Saturday, May 21, 2022
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीगूगल प्ले स्टोर से हटाई गईं Al-Moazin और Qibla Compass जैसी मुस्लिम प्रेयर ऐप्स:...

गूगल प्ले स्टोर से हटाई गईं Al-Moazin और Qibla Compass जैसी मुस्लिम प्रेयर ऐप्स: जानें क्या है वजह

यूजर्स की जानकारियाँ चुराने पर बारकोड स्कैनर और क्लॉक ऐप को भी ब्लॉक किया है। इसके अलावा अल मोजिन और किबला कम्पास जैसी ऐप्स पर के विरुद्ध भी गूगल ने एक्शन लिया है।

डिजिटल दुनिया में सबसे बड़ा नाम गूगल कंपनी का है। गूगल अपने यूजर्स को तमाम सुविधाएँ देती है और समय-समय पर अपने यूजर्स की सिक्योरिटी के लिए जरूरी व सख्त कदम भी उठाती है। इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है। यूजर्स को डिजिटली सुरक्षित करने की खातिर गूगल ने प्ले स्टोर से दर्जनों ऐप्स को बैन किया है। इनमें कुछ मुस्लिम प्रेयर ऐप भी हैं जिन्हें करोड़ों बार डाउनलोड किया गया था। कथिततौर पर ये ऐप्स अपने यूजर्स का पर्सनल डेटा कलेक्ट कर रही थीं, जिसकी शिकायत गूगल को कुछ महीनों पहले मिली थी।

सामने आई जानकारी के अनुसार, गूगल ने मशहूर बारकोड स्कैनर और क्लॉक ऐप तक को ब्लॉक किया है। इनके अलावा मुस्लिम प्रेयर ऐप हैं जिन्हें गूगल ने ब्लॉक किया। इनके नाम अल मोजिन और किबला कम्पास हैं। इन्हें गूगल प्ले स्टोर से 1 करोड़ से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका था। रिसर्चर्स ने इन ऐप्स को लेकर पाया कि ये यूजर्स के फोन नंबर, नेटवर्स इन्फॉर्मेशन और IMEI को चुराते थे। शोधकर्ताओं ने बताया कि इन कई ऐप्स में मैलवेयर था जिससे यूजर की पर्सनल जानकारी और दूसरे डेटा को हासिल किया जा सकता था।

रिपोर्ट्स बताती हैं कि जब यूजर्स ऐसी ऐप्स को अपने फोन में इंस्टॉल करते तो डिवाइस में पड़े डेटा के साथ यूजर का डेटा भी ये ऐप कलेक्ट कर लेतीं। फिर वो फोन नंबर हो, ईमेल एड्रेस हो या कोई और निजी जानकारी। इन ऐप्लीकेशन्स में मैलवेयर को AppCensus के Serge Egelman और Joel reardon ने खोजा था।

रियरडन बताते हैं कि उन्होंने इस खामी को लेकर सबसे पहले गूगल से संपर्क किया और इसकी जानकारी कंपनी को अक्टूबर में दी गई। हालाँकि, शिकायत के बावजूद ऐप 25 अप्रैल तक प्ले स्टोर पर दिखाई दीं। मगर, इसके बाद गूगल ने इस पर अपनी जाँच शुरू की और इन ऐप्स को प्ले स्टोर से हटा दिया। गूगल ने कार्रवाई करते हुए कहा, गूगल प्ले  पर मौजूद सभी ऐप् को कंपनी की पॉलिसी और गाइडलाइन के अनुसार चलना होगा। अगर कोई ऐप कंपनी के मानकों का उल्लंघन करता है तो उस पर एक्शन लिया ही जाएगा।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उद्धव का मंत्री, पवार का खास: अदालत ने भी माना ‘डी गैंग’ से नवाब मलिक के संबंध, ED ने चार्जशीट में बताया- मुंबई ब्लास्ट...

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गंभीर आरोपों में गिरफ्तारी के बावजूद अपने जिस मंत्री नवाब मलिक को हटाने से इनकार किया था, उनके डी गैंग से लिंक होने की बात अदालत ने भी मानी है।

अब कहाँ गायब हो गया ज्ञानवापी ढाँचे में दिखा शिवलिंग? पूर्व महंत ने तस्वीरों से खोले राज़, हनुमान मूर्ति और कमल के फूल भी...

काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत डॉ कुलपति तिवारी ने ज्ञानवापी विवादित ढाँचे और शिवलिंग को लेकर पुरानी तस्वीरें दिखाते हुए बड़ा दावा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,732FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe