Monday, June 17, 2024
Homeविविध विषयअन्यकभी पिता के लिए बेचा पान, अब CWG में भारत को दिलाया पहला मेडल:...

कभी पिता के लिए बेचा पान, अब CWG में भारत को दिलाया पहला मेडल: संकेत महादेव ने वेटलिफ्टिंग में जीती ‘चाँदी’, चोटिल होने के कारण ‘गोल्ड’ से चूके

भारत के संकेत महादेव ने इससे पहले पिछले साल दिसंबर में कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में नेशनल रिकॉर्ड के साथ गोल्ड मेडल को जीता था। इसके अलावा फरवरी में सिंगापुर वेटलिफ्टिंग इंटरनेशनल में 256 किलोग्राम उठाकर कॉमनवेल्थ और राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ा था।

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भारत के हिस्से पहला पदक आ गया है। भारत के संकेत महादेव सरगर ने 55kg की वेथ लिफ्टिंग में देश को रजत पदक दिलाया। बर्मिंघम में हो रहे कॉमनवेल्थ गेम्स में वेटलिफ्टर संकेत ने पहले प्रयास में 113 किग्रा भार उठाया और दूसरे राउंड में 135 किग्रा वजन उठाकर रजत पदक अपने नाम किया।

संकेत ने दूसरे राउंड में चोटिल होने के बावजूद यह उपलब्धि हासिल की। इस राउंड में उन्होंने दो बार 139 किग्रा उठाने का प्रयास किया जिसकी वजह से उन्हें चोट लग गई।

उन्होंने दो राउंड के 6 प्रयासों में अपनी पूरी ताकत झोंकते हुए कुल 248 किलोग्राम का वजन उठाया और सिल्वर पदक को अपने नाम किया। वहीं मलेशिया के अनीक कासदान ने 249 किलोग्राम का भार उठाकर स्वर्ण पदक को अपने नाम किया जबकि श्रीलंका के दिलांका कुमारा ने 225 किलोग्राम उठाकर कास्य पदक जीता। 

बता दें कि भारत के संकेत महादेव ने इससे पहले पिछले साल दिसंबर में कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में नेशनल रिकॉर्ड के साथ गोल्ड मेडल को जीता था। इसके अलावा फरवरी में सिंगापुर वेटलिफ्टिंग इंटरनेशनल में 256 किलोग्राम उठाकर कॉमनवेल्थ और राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ा था। अब उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स में सिल्वर जीता है। उनकी इस कामयाबी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शुभकामनाएँ दी हैं।

उल्लेखनीय है कि संकेत महादेव सरगर महाराष्ट्र के सांगली के रहने वाले हैं। उनके पिता पान की दुकान चलाते हैं और खुद संकेत भी इसमें उनकी मदद करते हैं। संकेत ने हाल ही में कहा था कि अगर वह स्वर्ण जीतते हैं तो अपने पिता की मदद करेंगे। उन्होंने काफी दुख उठाए हैं। इसलिए संकेत उन्हें खुशियाँ देना चाहते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -