवाई गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दामाद के परिवार का दिवालिया कॉलेज खरीदेगी भूपेश बघेल सरकार: ₹125 करोड़ का कर्ज, मान्यता भी नहीं

छत्तीसगढ़ की कॉन्ग्रेस सरकार ने एक ऐसे मेडिकल कॉलेज के अधिग्रहण की तैयारी शुरू की, जो सीएम भूपेश बघेल की बेटी दिव्या के ससुराल वालों का है।

एक शक्तिपीठ जहाँ गर्भगृह में नहीं है प्रतिमा, जहाँ हुआ श्रीकृष्ण का मुंडन संस्कार: गुजरात का अंबाजी मंदिर

गुजरात के बनासकांठा जिले में राजस्थान की सीमा पर अरासुर पर्वत पर स्थित है शक्तिपीठों में से एक श्री अरासुरी अंबाजी मंदिर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,580FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe