Wednesday, September 29, 2021
Homeविविध विषयअन्यTokyo Olympics 2020: रेसलर रवि कुमार दहिया ने फाइनल में बनाई जगह, भारत का...

Tokyo Olympics 2020: रेसलर रवि कुमार दहिया ने फाइनल में बनाई जगह, भारत का एक और मेडल हुआ पक्का

रवि दहिया ने पहले दौर में कोलंबिया के टिगरेरोस उरबानो आस्कर एडवर्डो को 13-2 से हराने के बाद बुल्गारिया के जॉर्जी वेलेंटिनोव वेंगेलोव को 14-4 से हराया था। ऐसे में उन्हें फाइनल मुकाबले में प्रवेश का प्रबल दावेदार माना जा रहा था।

परुषों की 57 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती में भारत के रवि कुमार दहिया (Ravi Kumar Dahiya) ने फाइनल में अपनी जगह बना ली है। इसी के साथ टोक्यो ओलंपिक्स में भारत का चौथा मेडल भी पक्का हो चुका है। बुधवार (4 अगस्त, 2021) को खेले गए सेमीफाइनल मैच में रवि ने कजाकिस्तान के नूरइस्लाम सानायेव को मात दिया। ओलंपिक्स में कुश्ती के फाइनल में पहुँचने वाले दहिया दूसरे भारतीय हैं। इससे पहले यहाँ तक सुशील कुमार पहुँचे थे।

बता दें कि रवि दहिया ने पहले दौर में कोलंबिया के टिगरेरोस उरबानो आस्कर एडवर्डो को 13-2 से हराने के बाद बुल्गारिया के जॉर्जी वेलेंटिनोव वेंगेलोव को 14-4 से हराया था। ऐसे में उन्हें फाइनल मुकाबले में प्रवेश का प्रबल दावेदार माना जा रहा था।

बुल्गारिया के जॉर्जी वेलेंटिनोव वेंगेलोव के खिलाफ दहिया शुरू से ही हावी रहे और उन्होंने उन्हें इस मैच में कोई मौका नहीं दिया। इससे पहले प्री-क्वॉर्टर फाइनल में रवि कुमार और कोलंबिया के पहलवान के बीच पहले राउंड की शुरुआत में कड़ा मुकाबला देखने को मिला। दहिया ने शानदार प्रदर्शन कर पहले मिनट में दो अंक हासिल किए, लेकिन उरबानो ने रिवर्स टेकडाउन से स्कोर बराबर कर लिया। इसके बाद रवि ने वापसी की और एक और अंक अर्जित किया। इसके साथ ही वो टिगरेरोस उरबानो से पहला राउंड 13-2 से जीतने में कामयाब रहे। सेमीफाइनल में पुनिया का सामना अमेरिका के पहलवान डेविड टेलर से होगा।

बता दें कि इससे पहले भारतीय महिला बॉक्सर लवलीना बोरगेहेन को टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक प्राप्त हुआ है। हालाँकि, सेमीफाइनल में उन्हें तुर्की की बुसेनज सुरमैनेली ने हरा दिया। 23 वर्ष की लवलीना बोरगेहेन ने पहले ही भारत के लिए मेडल सुनिश्चित कर लिया था। उन्हें वीमेंस वेल्टरवेट (69 किलोग्राम) वर्ग में ये ख़िताब प्राप्त हुआ। पहले दोनों राउंड में लवलीना ने अच्छी शुरुआत की, लेकिन तुर्की की खिलाड़ी ने अंतिम कुछ सेकेंड्स में वापसी की।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,039FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe