Thursday, April 15, 2021
Home विविध विषय विज्ञान और प्रौद्योगिकी चायनीज कंपनी के मुकाबले देशी मोबाइल माइक्रोमैक्स की In Note 1 के साथ शानदार...

चायनीज कंपनी के मुकाबले देशी मोबाइल माइक्रोमैक्स की In Note 1 के साथ शानदार वापसी, कभी हुआ करता था भारत का नंबर 1 ब्रांड

जब चीनी कंपनियों को लेकर भारत सरकार ने सख्त रवैया अपनाया, तब लोगों को माइक्रोमैक्स की दोबारा याद आई। ‘आत्मनिर्भर भारत’ को बढ़ावा देने व चीन का बहिष्कार करने के लिए लोगों ने माइक्रोमैक्स को टैग करके ये कहना शुरू किया कि वह चीनी मोबाइलों का विकल्प ले कर आएँ।

जिन लोगों को साल 2013 तक स्मार्टफोन का चस्का लग चुका था वह सभी लोग अच्छे से जानते होंगे कि मोबाइल की दुनिया में माइक्रोमैक्स की क्या धूम थी। अलग-अलग रेंज का माइक्रोमैक्स फोन हर तीसरे-चौथे सड़क चलते इंसान के हाथ में देखने को मिल जाता था। 

माइक्रोमैक्स के इतना लोकप्रिय होने के पीछे मुख्य कारण था- कम दम दाम में अपने उपभोक्ता को तमाम फीचर्स के साथ ऐसा हैवी लुक वाला फ़ोन देना, जिससे उनकी जेब पर ज्यादा असर न पड़े और सोशल लाइफ में स्टेटस भी बरकरार रहे।

साल 2014-15 तक माइक्रोमैक्स भारत की लीडिंग कंपनियों में से एक रही। लेकिन, धीरे धीरे शाओमी का सुरूर लोगों पर चढ़ना शुरू हुआ और वह माइक्रोमैक्स को छोड़ उसकी ओर आकर्षित होते गए। गलती उस समय चायनीज कंपनियों की भी नहीं थी। 

क्वालिटी कंपैरिजन में माइक्रोमैक्स की कैनवस सीरिज के कई मॉडल्स को वाकई शाओमी का M1-1S पछाड़ने लगा था। बाकी की कसर वह लोग पूरी कर रहे थे जिन्हें तकनीक की जानकारी थी। हर कोई कम दाम में अच्छे फोन का पर्याय चायनीज फोनों को बताने लगा था।

Micromax Canvas Knight Cameo A290 Vs Xiaomi Mi 3: A New Budget Superstar in  the Making? - Gizbot News
साभार: gizbot

साल 2014 के अंत में और 2015 की शुरुआत में माइक्रोमैक्स की स्थिति डंवाडोल होनी शुरू हुई और इसी बीच आया शाओमी का नोट 1। जिसकी माँग ऑनलाइन नए रिकॉर्ड कायम कर रही थी। चायनीज कंपनियों को ज्यादा समय नहीं लगा माइक्रोमैक्स से लोगों का मन दूर हटाने में।

कभी जो काम सैमसंग के साथ माइक्रोमैक्स ने किया था, वही काम चीनी कंपनियों के फोन माइक्रोमैक्स के साथ करने लगे थे। सैमसंग का ग्राहक कभी उससे दूर नहीं हुआ बस जेब को देख कर माइक्रोमैक्स की ओर आकर्षित हुआ था। लेकिन चीनी कंपनियों ने तो जैसे माइक्रोमैक्स को रिप्लेस ही कर दिया। क्वालिटी में भी भी और दाम में भी।

चीन से बैर ने उभारी माइक्रोमैक्स की नैया

जब चीनी कंपनियों को लेकर भारत सरकार ने सख्त रवैया अपनाया, तब लोगों को माइक्रोमैक्स की दोबारा याद आई। ‘आत्मनिर्भर भारत’ को बढ़ावा देने व चीन का बहिष्कार करने के लिए लोगों ने माइक्रोमैक्स को टैग करके ये कहना शुरू किया कि वह चीनी मोबाइलों का विकल्प ले कर आएँ।

ये प्रतिक्रिया माइक्रोमैक्स की डूबती नैया को किनारा देने के लिए पर्याप्त थी। माइक्रोमैक्स ने 17 जून 2020 को एक यूजर को रिप्लाई देते हुए कहा था कि वोकल फॉर लोकल के लिए आपका समर्थन देख कर हमें खुशी हुई। हम बहुत मेहनत कर रहे हैं और जल्द ही कुछ बड़े के साथ आएँगे।

इस घोषणा के चंद महीनों बाद ही माइक्रोमैक्स नए रूप के साथ बाजार में लौट आया। अपनी In मोबाइल के बारे में बताते हुए कंपनी ने अपने पहले के माइक्रोमैक्स और अब के माइक्रोमैक्स डिवाइस में फर्क दिखाया। नए डिवाइस में यूज किया गया In इंडिया को रिप्रजेंट करता है।

इस मोबाइल को वैसे तो लॉन्च 3 नवंबर 2020 को किया जा चुका है लेकिन 1 दिसंबर को फ्लिपकार्ट और वेबसाइट http://micromaxinfo.com पर इसकी सेल दोपहर ऑनलाइन 12 बजे होगी। इस बार भी कंपनी ने ग्राहकों की जेब और जरूरत देखकर अपने फोन को लॉन्च किया है। इससे पहले इसकी सेल 24 नवंबर को हुई थी।

In Note 1 बाय माइक्रोमैक्स को दो वेरिएंट्स में लॉन्च किया गया है। इस फोन के 4GB रैम 64GB स्टोरेज वाले वेरिएंट की कीमत 10,999 रुपए तय की गई है। वहीं दूसरे 4GB रैम और 128GB स्टोरेज वेरिएंट को 12,499 रुपए में खरीदा जा सकेगा।

Micromax IN Note 1 Sells Out Within Minutes Of Going On Sale

माइक्रोमैक्स ने अपने in फोन में कैमरे में खास ध्यान दिया है। इसके AI क्वॉड कैमरा (चार कैमरों का सेटअप) सेटअप दिया गया है, जिसमें 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा सेंसर मिलेगा। वहीं मॉड्यूल में 5 मेगापिक्सल का अल्ट्रा-वाइड, 2 मेगापिक्सल का मैक्रो और 2 मेगापिक्सल डेप्थ सेंसर भी दिया गया है। सेल्फी के लिए फोन में 16 मेगापिक्सल का कैमरा है। बैटरी पावर के लिए फोन में 5000mAh की दमदार बैटरी दी गई है जो कि 18W के फास्ट चार्जिंग सपोर्ट के साथ आएगी।

डिस्प्ले इसका 6.67 इंच का IPD LCD डिस्प्ले फुल HD+ रेजोलूशन के साथ दिया गया है। खास बात ये है कि ये फोन MediaTek Helio G85 प्रोसेसर से लैस है। वहीं प्रोसेसर की बात करें तो नए फोन में एंड्रॉयड 10 ऑपरेटिंग सिस्टम दिया गया है और इसे अगले दो साल में एंड्रॉयड 11 और एंड्रॉयड 12 अपडेट दिया जाएगा।

अब भारतीयों की ओर से चायनीज कंपनी के बहिष्कार का एक नजारा हम पिछले कुछ महीनों में कई एप्स और उत्पादों पर देख ही चुके हैं। लेकिन 24 नवंबर को सेल पर लगे इस फोन ने भी यह साबित किया कि भारतीय वाकई वोकल और लोकल को सपोर्ट करने के लिए आगे आ रहे हैं जिसके चलते यह फोन 30 मिनट के अंदर सोल्ड आउट हो गया।

भारत के इस प्यार को देख माइक्रोमैक्स भी भावनाएँ प्रकट करने से नहीं रुक पाया। उन्होंने लिखा, “इंडिया ने अपना प्यार दिखा दिया। धन्यवाद IN for India के लिए और दिल से हमारे स्वागत के लिए। अब अगले हफ्ते आएँगे, 1 दिसंबर को 12 बजे और अधिक स्टॉक के साथ।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आरोग्य सेतु’ डाउनलोड करने की शर्त पर उमर खालिद को जमानत, पर जेल से बाहर ​नहीं निकल पाएगा दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों का...

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को जमानत मिल गई है। लेकिन फिलहाल वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएगा। जाने क्यों?

कोरोना से जंग में मुकेश अंबानी ने गुजरात की रिफाइनरी का खोला दरवाजा, फ्री में महाराष्ट्र को दे रहे ऑक्सीजन

मुकेश अंबानी ने अपनी रिफाइनरी की ऑक्सीजन की सप्लाई अस्पतालों को मुफ्त में शुरू की है। महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

कोरोना पर कुंभ और दूसरे राज्यों को कोसा, खुद रोड शो कर जुटाई भीड़: संजय राउत भी निकले ‘नॉटी’

संजय राउत ने महाराष्ट्र में कोरोना के भयावह हालात के लिए दूसरे राज्यों को कोसा था। कुंभ पर निशाना साधा था। अब वे खुद रोड शो कर भीड़ जुटाते पकड़े गए हैं।

‘वीडियो और तस्वीरों ने कोर्ट की अंतरात्मा को हिला दिया है…’: दिल्ली दंगों में पिस्टल लहराने वाले शाहरुख को जमानत नहीं

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली दंगों के आरोपित शाहरुख पठान को जमानत देने से इनकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,218FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe