Monday, July 22, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीजानें क्या है 'लैग्रेंज प्वाइंट', जहाँ रह कर सूर्य का अध्ययन करेगा आदित्य एल-1:...

जानें क्या है ‘लैग्रेंज प्वाइंट’, जहाँ रह कर सूर्य का अध्ययन करेगा आदित्य एल-1: 5 साल तक सूरज पर रखेगा नज़र, भेजेगा तस्वीरें और डेटा

आदित्य एल-1 पर लगे दो प्रमुख उपकरण - एसयूआईटी और वीईएलसी - पूरी तरह से घरेलू हैं - जिन्हें भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा डिजाइन और निर्मित किया गया है। इसके अलावा, वीईएलसी सूर्य के चुंबकीय क्षेत्र का अध्ययन करने के लिए 'स्पेक्ट्रोपोलारिमेट्रिक माप' करेगा, जो अंतरिक्ष में किसी भी देश द्वारा पहली बार उपयोग किया जाएगा।

चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के प्रमुख एस सोमनाथ ने 26 अगस्त 2023 कहा कि सूर्य का अध्ययन करने के लिए आदित्य एल-1 भेजा जाएगा। सोमनाथ ने कहा कि सूर्य से संबंधित भारत के पहले स्पेस मिशन आदित्य एल-1 श्रीहरिकोटा पहुँच गया है और यह सितंबर के पहले सप्ताह में लॉन्च होने के लिए तैयार है। तारीखों की घोषणा जल्दी ही की जाएगी।

अंतरिक्ष यान को सूर्य-पृथ्वी प्रणाली के लैग्रेंज बिंदु 1 (एल1) के चारों ओर एक प्रभामंडल कक्षा में स्थापित करने की योजना है, जो पृथ्वी से लगभग 15 लाख किलोमीटर दूर है। आदित्य एल-1 को लैग्रेंज बिंदु 1 के चारों ओर प्रभामंडल कक्षा में स्थापित करने से उपग्रह को बिना किसी रुकावट के सूर्य लगातार दिखेगा।

इसरो प्रमुख ने कहा, “प्रक्षेपण के बाद इसे पृथ्वी से लैग्रेंज प्वाइंट 1 (एल1) तक पहुंचने में 125 दिन लगेंगे। हमें तब तक इंतजार करना होगा।” आदित्य एल-1 मिशन लैग्रेंज प्वॉइंट-1 के आसपास का अध्ययन करेगा। यह विभिन्न तरंग बैंडों में प्रकाशमंडल, क्रोमोस्फीयर और सूर्य की सबसे बाहरी परतों, कोरोना का निरीक्षण करने के लिए सात पेलोड ले जाएगा।

क्या है लैग्रेंज प्वॉइंट

दरअसल, लैग्रेंज पॉइंट अंतरिक्ष में स्थित वो स्थान हैं, जहाँ सूर्य और पृथ्वी जैसे दो पिंड प्रणालियों के गुरुत्वाकर्षण बल आकर्षण और प्रतिकर्षण के उन्नत क्षेत्र उत्पन्न करते हैं। इनका उपयोग अंतरिक्ष यान द्वारा उसी स्थिति में बने रहने के लिए आवश्यक ईंधन की खपत को कम करने के लिए किया जा सकता है। यानी दोनों पिंडों का गुरुत्वाकर्षण यहाँ संतुलन में होता है।

अगर, दूसरे शब्दों में कहें तो लैग्रेंज बिंदु अंतरिक्ष में वे स्थान है, जहाँ भेजी गई वस्तुएँ वहीं रुक जाती हैं। लैग्रेंज बिंदुओं पर दो बड़े द्रव्यमानों का गुरुत्वाकर्षण खिंचाव एक छोटी वस्तु को उनके साथ चलने के लिए आवश्यक सेंट्रिपेटल बल के बराबर होता है। एल-1 सूर्य के चारों ओर पृथ्वी के कक्षीय पथ में स्थित है। यह पृथ्वी और सूर्य प्रणाली के पाँच लैग्रेंज प्वॉइंट में से एक है।

L1 एक दिलचस्प बिंदु है। गुरुत्वाकर्षण की संतुलन की वजह से यह विभिन्न वैज्ञानिक अवलोकनों और अंतरिक्ष अभियानों के लिए एक प्रमुख स्थान बन जाता है। पृथ्वी के वायुमंडल या दिन-रात के चक्र से प्रभावित हुए बिना सूर्य या ब्रह्मांड का निरंतर दृश्य देखने के लिए सौर और हेलिओस्फेरिक वेधशाला (एसओएचओ) को एल 1 के पास स्थित किया गया है। लैग्रेंज पॉइंट्स का नाम इतालवी-फ्रांसीसी गणितज्ञ जोसेफी-लुई लैग्रेंज के सम्मान में रखा गया है।

क्या अध्ययन करेगा आदित्य एल-1

सभी ग्रह, पृथ्वी और हमारे सौर मंडल के बाहर के ग्रह अपने नजदीकी तारे से सबसे अधिक प्रभावित होते हैं। सूर्य का मौसम पूरे सिस्टम के मौसम को प्रभावित करता है। इसमें किसी तरह का बदलाव उपग्रहों की चाल में परिवर्तन, इलेक्ट्रॉनिक्स को नुकसान और पृथ्वी पर बिजली की समस्या पैदा कर सकते हैं। अंतरिक्ष के मौसम को समझने के लिए सूर्य की घटनाओं के बारे में जानना महत्वपूर्ण है।

सूर्य का अध्ययन करने से हमें अपनी आकाशगंगा और उससे परे के तारों के बारे में जानकारी मिलती है। सूर्य की अत्यधिक गर्मी और चुंबकीय व्यवहार उन घटनाओं को समझने का एक अनूठा तरीका प्रदान करते हैं जिन्हें हम किसी प्रयोगशाला में दोबारा नहीं बना सकते। इस तरह के शोध के लिए यह एक विशेष प्राकृतिक प्रयोगशाला की तरह है।

पृथ्वी की ओर आने वाले तूफ़ानों को समझने के लिए सूर्य पर नज़र रखने की ज़रूरत है। प्रत्येक तूफान जो सूर्य से शुरू होता है और पृथ्वी की ओर आता है, वह L1 नामक एक विशेष बिंदु से होकर गुजरता है। इसलिए किसी उपग्रह को L1 के चारों ओर की कक्षा में स्थापित करने सूर्य को बिना रुकावट के देखने में मदद मिलती है।

आदित्य एल-1 के तहत सूर्य की बाहरी परत, उसका उत्सर्जन, उससे पैदा होने वाली हवा और उसके विस्फोटों और ऊर्जा का अध्ययन किया जाएगा। पृथ्वी के केंद्र से 15 करोड़ किलोमीटर दूर स्थित सूर्य की तस्वीरें यह लेता रहेगा और उसे पृथ्वी पर भेजता रहेगा। यह अध्ययन पाँच साल तक जारी रहेगा।

आदित्य एल-1 पर लगे दो प्रमुख उपकरण – एसयूआईटी और वीईएलसी – पूरी तरह से घरेलू हैं – जिन्हें भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा डिजाइन और निर्मित किया गया है। इसके अलावा, वीईएलसी सूर्य के चुंबकीय क्षेत्र का अध्ययन करने के लिए ‘स्पेक्ट्रोपोलारिमेट्रिक माप’ करेगा, जो अंतरिक्ष में किसी भी देश द्वारा पहली बार उपयोग किया जाएगा।

कितनी होगी गर्मी

2018 में लॉन्च किया गया नासा का पार्कर सोलर प्रोब किसी भी पिछले अंतरिक्ष यान की तुलना में सूर्य के ज्यादा करीब गया। मोटे तौर पर एक छोटी कार के आकार का, अंतरिक्ष यान सूर्य की बाहरी परत के माध्यम से यात्रा करता है, अंततः सूर्य की सतह से लगभग 40 लाख मील की दूरी तक पहुँचता है। पार्कर सोलर प्रोब को डेल्टा IV-हेवी रॉकेट का उपयोग करके अंतरिक्ष में भेजा गया था।

सूर्य के करीब यात्रा करते समय पार्कर सोलर प्रोब ने 1000 डिग्री सेल्सियस से अधिक के तापमान को सहन किया, फिर भी यह बिना किसी समस्या के काम करता रहा। इसके विपरीत, आदित्य एल-1 अंतरिक्ष यान नासा के मिशन की तुलना में सूर्य से बहुत दूर स्थित होगा। इसलिए इसे इतनी गर्मी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15 अगस्त को दिल्ली कूच का ऐलान, राशन लेकर पहुँचने लगे किसान: 3 कृषि कानूनों के बाद अब 3 आपराधिक कानूनों से दिक्कत, स्वतंत्रता...

15 सितंबर को जींद और 22 सितंबर को पीपली में किसानों की रैली प्रस्तावित है। किसानों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष को जमानत दिए जाने की भी निंदा की।

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -