Friday, May 24, 2024
Homeदेश-समाजहिंदुओं की तुलना कुत्ते से करने वाले मौलाना सलमान अजहरी के खिलाफ तीसरा मामला...

हिंदुओं की तुलना कुत्ते से करने वाले मौलाना सलमान अजहरी के खिलाफ तीसरा मामला दर्ज, जमानत मिलते ही फिर गिरफ्तार करेगी गुजरात पुलिस

भड़काऊ भाषण देने के मामले में विवादित मौलाना मुफ्ती सलमान अजहरी के खिलाफ तीसरा मामला दर्ज किया गया है। अजहरी के खिलाफ यह मामला अरावली जिले के मोडासा टाउन पुलिस स्टेशन में दर्ज किया गया है। अजहरी ने पिछले साल दिसंबर में मोडासा में एक सभा की थी, जिसमें उन्होंने भड़काऊ भाषण दिया था।

भड़काऊ भाषण देने के मामले में विवादित मौलाना मुफ्ती सलमान अजहरी के खिलाफ तीसरा मामला दर्ज किया गया है। अजहरी के खिलाफ यह मामला अरावली जिले के मोडासा टाउन पुलिस स्टेशन में दर्ज किया गया है। अजहरी ने पिछले साल दिसंबर में मोडासा में एक सभा की थी, जिसमें उन्होंने भड़काऊ भाषण दिया था।

दरअसल, अजहरी ने 24 दिसंबर 2023 को मोडासा में भाषण दिया था। यह मुकदमा पुलिस ने खुद दर्ज कराई है। आरोपियों में मुफ्ती सलमान अजहरी के अलावा आयोजक इशाक का नाम भी शामिल है। इस दौरान बेहद उत्तेजक भाषण दिए गए थे। आरोपितों के खिलाफ एट्रोसिटी ऐक्ट (Atrocity Act) की धाराएँ भी लगाई गई हैं।

इसके पहले अजहरी के खिलाफ एक मामला गुजरात के जूनागढ़ और एक मामला कच्छ में दर्ज में पहले ही दर्ज किया जा चुका है। जूनागढ़ के मामले में गिरफ्तारी के बाद मुफ्ती सलमान अजहरी को एक दिन की रिमांड पर जेल भेजा गया था। हालाँकि, जूनागढ़ कोर्ट ने बुधवार (7 फरवरी) को उसे जमानत दे दी।

जमानत मिलते ही कच्छ पुलिस ने अजहरी को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद कच्छ पुलिस ने उसे गुरुवार (8 फरवरी 2024) को कोर्ट में पेश किया, जहाँ उसे 3 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। मुफ्ती सलमान अजहरी फिलहाल पुलिस हिरासत में है।

अब यह लगभग साफ हो चुका है कि यदि अजहरी को कच्छ मामले में जमानत मिलती है तो पुलिस उसे अरावली मामले में गिरफ्तार करेगी। उसके बाद उसे कोर्ट में पेश करके रिमांड माँगेगी। इस बीच गुजरात पुलिस का आतंकवाद निरोधक दस्ता (ATS) मुफ्ती सलमान अज़हर द्वारा संचालित तीनों ट्रस्टों की फंडिंग की भी जाँच कर रहा है।

अजहरी को गुजरात पुलिस ने मुंबई में उनके घाटकोपर स्थित आवास से उठाया था। इसके बाद उनके समर्थकों ने बवाल कर दिया था और सड़क को रोक दिया था। इतना ही नहीं, बड़ी संख्या में स्थानीय मुस्लिम अजहरी के समर्थन में पुलिस स्टेशन में जमा हो गए थे। हालाँकि, बाद में पुलिस अजहरी को लेकर जूनागढ़ ले गई।

मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि मौलाना सलमान अजहरी के खिलाफ मुंबई में भी एक मामला दर्ज कर लिया गया है। मुंबई में उसके साथ ही दो और लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया है। मुंबई में मौलाना के खिलाफ धारा 153(C), 505(2), 188 और 114 के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया है।

दरअसल, गुजरात में अपने भाषण के दौरान सलमान अजहरी ने बेहद भड़काऊ भाषण दिया था। उसने अपने भाषण में कहा था, “मस्जिद में बुत रखने से मस्जिद बुतखाना नहीं बन जाती। तुमने एक रखा है। काबा में 360 रखे थे, फिर भी काबा तो काबा ही रहा, न तवाफ रुका, न हज रुका। इंकलाब आपके घर से होगा।”

उसने हिंदुओं की तुलना कुत्तों से करते हुए आगे कहा था, “उनमें मस्जिदों को बुतखाना बनाने की हिम्मत नहीं है। आपने मस्जिदों को वीरान छोड़ दिया है और हमारे यहाँ मुहावरा है कि जब मैदान खुला होता है तो कुत्तों का राज होता है। यदि तुम मैदान में घूमते रहोगे तो कोई कुत्ते नहीं होंगे।”

भाषण के अंत में उसने कहा था, ”मुसलमानों घबराओ मत, अभी खुदा की शान बाकी है। अभी इस्लाम जिंदा है, अभी कुरान बाकी है, ऐ जालिम काफिर क्या समझता है जो रोज हमसे उलझता है, अभी तो कर्बला का आखिरी मैदान बाकी है। कुछ देर की खामोशी है, किनारा आएगा… आज कुत्तों का वक्त है, कल हमारा दौर आएगा।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने बहिष्कार किया’: बोले PM मोदी – इन्होंने भारतीयों पर मढ़ा...

प्रधानमंत्री ने स्पष्ट ऐलान किया कि अब यह देश न आँख झुकाकर बात करेगा और न ही आँख उठाकर बात करेगा, यह देश अब आँख मिलाकर बात करेगा।

कॉन्ग्रेस नेता को ED से राहत, खालिस्तानियों को जमानत… जानिए कौन हैं हिन्दुओं पर हमले के 18 इस्लामी आरोपितों को छोड़ने वाले HC जज...

नवंबर 2023 में जब राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी चरम पर थी, जब जस्टिस फरजंद अली ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार मेवाराम जैन को ED से राहत दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -