Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजबिहार में 19 साल की लड़की का पिता के सामने गैंगरेप; फैज, अब्दुल, कालू,...

बिहार में 19 साल की लड़की का पिता के सामने गैंगरेप; फैज, अब्दुल, कालू, कासिम, तकसीर और अंसार आरोपित

इनमें से दो आरोपित बिजली मिस्त्री का काम करते हैं, और इन्होंने ही पानी के बहाने पीड़ित परिवार के घर का दरवाज़ा खुलवाया था।

बिहार के किशनगंज जिले में एक लड़की के साथ पिता के सामने 6 युवकों ने गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया। कोधोबड़ी थाना क्षेत्र में आरोपितों ने लड़की के पिता को बाँध कर उसकी 19 साल की बेटी के साथ गैंगरेप किया।

पीड़िता के पिता ने बताया, “कुछ लोगों ने देर रात पानी के बहाने उनके घर का गेट खुलवाया और उसके बाद उन्हें बंधक बनाकर गाँव से बाहर लेकर चले गए। उन्होंने कहा कि गाँव से बाहर ले जाकर दबंगों ने मुझे रस्सी से बाँध कर मेरे सामने मेरी बेटी का गैंगरेप किया।”

पीड़ित परिवार हाल ही उस गाँव में आकर रहने लगा था। पीड़िता के पिता ने थाने पहुँचकर आरोपितों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज करवाया है। आरोपितों ने पीड़ित परिवार को मुक़दमा लिखाने पर जान से मारने की धमकी भी दी थी। पीड़िता के पिता ने बताया कि सभी आरोपी गाँव के ही रहने वाले हैं, इनमें फैज आलम, अब्दुल मन्नान, कालू, कासिम, तकसीर और अंसार शामिल हैं। इनमें से दो आरोपित बिजली मिस्त्री का काम करते हैं, और इन्होंने ही पानी के बहाने पीड़ित परिवार के घर का दरवाज़ा खुलवाया था।

फ़िलहाल पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए आरोपितों की गिरफ़्तारी के लिए जगह-जगह छापेमारी कर रही है। घटनास्थल पर पहुँचे एसपी कुमार आशीष ने कहा कि जल्द आरोपितों को गिरफ़्तार किया जाएगा, और उनके ख़िलाफ़ स्पीडी ट्रायल चलाया जाएगा। एसपी ने कहा कि गाँव वालों ने शुरुआत में पीड़िता और उसके पिता को पंचायत के जरिए मामले को निपटाने के लिए मनाया था, लेकिन अब मामला दर्ज करते हुए हमने लड़की को मेडिकल के लिए भेज दिया है।

क्या कहते हैं अपराध से जुड़े ये आँकड़े?

आँकड़ों के हिसाब से बिहार में, लालू के राज की तुलना में अभी अपराध पर बहुत हद तक लगाम लगी है, 2001-05 के बीच कुल मिलाकर जहाँ 18,189 हत्याएँ बिहार में हुई थी, वहीं 2014-18 के बीच हत्याओं के आँकड़ों में 25% की गिरावट देखी गई है।

इसी तरह लूट और रोड डकैती के मामले में नीतीश सरकार में क्रमशः 55% और 43% की गिरावट आई है। लेकिन बलात्कार के मामलों में 23% की वृद्धि देखी गई है, और इस पर लगाम नहीं लगा तो ऐसे अपराध सरकार के लिए चिंता का सबब बन सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सबको नहीं मारा, भाग्यशाली हैं… अब आए तो सबको मार देंगे’ – असम पुलिस को खुलेआम धमकी देने वाले मिजोरम सांसद दिल्ली से ‘गायब’

वनलालवेना ने ने कहा था, ''वे भाग्यशाली हैं कि हमने उन सभी को नहीं मारा। यदि वे फिर आएँगे, तो हम उन सबको मार डालेंगे।''

‘वेब सीरीज में काम के बहाने बुलाया, 3 बौनों ने कपड़े उतार किया यौन शोषण’: गहना वशिष्ठ ने दायर की अग्रिम जमानत याचिका

'ग्रीन पार्क बंगलो' में शूट हो रही इस फिल्म की डायरेक्टर-प्रोड्यूसर गहना वशिष्ठ थीं। महिला ने बताया कि शूटिंग के दौरान तीन बौनों ने उनके कपड़े हटा दिए और उनका यौन शोषण किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,163FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe